"दोहावली" नमन शहीदों को नमन, नमन हिंद के वीर। हर हालत से निपटते, आप कुशल रणधीर।।

22 फरवरी 2019   |  महातम मिश्रा   (60 बार पढ़ा जा चुका है)

"दोहावली"


नमन शहीदों को नमन, नमन हिंद के वीर।

हर हालत से निपटते, आप कुशल रणधीर।।-1

नतमस्तक यह देश है, आप दिए बलिदान।

गर्व युगों से आप पर, करता भारत मान।।-2

रुदन करे मेरी कलम, नयन हो रहे लाल।

शब्द नहीं निःशब्द हूँ, कौन वीर का काल।।-3

राजनयिक जी सभा में, करते हो संग्राम।

जाओ सीमा पर लड़ो, खुश होगी आवाम।।-4

वोट माँगने के लिए, अब मत आना गाँव।

देखो बिन अपराध के, उजड़ रहे हैं छाँव।।-5

बेमानी होगी बहुत, गर हम चूके आज।

बिना बताए टूटिये, जैसे टूटे बाज।।-6

दुश्मन जब शैतान हो, तब मत बाँचो नीति।

खंडित-रंजित सिर करो, यही सत्य की रीति।।-7

बहुत ले लिया प्रण सपथ, बहुत किया व्यवहार।

पाक पातकी देश है, हो उसका उपचार।।-8

कई बार वादा हुआ, कई बार संकल्प।

बदला लेंगे पाक से, मिल तो जाय विकल्प।।-9

बहुत कष्ट की बात है, होते वीर शहीद।

बिना युद्ध की आहुती, देते लखन हमीद।।-10

देखो उस घर को तनिक, जहाँ पार्थिव देह।

रिश्ते लिपट मसोसते, उजड़ा विधवा गेह।।-11

सुन-सुन कर छाती फटी, हृदय हुआ बेचैन।

री सीमा कैसी खबर, बाँच रहे हैं नैन।।-12

वीर जवानों की दशा, किसने किया खराब।

किसने आँखों में भरा, बिन दरिया के आब।।-13

बूँद-बूँद में तपिश है, कण-कण में भूचाल।

लगता फटने को विकल, ज्वालामुखी मलाल।।-14

एक घाव सूखा नहीं, दूजा है तैयार।

रे भारत के वीर अब, जा घर में घुस मार।।-15

नहीं सुधरते हैं कभी, जल्लादों के गाँव।

कहाँ पाक के पास है, नीयत नेकी छाँव।।-16

पाक न खुद का हो सका, मिली उसे हर छूट

बस इतना वह जानता, मार-काट अरु लूट।।-17

कीचड़ में जो जीव है, उसे न लाभ न हानि।

जीता है पी गंदगी, मरता है गति जानि।।-18

रेंग रहा है पातकी, कहता यही नसीब।

भार धरा का बन गया, पाकिस्तान अजीब।।-19

मानव का चोला लिए, घूम रहा हैवान।

कहता ईश्वर की कसम, मैं भी हूँ इंसान।।-20


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी


अगला लेख: चतुष्पदी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 मार्च 2019
छं
महिला दिवस को समर्पित"छंद मुक्त काव्य"महिला का मनसुंदर मधुवनतिरछी चितवननख-सिख कोमलता फूलों सीसर्वस्व त्याग करने वालीकाँटों के बिच रह मुसुकाएमानो मधुमास फाग गाए।।महिला सप्तरंगी वर्णी हैप्रति रंग खिलाती तरुणी हैगृहस्त नाव वैतरणी हैकल-कल बहती है नदियों सीहर बूँद जतन करने वालीनैनों से सागर छलकाएबिनु पान
06 मार्च 2019
21 फरवरी 2019
हा
"हाइकु" ठंड सीलनऋतु की सिहरनठिठुरे हाथ।।-1सूरज छुपानैन होठ कंपनआँख मिचौली।।-2जमता पानीबर्फ जैसी चादरपग कंपन।।-3महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
21 फरवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
मु
01 मार्च 2019
मु
27 फरवरी 2019
28 फरवरी 2019
मु
08 मार्च 2019
27 फरवरी 2019
कु
07 मार्च 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x