सच कहूँ तो आज बाबा की मजबूरी सी हूँ

16 मार्च 2019   |  आयेशा मेहता   (47 बार पढ़ा जा चुका है)

सच कहूँ तो आज बाबा की मजबूरी सी हूँ

आज फिर मैं बोझ सी लगी हूँ ,

यूँ तो मैं बाबा की गुड़िया रानी हूँ ,

पर सच कहाँ बदलता है झूठे दिल्लासों से ,

सच कहूँ तो आज बाबा की मजबूरी सी हूँ ा

उनके माथे की सिलवटें बता रही है ,

कितने चिंतित है मगर जताते नहीं है वो ,

अपनी गुड़िया को एक गुड्डा दिलाने के लिए ,

घनी दोपहरी में पाई - पाई जोड़ रहे है वो ा

मैं कैसे समझाऊँ बाबा को

खुशियाँ नहीं खरीदी जाती कीमतों से ,

जो खुद सरेआम बिक गया हो बाजार में ,

वो क्या समझेगा उनके बिटिया के जज्बात को ा

क्यों मेरी झूठी खुशियों के लिए ,

गैरों के सामने अपना हाथ फैलाते हो ,

आपने ही मुझे सिखाया सर उठा कर जीना ,

फिर आज क्यों अपनी पगड़ी किसी के पाँव में रखते हो

बाबा एक बात सुनो मेरी ,

मेरी खुशियाँ उस बिकाऊ गुड्डे में नहीं है ,

मेरी तो जान बाबा आप में बस्ती है ा

अगला लेख: शायरी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 मार्च 2019
शा
अगर चुभे तुझे कोई काँटा कभी , मैं फूल बन तेरी राहों में बिछ जाऊँ , है यही दिल की ख्वाहिश , तेरे हर जख्म का मैं ही मरहम बन जाऊँ ,बस धीरे से मेरा नाम पुकारना , अगर रह जाओ कभी तुम तनहा ,मैं सुन के तुम्हारी धड़कन बिहार से एम.पी. दौड़ी चली
26 मार्च 2019
06 मार्च 2019
दोस्तों हम आपके लिए बेस्ट लाइन फॉर लाइफ इन हिंदी (best line for life in hindi) में लाए है और ये उम्मीद करते है कि ये कोट्स आपके जीवन में किसी भी लक्ष्य को पाने के लिए प्रेरक के तौर पर काम करेगा। अक्सर कई
06 मार्च 2019
18 मार्च 2019
जिंदगी की खिड़की पे सुबह हुई,खुशियों की एक किरण हमें जगाने आई है।ख्वाबों के फूल खिलते हैं यहां,इस बागबान को मोहब्बत से सजाने आई है।यादों को भुला देते हैं हम वक्त के साथ चलते हुएअब हर लम्हें को यादगार बनाने आई है।जिंदगी में कोई कमीं महसूस ना हुई हमें,अब सच्ची खुशियों का राज बताने आई है।हारी-थकी हुई थी
18 मार्च 2019
05 मार्च 2019
आजकल वो लड़की बड़ी गुमसुम सी रहती है , हमेशा बेफिक्र रहने वाली ,आजकल कुछ तो फिक्र में रहती है ा अल्हड़ सी वो लड़की ,हर बात पर बेबाक हंसने वाली ,आजकल चुप-चुप सी रहती है ा आँखों में मस्ती , चेहरे पर नादानी ,खुद में ही अलमस्त रहने वाली ,हमेश
05 मार्च 2019
22 मार्च 2019
वि
कविताविज्ञापनविजय कुमार तिवारीजागते ही खोजती है अखबार,झुँझलाती है-कि जल्दी क्यों नहीं दे जाता अखबार। अखबार में खोजती है-नौकरियों के विज्ञापन। पतली-पतली अंगुलियों से,एक -एक शब्द को छूती हुई,हर पंक्ति पर दृष्टि जमाये,पहुँच जाती है अंतिम शब्द तक। गहरा निःश्वांस छोड़ती है
22 मार्च 2019
10 मार्च 2019
जो बात छिपाए हो तुम होठों में कहीं , आज नैनों को सब कहने दो न , कई जन्मों से प्यासी है ये निगाहें , आज मेरी जुल्फों में ही रह लो न ा एक लम्हा जो नहीं कटता तेरे बिन ,उम्र कैसा कटेगा तुम बिन वो साथिया ,छ
10 मार्च 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x