प्यार ही डसने लगा

28 फरवरी 2019   |  विजय कुमार तिवारी   (75 बार पढ़ा जा चुका है)

प्यार ही डंसने लगा

विजय कुमार तिवारी


तुम चले गये,जिन्दगी में क्या रहा?

हो गये अपने पराये,आईना छलने लगा।


तुम चले गये,जिन्दगी में क्या रहा?


हर हवा तूफान सी,झकझोर देती जिन्दगी,

धुंध में खोया रहा,पतवार भी डुबने लगा।


तुम चले गये,जिन्दगी में क्या रहा?


चाँद तारे छुप गये हैं,दर्द के शैलाब में,

ढल गया दिल का उजाला,हर दिया बुझने लगा।


तुम चले गये,जिन्दगी में क्या रहा?


रुक गयी है रागिनी,मौसम बिखरता ही गया,

खो गयी थिरकन कहीं,अब प्यार ही डंसने लगा।


तुम चले गये,जिन्दगी में क्या रहा?


अगला लेख: प्रश्न कीजिये



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
15 फरवरी 2019
<!--[if gte mso 9]><xml> <w:WordDocument> <w:View>Normal</w:View> <w:Zoom>0</w:Zoom> <w:TrackMoves/> <w:TrackFormatting/> <w:PunctuationKerning/> <w:ValidateAgainstSchemas/> <w:SaveIfXMLInvalid>false</w:SaveIfXMLInvalid> <w:IgnoreMixedContent>false</w:IgnoreMixedContent> <w:AlwaysShowPlaceh
15 फरवरी 2019
21 फरवरी 2019
कवितापहली मुलाकातविजय कुमार तिवारीयह हठ था या जीवन का कोई विराट दर्शन,या मुकुलित मन की चंचल हलचल?रवि की सुनहरी किरणें जागी,बहा मलय का मधुर मस्त सा झोंका,हुई सुवासित डाली डाली, जागी कोई मधुर कल्पना।शशि लौट चुका थानिज चन्द्रिका-पंख समेटे। उमग रहे थे भौरे फूलों कलियों में,मधुर सुनहले आलिंगन की चाह संजो
21 फरवरी 2019
25 फरवरी 2019
ला
मिलन की आरजू पे डर ज़माने का जो भारी हैतेरी मेरी मुहब्बत में अजब सी कुछ लाचारी हैदोस्तों दोस्ती मुझको तो बस टुकडों में मिल पाईबड़ी तन्हा सी मैंने ज़िन्दगी अब तक गुज़ारी हैभले तुम अजनबी से अब तो मुझसे पेश आते होतेरी सूरत ही मैंने देख ले दिल में उतारी हैभुलाना भी तुम्हें अब तो कभी आसां नहीं लगता मेरे
25 फरवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x