हार्दिक अभिनन्दन !

01 मार्च 2019   |  रेणु   (136 बार पढ़ा जा चुका है)

 हार्दिक अभिनन्दन  !

वीर अभिनन्दन ! हार्दिक अभिनन्दन !

तुम्हारे शौर्य को कोटि वन्दन !


पुलकित , गर्वित माँ भारती -

तुम्हारे निर्भीक पराक्रम से ,

मृत्यु - भय से हुए ना विचलित -

ना चूके संयम से ;

सिंह पुत्र तुम जननी के

सहमा शत्रु नराधम !!


शत्रु भूमि पर जा देखो -

मातृभूमि का मान बढ़ाया ,

अर्जित की अखंड कीर्ति -

ना पीछे कदम हटाया ;

मान मर्दन किया पापी का

रहा अडिग हिमालय सा तन !!


कोटि नैन बिछे पथ में-

स्वागत को आज तुम्हारे .

एक कुटुंब सा जुटा राष्ट्र -

अपलक तुम्हे निहारे ;

तुम्हारा यश रहे अमर जग में-

पुकार रहा यही जन - जन !!!!!!!

स्वरचित -- रेणु

चित्र --गूगल से साभार --

कृपया मेरे ब्लॉग पर पधारे ---

क्षितिज ---- renuskshitij.blospot.com

मीमांसा --- mimansarenu550.blogspot.com


अगला लेख: लौटा माटी का लाल



आलोक सिन्हा
05 मार्च 2019

अच्छी रचना है |

रेणु
09 मार्च 2019

सादर आभार आदरणीय आलोक जी

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 फरवरी 2019
18 फरवरी 2019
16 फरवरी 2019
गूंजी मातमी धुन लुटा यौवन तन सजा तिरंगा लौटा माटी का लाल माटी में मिल जाने को ! इतराया था एक दिन तन पहन के खाकी चला वतन की राह ना कोई चाह थी बाकी चुकाने दूध का कर्ज़ पिताका मान बढाने को ! लौटा माटी का लाल माटी में मिल जाने को !!रचा चक्रव्यूह शिखंडी शत्रु ने छुपके घात लगाई कु
16 फरवरी 2019
24 फरवरी 2019
मैं ना तो हिन्दू हूँ ना ही हिंदुत्व में विश्वास रखता हूँ. मैं सनातनी हूँ और सनातन धर्म का पालन करता हूँ. सनातन धर्म जो सृष्टि के आरम्भ से हैं और सृष्टि के अंत तक रहेगा. गर्व से कहो कि मैं सनातनी हूँ. सनातन में सब कुछ समा जात
24 फरवरी 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
ला
25 फरवरी 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x