चलता रहा मैं

17 मार्च 2019   |  सौरभ शर्मा   (71 बार पढ़ा जा चुका है)


उम्मीदों के साए में पलता रहा मैं,

अपने जख्मों पर मरहम मलता रहा मैं,

जिंदगी गोल राहों पर घुमाती रही मुझे,

और चाहत का हाथ थामकर चलता रहा मैं।


हर चाहत के लिए पतंगे सा जलता रहा मैं,

मुट्ठी भर जीत के लिए मचलता रहा मैं,

हीरे-सी तेज चमक लेकर भी आंखों में ,

हर श्याम को सूरज सा ढलता रहा मैं।


दर्द को खामोशी से कुचलता रहा मैं,

सपनों की सड़कों पर फिसलता रहा मैं,

पत्थर-सा सख्त जिगर लेकर भी,

हर मासूमियत पर बर्फ सा पिघलता रहा मैं।


किसी कोरे कागज-सा गलता रहा मैं

अपने ही नादान दिल को छलता रहा मैं

लेकर पीठ पर दुनिया से जख्म

किसी खुशहाल पेड़ सा फलता रहा मैं।


झूठ की परछाईयों से बहलता रहा मैं,

धुंध के पार की झलक पाने को उछलता रहा मैं,

पाया नहीं जिन्दगी में मैंने कभी कुछ मगर,

न जाने क्यों जमाने को अंधेरे सा खलता रहा मैं।


अगला लेख: मेहंदी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 मार्च 2019
सभी जानते हैं कि बादशाह शाहजहां अपनी बेगम मुमताज़ से बहुत प्यार करते थे। उन्होंने अपनी बेगम की याद में संगमरमर की इमारत तामीर कराई थी, जिसको हम ताजमहल के नाम से जानते हैं। यह ताज दुनिया के सात अजूबों में से एक है। संगमरमर की यह इमारत बेहद खूबसूरत है। इसकी खूबसूरती ने श
26 मार्च 2019
02 मार्च 2019
हाँ रचती है मेरे हाथों में मेहँदी तुम्हारे नाम की , ये चूड़ी , ये बिंदी , ये सिंदूर भी है तुम्हारे नाम की ,याद रखना ये समर्पण है मेरा,इसे तुम मेरी जंजीर मत समझना ,अगर तुम इसे जंजीर समझोगे तो आता है मुझे इस जंजीर को तोड़ फेंकना ा
02 मार्च 2019
15 मार्च 2019
जि
जिंदगी एक मौका है कुछ कर दिखाने का,एक बढ़िया रास्ता है खुद को आजमाने का,मत डरना कभी सामने आई मुसीबत से,कुदरत का इंसान पर किया एहसान जिंदगी है।धर्म-जात में बाँट दिया संसार को कुछ शैतानों ने,दिलों को बाँट दिया नफरत की हदों से,सहुलियत के लिए बनाई थी ये सरहदें हमने,मगर इंसान को मिली असली पहचान जिंदगी है।
15 मार्च 2019
11 मार्च 2019
ऐ ज़िन्दगी मेरी तबाही पर इतना वक़्त न जाया कर , मैं तेरे हर वार को हँसते हुए सह लूँगी ,मुझे हारने की आदत नहीं ,और तू जीत जाए ये मैं होने नहीं दूँगी ा
11 मार्च 2019
26 मार्च 2019
शा
अगर चुभे तुझे कोई काँटा कभी , मैं फूल बन तेरी राहों में बिछ जाऊँ , है यही दिल की ख्वाहिश , तेरे हर जख्म का मैं ही मरहम बन जाऊँ ,बस धीरे से मेरा नाम पुकारना , अगर रह जाओ कभी तुम तनहा ,मैं सुन के तुम्हारी धड़कन बिहार से एम.पी. दौड़ी चली
26 मार्च 2019
18 मार्च 2019
जिंदगी की खिड़की पे सुबह हुई,खुशियों की एक किरण हमें जगाने आई है।ख्वाबों के फूल खिलते हैं यहां,इस बागबान को मोहब्बत से सजाने आई है।यादों को भुला देते हैं हम वक्त के साथ चलते हुएअब हर लम्हें को यादगार बनाने आई है।जिंदगी में कोई कमीं महसूस ना हुई हमें,अब सच्ची खुशियों का राज बताने आई है।हारी-थकी हुई थी
18 मार्च 2019
14 मार्च 2019
राह कोई नज़र आज आती नहीं छोड़ कर आस फिर भी जाती नहीं वादियां ये कभी कितनी खुशहाल थी ज़िन्दगी अब कहीं मुस्कुराती नहीं कोयल भी ना जाने क्यूँ चुप हो गई चमेली भी अब आँगन सजाती नहीं अलहदा अलहदा लोग क्यूँ हो गएदूरियां कोई शय क्यूँ मिटाती नहीं हाल क्या पूछते हो मेरा अब तुम क्या नज़र ये हमारी बताती नहीं? अश
14 मार्च 2019
18 मार्च 2019
जिंदगी की खिड़की पे सुबह हुई,खुशियों की एक किरण हमें जगाने आई है।ख्वाबों के फूल खिलते हैं यहां,इस बागबान को मोहब्बत से सजाने आई है।यादों को भुला देते हैं हम वक्त के साथ चलते हुएअब हर लम्हें को यादगार बनाने आई है।जिंदगी में कोई कमीं महसूस ना हुई हमें,अब सच्ची खुशियों का राज बताने आई है।हारी-थकी हुई थी
18 मार्च 2019
09 मार्च 2019
मै
ज्येष्ठ मास की दोपहर थी। चिलचिलाती धूप में जमीन तवे कीतरह तप रही थी। गर्म लू के थपेड़े शरीर में एक चुभन पैदा कर रहेथे। सूरज की तपिश से पसीना भी बाहर आने से डरता था। आसमानमें परिंदों का नाम ना था। उस आग बरसाते हुए आसमान के नीचेरियासतों की पलटनों में कोहराम मचा था। हर तरफ लाशें कटे हुएपेड़ों की तरह गि
09 मार्च 2019
06 मार्च 2019
दोस्तों हम आपके लिए बेस्ट लाइन फॉर लाइफ इन हिंदी (best line for life in hindi) में लाए है और ये उम्मीद करते है कि ये कोट्स आपके जीवन में किसी भी लक्ष्य को पाने के लिए प्रेरक के तौर पर काम करेगा। अक्सर कई
06 मार्च 2019
16 मार्च 2019
आज फिर मैं बोझ सी लगी हूँ , यूँ तो मैं बाबा की गुड़िया रानी हूँ ,पर सच कहाँ बदलता है झूठे दिल्लासों से ,सच कहूँ तो आज बाबा की मजबूरी सी हूँ ा उनके माथे की सिलवटें बता रही है ,कितने चिंतित है मगर जताते नहीं है वो ,अपनी गुड़िया को ए
16 मार्च 2019
12 मार्च 2019
मे
किसी ने उसे हिंदु बताया,किसी ने कहा वो मुसलमान था,खुद को मौत की सजा सुनाई जिसने,वो मेरे देश का किसान था।जिसकी उम्मीदाें से कहीं नीचा आसमान था,मुरझाकर भी उसका हौंसला बलवान था,जब वक्त ने भी हिम्मत और आस छोड़ दी,उस वक्त भी वो अपने हालातों का सुल्तान था।किस्मत उसकी हारी हुई बाजी का फरमान था,बिना मांस की
12 मार्च 2019
11 मार्च 2019
मेरे पुराने मित्र शर्मा जी किसी पुराने पंडित की तरह धर्म क्रियाओं के पीछे भागने वालों में नहीं हैं, वो तो अपनी ही कपोल-कल्पनाओं में गुम रहने वाले स्वतंत्र विचारों के प्राणी हैं। उनकी अर्धांगिनी जी भी उन्हीं के प्रकार की हैं मगर भिन्नता
11 मार्च 2019
15 मार्च 2019
जि
जिंदगी एक मौका है कुछ कर दिखाने का,एक बढ़िया रास्ता है खुद को आजमाने का,मत डरना कभी सामने आई मुसीबत से,कुदरत का इंसान पर किया एहसान जिंदगी है।धर्म-जात में बाँट दिया संसार को कुछ शैतानों ने,दिलों को बाँट दिया नफरत की हदों से,सहुलियत के लिए बनाई थी ये सरहदें हमने,मगर इंसान को मिली असली पहचान जिंदगी है।
15 मार्च 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x