कलम आज उनकी जय बोल

26 मार्च 2019   |  Arshad Rasool   (34 बार पढ़ा जा चुका है)

कलम आज उनकी जय बोल

पहले मन की गांठों को खोल

राष्ट्र की अस्मिता बड़ी अनमोल

बचाई है जिन्होंने देश की लाज

कलम आज उनकी जय बोल


आज कोई श्रृंगार मत लिखिए

सावन गीत, मल्हार मत लिखिए

वीर पुराण रच डालिए दिल खोल

कलम आज उनकी जय बोल


धूल चटा देना बैरी को रण में

आस्तित्व मिला दो अब कण में

फिर से कर दी नैया डांवाडोल

कलम आज उनकी जय बोल


भारत का तन-मन रो रहा है

यह खुशनुमा चमन रो रहा है

सब समझो आज़ादी का मोल

कलम आज उनकी जय बोल


नाम बड़ा ही रहा हिन्दुस्तान का

दम निकल गया झूठी शान का

जिसने फोड़ा पाकिस्तानी ढोल

कलम आज उनकी जय बोल


बारूद से, गोली की बरसात से

डरे नहीं किसी भी झंझावात से

हौसला बढ़ाओ उनका दिल खोल

कलम आज उनकी जय बोल


गर्व है वीरों के बलिदानों पर

उन माओं पर और संतानों पर

जो समझाएं आज़ादी का मोल

कलम आज उनकी जय बोल


आहुति प्राणों की देकर आए हैं

माँ का चीर आज बचा लाए हैं

जिनका त्याग है बड़ा अनमोल

कलम आज उनकी जय बोल


देश को सींचा है सबने खून से

मान बचाया है अपने जुनून से

कुर्बानी को मजहब से न तोल

कलम आज उनकी जय बोल

अगला लेख: गम का तूफान



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x