हर एक साँस मैं तुम्हे लौटा दूँगी

21 मार्च 2019   |  आयेशा मेहता   (22 बार पढ़ा जा चुका है)

हर एक साँस मैं तुम्हे लौटा दूँगी  - शब्द (shabd.in)

सबकी नज़रों में सबकुछ था मेरे पास ,

लेकिन सच कहूँ तो खोने को कुछ भी नहीं था मेरे पास ,

एक रेगिस्तान सी जमीन थी ,

जिसपर पौधा तो था लेकिन सब काँटेदार ,

धूप की गर्दिश में मुझे मेरी ही जमीन तपती थी ,

कुछ छाले थे ह्रदय पर ,

जो रेत की छुअन से असहनीय जलती थी ,

ये सच है कि तुम मेरी तलाश नहीं थे ,

गला तो सुख रहा था लेकिन तुम मेरी प्यास नहीं थे ,

" जाना " झुठ कहने की मेरी आदत नहीं ,

सच कहती हूँ आज से पहले तुम मेरे कुछ नहीं थे ा

जब लहरें निगलने ही वाली थी मुझको ,

तब मेरा हाथ पकड़ तुमने मुझे अपनी तरफ खींचा ,

जब धड़कन मेरे जिस्म का साथ छोड़ रही थी ,

उस वक्त मेरे थमते साँस को तुमने अपना साँस दिया ,

मेरे रेत सी जमीन पर तुम्हारा आना खुदा की नेमत है ,

मिट ही तो गयी थी मैं , आज मेरा वजूद सिर्फ तुमसे है ा

मेरा बीता हुआ कल जो भी हो ,

लेकिन आज मैं तुमसे बेपनाह मोहब्बत करती हूँ ,

तुम खो न जाओ कहीं इस ख्यालात से भी डरती हूँ ा

लेकिन " जाना " मैं इतनी खुदगर्ज भी नहीं ,

की कैदकर तुझे जुल्फों में रख लूँ ,

अगर कभी मेरे आँचल में तुम्हारा दम घूँटें तो ,

फिक्र न करना , बेफिक्र हो अपनी जान से कह देना ,

मैं धीरे से तुम्हारा हाथ आगे करके ,

तुम्हारी अमानत तुम्हे लौटा दूँगी ,

तुम्हारी साँस जो अबतक मेरे ह्रदय में धड़क रही थी ,

हँसते हुए तुम्हारी दी हुई हर एक साँस मैं तुम्हें लौटा दूँगी ा

अगला लेख: शायरी



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
10 मार्च 2019
जो बात छिपाए हो तुम होठों में कहीं , आज नैनों को सब कहने दो न , कई जन्मों से प्यासी है ये निगाहें , आज मेरी जुल्फों में ही रह लो न ा एक लम्हा जो नहीं कटता तेरे बिन ,उम्र कैसा कटेगा तुम बिन वो साथिया ,छ
10 मार्च 2019
29 मार्च 2019
जो मशवरा लोगों ने मुझे दिया , वही मशवरा मैं तुम्हे भी देती हूँ ...... मोहब्बत में क़ुरबत बहुत है , मोहब्बत करना छोड़ दो ,ये और बात है की मैं भी नहीं मानी थी , मगर तुम देख लो ा किसी ने मुझसे कहा ....... प्यार यूँ हीं नहीं होता ...
29 मार्च 2019
15 मार्च 2019
जि
जिंदगी एक मौका है कुछ कर दिखाने का,एक बढ़िया रास्ता है खुद को आजमाने का,मत डरना कभी सामने आई मुसीबत से,कुदरत का इंसान पर किया एहसान जिंदगी है।धर्म-जात में बाँट दिया संसार को कुछ शैतानों ने,दिलों को बाँट दिया नफरत की हदों से,सहुलियत के लिए बनाई थी ये सरहदें हमने,मगर इंसान को मिली असली पहचान जिंदगी है।
15 मार्च 2019
29 मार्च 2019
शा
लोगों ने कहा , बहुत किताबी बनती हो , हकीकत में जीना क्यों नहीं सीखती है ? उन्हें क्या पता , मुझ जैसों की कहानी से ही तो किताबें बनती है ा
29 मार्च 2019
16 मार्च 2019
आज फिर मैं बोझ सी लगी हूँ , यूँ तो मैं बाबा की गुड़िया रानी हूँ ,पर सच कहाँ बदलता है झूठे दिल्लासों से ,सच कहूँ तो आज बाबा की मजबूरी सी हूँ ा उनके माथे की सिलवटें बता रही है ,कितने चिंतित है मगर जताते नहीं है वो ,अपनी गुड़िया को ए
16 मार्च 2019
11 मार्च 2019
ऐ ज़िन्दगी मेरी तबाही पर इतना वक़्त न जाया कर , मैं तेरे हर वार को हँसते हुए सह लूँगी ,मुझे हारने की आदत नहीं ,और तू जीत जाए ये मैं होने नहीं दूँगी ा
11 मार्च 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x