सच कहाँ हैं?

05 मार्च 2019   |  जानू नागर   (53 बार पढ़ा जा चुका है)

सच कहाँ हैं?

कब्रिस्तान मे राख़ नहीं मिलती, मिट्टी-मिट्टी मे दफन हो जाती हैं लाशे।

समशान मे हैं राख़,एक चिंगारी से आग लगकर शांत हो जाती चिताए।

लौट जाते हैं वह लोग, ख्वाबों के समुंदर मे भ्रमित गोते लगाते हुए।

दफन हो जाना, भसम हो जाना,ताबबूतों मे सिमट कर रह जाना अंत हैं।

यह सारा दृश्य, आंखो की पालको को भिंगोते हुए आँसूओं मे बह जाता हैं।

करुणा को संभालना, करुणा मे बह जाना इस जहाँ के इंसान को आता हैं।

लाशों के सामने आँसू न सही सर तो जानवर भी झुका कर ठहर जाता हैं।

हवा मे पंक्षी भी उड़ान भरते हैं, सरहदों को पार करने के लिए।

वह भी लौट आते हैं सरहदों से अपनी सर जमी मे, मौसामों की तरह।

उड़ना, फुदकना नीले आसमान मे ऊंचे-ऊंचे गोते लगाना उनकी पहचान हैं।

न उनकी लाशे दफन होती हैं, न चिताए जलती हैं समशानो मे इंसानों की तरह।

अगला लेख: भाषा ने जो कहा।



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x