"आतंकवाद जहाँ "

01 मार्च 2019   |  सुखमंगल सिंह   (59 बार पढ़ा जा चुका है)

"आतंकवाद जहाँ "
--------------------
सिर - बांधे लाल पगड़िया
दुनिया को बताएगा
तेरी करतूतों - कहर
तुझको ही समझायेगा |

गांती बांधे चलता था
दुनिया पर कहर वर्षाया
मैं! बातों से समझाता
सब मिलजुल लतियायेंगे |

धरा - अमन सभी चाहते
कसमें सभीने खाई इ
हर्षित रहते सारे बच्चे
कौन तुझे समझायेगा |

काश्मीर केवल बहाना
दिल दुनिया का दुखाये
हंसती खेलती जिंदगी
तुमने बम वर्षाये हो |

त्राल शहर कहर मचाया
अफ्रीका मिले अबू बकर
सीरिया में युद्ध कराता
ईरान- रार मचाये हो |

अफगानी- अमेरिकी मार?
घाव नाइजीरिया किया
यमन आतंक मचाते
पाक - युद्ध कराते हो |

लीबिया - तीन सौ तैतीस
मार ,कदम ,सोमालिया
आतंकवाद फैलाये हो
तुर्की को घायल करता
मीडिया सामने आये हो |

सिर बांधे लाल पगड़िया
दुनिया को जगायेगा
तेरी करतूतों - कहर
तुझको ही समझायेगा | |
- सुखमंगल सिंह

अगला लेख: पुलवामा में CRPF जवानों पर हमले को लेकर गुस्से में देश “निंदा नहीं चाहिए अब एक भी आतंकी ज़िंदा नहीं चाहिए” की मांग



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x