हर एक साँस मैं तुम्हे लौटा दूँगी

21 मार्च 2019   |  आयेशा मेहता   (165 बार पढ़ा जा चुका है)

हर एक साँस मैं तुम्हे लौटा दूँगी

सबकी नज़रों में सबकुछ था मेरे पास ,

लेकिन सच कहूँ तो खोने को कुछ भी नहीं था मेरे पास ,

एक रेगिस्तान सी जमीन थी ,

जिसपर पौधा तो था लेकिन सब काँटेदार ,

धूप की गर्दिश में मुझे मेरी ही जमीन तपती थी ,

कुछ छाले थे ह्रदय पर ,

जो रेत की छुअन से असहनीय जलती थी ,

ये सच है कि तुम मेरी तलाश नहीं थे ,

गला तो सुख रहा था लेकिन तुम मेरी प्यास नहीं थे ,

" जाना " झुठ कहने की मेरी आदत नहीं ,

सच कहती हूँ आज से पहले तुम मेरे कुछ नहीं थे ा

जब लहरें निगलने ही वाली थी मुझको ,

तब मेरा हाथ पकड़ तुमने मुझे अपनी तरफ खींचा ,

जब धड़कन मेरे जिस्म का साथ छोड़ रही थी ,

उस वक्त मेरे थमते साँस को तुमने अपना साँस दिया ,

मेरे रेत सी जमीन पर तुम्हारा आना खुदा की नेमत है ,

मिट ही तो गयी थी मैं , आज मेरा वजूद सिर्फ तुमसे है ा

मेरा बीता हुआ कल जो भी हो ,

लेकिन आज मैं तुमसे बेपनाह मोहब्बत करती हूँ ,

तुम खो न जाओ कहीं इस ख्यालात से भी डरती हूँ ा

लेकिन " जाना " मैं इतनी खुदगर्ज भी नहीं ,

की कैदकर तुझे जुल्फों में रख लूँ ,

अगर कभी मेरे आँचल में तुम्हारा दम घूँटें तो ,

फिक्र न करना , बेफिक्र हो अपनी जान से कह देना ,

मैं धीरे से तुम्हारा हाथ आगे करके ,

तुम्हारी अमानत तुम्हे लौटा दूँगी ,

तुम्हारी साँस जो अबतक मेरे ह्रदय में धड़क रही थी ,

हँसते हुए तुम्हारी दी हुई हर एक साँस मैं तुम्हें लौटा दूँगी ा

अगला लेख: शायरी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 मार्च 2019
शा
अगर चुभे तुझे कोई काँटा कभी , मैं फूल बन तेरी राहों में बिछ जाऊँ , है यही दिल की ख्वाहिश , तेरे हर जख्म का मैं ही मरहम बन जाऊँ ,बस धीरे से मेरा नाम पुकारना , अगर रह जाओ कभी तुम तनहा ,मैं सुन के तुम्हारी धड़कन बिहार से एम.पी. दौड़ी चली
26 मार्च 2019
10 मार्च 2019
जो बात छिपाए हो तुम होठों में कहीं , आज नैनों को सब कहने दो न , कई जन्मों से प्यासी है ये निगाहें , आज मेरी जुल्फों में ही रह लो न ा एक लम्हा जो नहीं कटता तेरे बिन ,उम्र कैसा कटेगा तुम बिन वो साथिया ,छ
10 मार्च 2019
16 मार्च 2019
मैं करती हूँनृत्यदोनों हाथ ऊपरउठाकर, आकाश की ओरभर लेने कोसारा आकाश अपने हाथों में |चक्राकार घूमतीहूँ कई आवर्तनघूमती हूँ गतों और परनोंके, तोड़ों और तिहाइयों के |घूमते घूमते बनजाती हूँ बिन्दु हो जाने को एक ब्रह्माण्ड केउस चक्र के साथ |खोलती हूँ अपनीहथेलियों को ऊपर की ओर बनाती हूँनृत्य की एक मुद्रादेने
16 मार्च 2019
12 मार्च 2019
मे
किसी ने उसे हिंदु बताया,किसी ने कहा वो मुसलमान था,खुद को मौत की सजा सुनाई जिसने,वो मेरे देश का किसान था।जिसकी उम्मीदाें से कहीं नीचा आसमान था,मुरझाकर भी उसका हौंसला बलवान था,जब वक्त ने भी हिम्मत और आस छोड़ दी,उस वक्त भी वो अपने हालातों का सुल्तान था।किस्मत उसकी हारी हुई बाजी का फरमान था,बिना मांस की
12 मार्च 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x