सच कहूँ तो आज बाबा की मजबूरी सी हूँ

16 मार्च 2019   |  आयेशा मेहता   (75 बार पढ़ा जा चुका है)

सच कहूँ तो आज बाबा की मजबूरी सी हूँ

आज फिर मैं बोझ सी लगी हूँ ,

यूँ तो मैं बाबा की गुड़िया रानी हूँ ,

पर सच कहाँ बदलता है झूठे दिल्लासों से ,

सच कहूँ तो आज बाबा की मजबूरी सी हूँ ा

उनके माथे की सिलवटें बता रही है ,

कितने चिंतित है मगर जताते नहीं है वो ,

अपनी गुड़िया को एक गुड्डा दिलाने के लिए ,

घनी दोपहरी में पाई - पाई जोड़ रहे है वो ा

मैं कैसे समझाऊँ बाबा को

खुशियाँ नहीं खरीदी जाती कीमतों से ,

जो खुद सरेआम बिक गया हो बाजार में ,

वो क्या समझेगा उनके बिटिया के जज्बात को ा

क्यों मेरी झूठी खुशियों के लिए ,

गैरों के सामने अपना हाथ फैलाते हो ,

आपने ही मुझे सिखाया सर उठा कर जीना ,

फिर आज क्यों अपनी पगड़ी किसी के पाँव में रखते हो

बाबा एक बात सुनो मेरी ,

मेरी खुशियाँ उस बिकाऊ गुड्डे में नहीं है ,

मेरी तो जान बाबा आप में बस्ती है ा

अगला लेख: शायरी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 मार्च 2019
वि
कविताविज्ञापनविजय कुमार तिवारीजागते ही खोजती है अखबार,झुँझलाती है-कि जल्दी क्यों नहीं दे जाता अखबार। अखबार में खोजती है-नौकरियों के विज्ञापन। पतली-पतली अंगुलियों से,एक -एक शब्द को छूती हुई,हर पंक्ति पर दृष्टि जमाये,पहुँच जाती है अंतिम शब्द तक। गहरा निःश्वांस छोड़ती है
22 मार्च 2019
16 मार्च 2019
मैं करती हूँनृत्यदोनों हाथ ऊपरउठाकर, आकाश की ओरभर लेने कोसारा आकाश अपने हाथों में |चक्राकार घूमतीहूँ कई आवर्तनघूमती हूँ गतों और परनोंके, तोड़ों और तिहाइयों के |घूमते घूमते बनजाती हूँ बिन्दु हो जाने को एक ब्रह्माण्ड केउस चक्र के साथ |खोलती हूँ अपनीहथेलियों को ऊपर की ओर बनाती हूँनृत्य की एक मुद्रादेने
16 मार्च 2019
07 मार्च 2019
#नारी - हिम्मत कर हुंकार तू भर ले#नारी के हालात नहीं बदले,हालात अभी, जैसे थे पहले,द्रौपदी अहिल्या या हो सीता,इन सब की चीत्कार तू सुन ले। राम-कृष्ण अब ना आने वाले,अपनी रक्षा अब खुद तू कर ले,सतयुग, त्रेता, द्वापर युग बीता,कलयुग में अपनी रूप बदल ले।लक्ष्य कठिन है, फिर भी
07 मार्च 2019
31 मार्च 2019
ये वही जगह है जहाँ पहली दफा मैं उससे मिली थी , हर शाम की तरह उस शाम भी मैं अपनी तन्हाई यहाँ काटने आई थी ,मुझे समंदर से बातें करने की आदत थी ,और मैं अपनी हर एक बात लहरों को बताया करती थी ,अचानक मुझे ऐसा लगा जैसे समंदर के उस पा
31 मार्च 2019
02 मार्च 2019
हाँ रचती है मेरे हाथों में मेहँदी तुम्हारे नाम की , ये चूड़ी , ये बिंदी , ये सिंदूर भी है तुम्हारे नाम की ,याद रखना ये समर्पण है मेरा,इसे तुम मेरी जंजीर मत समझना ,अगर तुम इसे जंजीर समझोगे तो आता है मुझे इस जंजीर को तोड़ फेंकना ा
02 मार्च 2019
26 मार्च 2019
शा
अगर चुभे तुझे कोई काँटा कभी , मैं फूल बन तेरी राहों में बिछ जाऊँ , है यही दिल की ख्वाहिश , तेरे हर जख्म का मैं ही मरहम बन जाऊँ ,बस धीरे से मेरा नाम पुकारना , अगर रह जाओ कभी तुम तनहा ,मैं सुन के तुम्हारी धड़कन बिहार से एम.पी. दौड़ी चली
26 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x