चतुष्पदी

28 मार्च 2019   |  महातम मिश्रा   (16 बार पढ़ा जा चुका है)


"चतुष्पदी"


बहुत याद आओगे तुम प्यारे गुलशन।

बहारों की बगिया खुश्बुओं के मधुबन।

कभी भूल मत जाना प्यारी सी चितवन।

माफ करना ख़ता तुम हो न्यारे उपवन।।-1


याद आएगी कल प्यारी पनघट सखी।

खुश्बुओं से महकता ये गुलशन सखी।

मेरी यादों के चितवन में छाएगी सखी।

माफ़ करना ख़ता मन न अनबन सखी।।-2


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: छंदमुक्त काव्य



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 अप्रैल 2019
वा
वागीश्वरी (सात यगण+लघु गुरु) सरल मापनी --- 122/122/122/122/122/122/122/12, 23 वर्ण"वागीश्वरी सवैया"उठो जी सवेरे सवेरे उठो जी, उगी लालिमा को निहारो उठो।नहा लो अभी भाप पानी लिए है, बड़े आलसी हो विचारो उठो।कहानी पढ़ी है जुबानी सुनी है, सुहानी हवा है सँवारो उठो।दवा से भली है सुबा की जुगाली, चलाओ पगों को ह
07 अप्रैल 2019
11 अप्रैल 2019
छं
"छंद मुक्त काव्य" अनवरत जलती है समय बेसमय जलती हैआँधी व तूफान से लड़ती घनघोर अंधेरों से भिड़ती हैदिन दोपहर आते जाते हैप्रतिदिन शाम घिर आती हैझिलमिलाती है टिमटिमाती हैबैठ जाती है दरवाजे पर एक दीया लेकरप्रकाश को जगाने के लिएपरंपरा को निभाने के लिए।।जलते जलते काली हो गई हैमानो झुर्रियाँ लटक गई हैबाती और
11 अप्रैल 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x