हर एक साँस मैं तुम्हे लौटा दूँगी

21 मार्च 2019   |  आयेशा मेहता   (29 बार पढ़ा जा चुका है)

हर एक साँस मैं तुम्हे लौटा दूँगी

सबकी नज़रों में सबकुछ था मेरे पास ,

लेकिन सच कहूँ तो खोने को कुछ भी नहीं था मेरे पास ,

एक रेगिस्तान सी जमीन थी ,

जिसपर पौधा तो था लेकिन सब काँटेदार ,

धूप की गर्दिश में मुझे मेरी ही जमीन तपती थी ,

कुछ छाले थे ह्रदय पर ,

जो रेत की छुअन से असहनीय जलती थी ,

ये सच है कि तुम मेरी तलाश नहीं थे ,

गला तो सुख रहा था लेकिन तुम मेरी प्यास नहीं थे ,

" जाना " झुठ कहने की मेरी आदत नहीं ,

सच कहती हूँ आज से पहले तुम मेरे कुछ नहीं थे ा

जब लहरें निगलने ही वाली थी मुझको ,

तब मेरा हाथ पकड़ तुमने मुझे अपनी तरफ खींचा ,

जब धड़कन मेरे जिस्म का साथ छोड़ रही थी ,

उस वक्त मेरे थमते साँस को तुमने अपना साँस दिया ,

मेरे रेत सी जमीन पर तुम्हारा आना खुदा की नेमत है ,

मिट ही तो गयी थी मैं , आज मेरा वजूद सिर्फ तुमसे है ा

मेरा बीता हुआ कल जो भी हो ,

लेकिन आज मैं तुमसे बेपनाह मोहब्बत करती हूँ ,

तुम खो न जाओ कहीं इस ख्यालात से भी डरती हूँ ा

लेकिन " जाना " मैं इतनी खुदगर्ज भी नहीं ,

की कैदकर तुझे जुल्फों में रख लूँ ,

अगर कभी मेरे आँचल में तुम्हारा दम घूँटें तो ,

फिक्र न करना , बेफिक्र हो अपनी जान से कह देना ,

मैं धीरे से तुम्हारा हाथ आगे करके ,

तुम्हारी अमानत तुम्हे लौटा दूँगी ,

तुम्हारी साँस जो अबतक मेरे ह्रदय में धड़क रही थी ,

हँसते हुए तुम्हारी दी हुई हर एक साँस मैं तुम्हें लौटा दूँगी ा

अगला लेख: शायरी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 मार्च 2019
मैं करती हूँनृत्यदोनों हाथ ऊपरउठाकर, आकाश की ओरभर लेने कोसारा आकाश अपने हाथों में |चक्राकार घूमतीहूँ कई आवर्तनघूमती हूँ गतों और परनोंके, तोड़ों और तिहाइयों के |घूमते घूमते बनजाती हूँ बिन्दु हो जाने को एक ब्रह्माण्ड केउस चक्र के साथ |खोलती हूँ अपनीहथेलियों को ऊपर की ओर बनाती हूँनृत्य की एक मुद्रादेने
16 मार्च 2019
11 मार्च 2019
मुझे देवी कहलाने का शौक नहीं , मुझे इंसान ही रहने दो ,मत जकड़ो मुझे बेड़ियों में , मुझे आज़ाद ही रहने दो , नहीं चाहिए मुझे पल दो पल का दिखावटी सम्मान ,कुछ देना ही है तो मुझे मेरा आसमान दे दो ा
11 मार्च 2019
06 मार्च 2019
दोस्तों हम आपके लिए बेस्ट लाइन फॉर लाइफ इन हिंदी (best line for life in hindi) में लाए है और ये उम्मीद करते है कि ये कोट्स आपके जीवन में किसी भी लक्ष्य को पाने के लिए प्रेरक के तौर पर काम करेगा। अक्सर कई
06 मार्च 2019
16 मार्च 2019
आज फिर मैं बोझ सी लगी हूँ , यूँ तो मैं बाबा की गुड़िया रानी हूँ ,पर सच कहाँ बदलता है झूठे दिल्लासों से ,सच कहूँ तो आज बाबा की मजबूरी सी हूँ ा उनके माथे की सिलवटें बता रही है ,कितने चिंतित है मगर जताते नहीं है वो ,अपनी गुड़िया को ए
16 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x