प्यार ही डसने लगा

28 फरवरी 2019   |  विजय कुमार तिवारी   (94 बार पढ़ा जा चुका है)

प्यार ही डंसने लगा

विजय कुमार तिवारी


तुम चले गये,जिन्दगी में क्या रहा?

हो गये अपने पराये,आईना छलने लगा।


तुम चले गये,जिन्दगी में क्या रहा?


हर हवा तूफान सी,झकझोर देती जिन्दगी,

धुंध में खोया रहा,पतवार भी डुबने लगा।


तुम चले गये,जिन्दगी में क्या रहा?


चाँद तारे छुप गये हैं,दर्द के शैलाब में,

ढल गया दिल का उजाला,हर दिया बुझने लगा।


तुम चले गये,जिन्दगी में क्या रहा?


रुक गयी है रागिनी,मौसम बिखरता ही गया,

खो गयी थिरकन कहीं,अब प्यार ही डंसने लगा।


तुम चले गये,जिन्दगी में क्या रहा?


अगला लेख: प्रश्न कीजिये



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 फरवरी 2019
मे
मुझे तू प्यार करता है तो मैं सिमटी सी जाती हूँखुशी से झूम उठती हूँ लाज संग मुस्कुराती हूँमेरे मन में उमंगों का बड़ा सा ज्वार उठता हैमगर मैं हाले दिल तुमको नहीं खुलकर बताती हूँमेरे हर क़तरे क़तरे में तेरी छवियां समाई हैमगर न जाने क्यों मैं प्यार अपना न जताती हूँनज़र लग जाए न अपनी मुहब्बत को कभी जग की
25 फरवरी 2019
05 मार्च 2019
प्
प्रश्न कीजिएविजय कुमार तिवारीबच्चा जैसे ही अपने आसपास को देखना शुरु करता है उसके मन में प्रश्न कुलबुलाने लगते हैं।वह जानना चाहता है,समझना चाहता है और पूछना चाहता है।जब तक बोलने नहीं सीख जाता,व्यक्त करने नहीं सीख जाता,उसके प्रश्न संकेतों में उभरते हैं।उसे यह धरती,यह आकाश,य
05 मार्च 2019
15 फरवरी 2019
दर्द जाने क्या दर्द से मेरा रिश्ता है!?!जब भी मिलता है बड़ी फ़ुर्सत से मिलता है||
15 फरवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x