तांका

28 मार्च 2019   |  महातम मिश्रा   (26 बार पढ़ा जा चुका है)

तांका विधा की जानकारी --- तांका का शाब्दिक अर्थ हैं - *लघु गीत* या *छोटी कविता* जो मात्र 31 वर्ण में सम्पूर्ण हो जाती है। यह जापानी विधा 05, 07, 05, 07, 07 के वर्णानुशासन से बँधी हुई पंचपदी कविता हैं जिसका भाव पहली से पांचवी पंक्ति तक बना रहता हैं। अंतिम दो पंक्ति में तुकांत मिल जाये तो सोने पे सुहागा। लयविहीन काव्यगुण से शून्य रचना, छंद का शरीर धारण करने मात्र से तांका नहीं बन सकती।

"तांका"


गाँव के गाँव

वीरान खलिहान

सूखते वृक्ष

संध्या संग प्रदीप

टिमटिमाते दीप।।


अधूरे ख्वाब

लुढ़कती जिंदगी

जीने की आशा

संध्या सरोज सगी

उम्र ढलने लगी।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी


अगला लेख: छंदमुक्त काव्य



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
14 मार्च 2019
फा
फागुनी बहार"छंदमुक्त काव्य"मटर की फली सीचने की लदी डली सीकोमल मुलायम पंखुड़ी लिएतू रंग लगाती हुई चुलबुली हैफागुन के अबीर सी भली है।।होली की धूल सीगुलाब के फूल सीनयनों में कजरौटा लिएक्या तू ही गाँव की गली हैफागुन के अबीर सी भली है।।चौताल के राग सीजवानी के फाग सीहाथों में रंग पिचकारी लिएहोठों पर मुस्का
14 मार्च 2019
31 मार्च 2019
कु
"कुंडलिया"परचम लहराता चला, भारत देश महान।अंतरिक्ष में उड़ रहा, शक्तिसाक्ष्य विमान।शक्तिसाक्ष्य विमान, देख ले दुनिया सारी।वीरों की यह भूमि, रही सतयुग से न्यारी।कह गौतम कविराय, तिरंगा चमके चमचम।सात्विक संत पुराण, वेद फहराए परचम।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
31 मार्च 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x