प्यार ही डसने लगा

28 फरवरी 2019   |  विजय कुमार तिवारी   (59 बार पढ़ा जा चुका है)

प्यार ही डंसने लगा

विजय कुमार तिवारी


तुम चले गये,जिन्दगी में क्या रहा?

हो गये अपने पराये,आईना छलने लगा।


तुम चले गये,जिन्दगी में क्या रहा?


हर हवा तूफान सी,झकझोर देती जिन्दगी,

धुंध में खोया रहा,पतवार भी डुबने लगा।


तुम चले गये,जिन्दगी में क्या रहा?


चाँद तारे छुप गये हैं,दर्द के शैलाब में,

ढल गया दिल का उजाला,हर दिया बुझने लगा।


तुम चले गये,जिन्दगी में क्या रहा?


रुक गयी है रागिनी,मौसम बिखरता ही गया,

खो गयी थिरकन कहीं,अब प्यार ही डंसने लगा।


तुम चले गये,जिन्दगी में क्या रहा?


अगला लेख: प्रश्न कीजिये



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
06 मार्च 2019
दोस्तों हम आपके लिए बेस्ट लाइन फॉर लाइफ इन हिंदी (best line for life in hindi) में लाए है और ये उम्मीद करते है कि ये कोट्स आपके जीवन में किसी भी लक्ष्य को पाने के लिए प्रेरक के तौर पर काम करेगा। अक्सर कई
06 मार्च 2019
25 फरवरी 2019
ला
मिलन की आरजू पे डर ज़माने का जो भारी हैतेरी मेरी मुहब्बत में अजब सी कुछ लाचारी हैदोस्तों दोस्ती मुझको तो बस टुकडों में मिल पाईबड़ी तन्हा सी मैंने ज़िन्दगी अब तक गुज़ारी हैभले तुम अजनबी से अब तो मुझसे पेश आते होतेरी सूरत ही मैंने देख ले दिल में उतारी हैभुलाना भी तुम्हें अब तो कभी आसां नहीं लगता मेरे
25 फरवरी 2019
05 मार्च 2019
प्
प्रश्न कीजिएविजय कुमार तिवारीबच्चा जैसे ही अपने आसपास को देखना शुरु करता है उसके मन में प्रश्न कुलबुलाने लगते हैं।वह जानना चाहता है,समझना चाहता है और पूछना चाहता है।जब तक बोलने नहीं सीख जाता,व्यक्त करने नहीं सीख जाता,उसके प्रश्न संकेतों में उभरते हैं।उसे यह धरती,यह आकाश,य
05 मार्च 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
28 फरवरी 2019
15 फरवरी 2019
15 फरवरी 2019
ना
25 फरवरी 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x