कोई उसकी फिक्र क्यों नहीं करता ?

05 मार्च 2019   |  आयेशा मेहता   (25 बार पढ़ा जा चुका है)

कोई उसकी फिक्र क्यों नहीं करता ?  - शब्द (shabd.in)

आजकल वो लड़की बड़ी गुमसुम सी रहती है ,

हमेशा बेफिक्र रहने वाली ,

आजकल कुछ तो फिक्र में रहती है ा

अल्हड़ सी वो लड़की ,

हर बात पर बेबाक हंसने वाली ,

आजकल चुप-चुप सी रहती है ा

आँखों में मस्ती , चेहरे पर नादानी ,

खुद में ही अलमस्त रहने वाली ,

हमेशा आसमान में उड़ने की बात करती थी ,

आज वो जमीन से लिपट कर रो रही थी ा

कुछ तो हुआ होगा उस रात ,

शायद कुछ भयावह घटित हुआ होगा उसके साथ ,

जो उसकी आवाज़ ही निगल गया है ,

जीने की चाहत ही छीन लिया है ,

लेकिन कोई उसकी खबर क्यों नहीं लेता ,

कोई उसकी तबियत क्यों नहीं पूछता ,

मुझे बहुत फिक्र हो रही थी की ,

कोई उसकी फिक्र क्यों नहीं करता ा

अगला लेख: शायरी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 फरवरी 2019
मे
मुझे तू प्यार करता है तो मैं सिमटी सी जाती हूँखुशी से झूम उठती हूँ लाज संग मुस्कुराती हूँमेरे मन में उमंगों का बड़ा सा ज्वार उठता हैमगर मैं हाले दिल तुमको नहीं खुलकर बताती हूँमेरे हर क़तरे क़तरे में तेरी छवियां समाई हैमगर न जाने क्यों मैं प्यार अपना न जताती हूँनज़र लग जाए न अपनी मुहब्बत को कभी जग की
25 फरवरी 2019
10 मार्च 2019
जो बात छिपाए हो तुम होठों में कहीं , आज नैनों को सब कहने दो न , कई जन्मों से प्यासी है ये निगाहें , आज मेरी जुल्फों में ही रह लो न ा एक लम्हा जो नहीं कटता तेरे बिन ,उम्र कैसा कटेगा तुम बिन वो साथिया ,छ
10 मार्च 2019
12 मार्च 2019
मे
किसी ने उसे हिंदु बताया,किसी ने कहा वो मुसलमान था,खुद को मौत की सजा सुनाई जिसने,वो मेरे देश का किसान था।जिसकी उम्मीदाें से कहीं नीचा आसमान था,मुरझाकर भी उसका हौंसला बलवान था,जब वक्त ने भी हिम्मत और आस छोड़ दी,उस वक्त भी वो अपने हालातों का सुल्तान था।किस्मत उसकी हारी हुई बाजी का फरमान था,बिना मांस की
12 मार्च 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x