लहू के आंसू...

26 मार्च 2019   |  Arshad Rasool   (26 बार पढ़ा जा चुका है)

लहू के आंसू...


कौन रुख़सत हुआ है हिन्दुस्तान से

लहू के आंसू गिरने लगे आसमान से


देखे थे जो सपने सब चकनाचूर हुए

तार-तार सब उनके शुभ दस्तूर हुए

नहीं मिलेंगे वो हमको इतने दूर हुए

भेजा था सीमा पर किस अरमान से

कौन रुख़सत हुआ है हिन्दुस्तान से
लहू के आंसू गिरने लगे आसमान से

आंधियों से तूफां बनकर टकरा गया

फर्ज था उसका निभाकर चला गया

जैसे वह सोचकर निकला हो घर से

तिरंगे में लिपटकर आऊंगा शान से

कौन रुख़सत हुआ है हिन्दुस्तान से
लहू के आंसू गिरने लगे आसमान से

बरबाद नहीं होगी वीर! कुर्बानी तेरी

ओ दुश्मन याद दिला देंगे नानी तेरी
और ज्यादा नहीं चलेगी मनमानी तरेी
हम भी अब सौ सिर उड़ाएंगे एलान से

कौन रुख़सत हुआ है हिन्दुस्तान से
लहू के आंसू गिरने लगे आसमान से

कैसे सब्र करें इतने वीरों को खोया है

धरती तो क्या आसमान तक रोया है

देखें तो तुमने बारूद कितना बोया है

चलो आरपार हो जाए पाकिस्तान से

कौन रुख़सत हुआ है हिन्दुस्तान से
लहू के आंसू गिरने लगे आसमान से

होली हो, वह ईद हो चाहे हो दीवाली

तुम बिन लगती हर खुशी अब काली

हर खुशी मानो जैसे द रही हो गाली

मगर जीना सिखा गए वो सम्मान से

कौन रुख़सत हुआ है हिन्दुस्तान से
लहू के आंसू गिरने लगे आसमान से

सुन ले तू धोखे से हमला करने वाले

इन ललकारों से हम नहीं डरने वाले

मरते नहीं कभी वतन पर मरने वाले

अमरत्व भी पाया है निराली शान से

कौन रुख़सत हुआ है हिन्दुस्तान से
लहू के आंसू गिरने लगे आसमान से

गद्दारों हम तुमको औकात बता देंगे

एक के बदले हम सौ सिर गिरा देंगे

नेताजी देश को अब जवाब क्या देंगे

हर बार क्यों मुकर जाते हो जुबान से

कौन रुख़सत हुआ है हिन्दुस्तान से
लहू के आंसू गिरने लगे आसमान से

अगला लेख: गम का तूफान



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 मार्च 2019
आज की भागदौड़ भरी जिंदगी में लोग अपनी सेहत का ख्याल नहीं रख पा रहे हैं और ऐसे में लोगों को बीमारियां या वजन बढ़ने की शिकायत होती है. जो लोग घर से दूर अकेले रहते हैं या फिर जिनका दिनभर बैठने का काम है उनमें वजन बढ़ने और पेट निकलने की शिकायत अक्सर हो जाती है. ऐसा इसलिए
25 मार्च 2019
26 मार्च 2019
कब तक सहमे रहोगे ललकारों से?यह हरगिज़ न कहो कि मर गया कोईदेश का हक़ था अदा कर गया कोईबिटिया के पीले हाथ कौन करेगाशहनाइयों का काम अब मौन करेगादायित्वों का निर्वहन कौन करेगाजान पर खेलकर गुजर गया कोईयह हरगिज़ न कहो कि मर गया कोईदेश का हक़ था अदा कर गया कोईअंधेरा कितना कर दिया इक फायर नेबुढ़ापे की लाठी
26 मार्च 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x