समंदर के उस पार

31 मार्च 2019   |  आयेशा मेहता   (30 बार पढ़ा जा चुका है)

समंदर के उस पार  - शब्द (shabd.in)

ये वही जगह है जहाँ पहली दफा मैं उससे मिली थी ,

हर शाम की तरह उस शाम भी मैं अपनी तन्हाई यहाँ काटने आई थी ,

मुझे समंदर से बातें करने की आदत थी ,

और मैं अपनी हर एक बात लहरों को बताया करती थी ,

अचानक मुझे ऐसा लगा जैसे समंदर के उस पार कोई हो ,

लहरों के कलकल में जैसे उसकी आवाज़ हो ,

जो नहीं भी था और था भी वह क्यों मुझे अपनी तरफ खींच रहा था ,

जिसकी तस्वीर भी नहीं था मेरे आँखों में ,वह मुझे क्यों महसूस हो रहा था ,

कुछ पल को ऐसे लगा जैसे मेरा वहम हो ,

उस पार भी कुछ भी नहीं बस समंदर की लहर हो ,

मैं उठकर यहाँ से जाने ही वाली थी ,

तभी एक कागज की कस्ती मेरे पास आकर ठहरा ,

जिसपर लिखा था मैं तेरा वहम नहीं , तेरा हमदर्द हूँ यारा ,

मैं तुमसे मिलने आऊँगा , तुम मेरा इंतज़ार करना ,

वर्षों बीत गया है , तब से आज तक हर रोज मैं समंदर पर आती हूँ ,

टकटकी लगाकर समंदर के उस किनारे को देखती हूँ ,

एक रोज वो आएगा , इसी उम्मीद में हर शाम उसका इंतज़ार करती हूँ ा

अगला लेख: सच कहूँ तो आज बाबा की मजबूरी सी हूँ



रेणु
03 अप्रैल 2019

सुंदर रचना, प्यारा चित्र।

अलोक सिन्हा
31 मार्च 2019

बहुत अच्छी रचना है |

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 मार्च 2019
शु
ऐ ! मेरे मधुमेह !तुमने दी मेरी ज़िन्दगी बदल, खाने, पीने और रहने में जब दी तुमने दख़ल । मैं जी रही थी बेख़बर ,स्वास्थ्य की थी न कदर। जब तुमने ताकीद दी, शुरू अपनी परवाह की ।जीने का आया कुछ सलीका, अपनाया योग का भी तरीका। अब खुद को भी देती समय, जीवन
18 मार्च 2019
16 मार्च 2019
आज फिर मैं बोझ सी लगी हूँ , यूँ तो मैं बाबा की गुड़िया रानी हूँ ,पर सच कहाँ बदलता है झूठे दिल्लासों से ,सच कहूँ तो आज बाबा की मजबूरी सी हूँ ा उनके माथे की सिलवटें बता रही है ,कितने चिंतित है मगर जताते नहीं है वो ,अपनी गुड़िया को ए
16 मार्च 2019
17 मार्च 2019
उम्मीदों के साए में पलता रहा मैं,अपने जख्मों पर मरहम मलता रहा मैं,जिंदगी गोल राहों पर घुमाती रही मुझे,और चाहत का हाथ थामकर चलता रहा मैं।हर चाहत के लिए पतंगे सा जलता रहा मैं,मुट्ठी भर जीत के लिए मचलता रहा मैं,हीरे-सी तेज चमक लेकर भी आंखों में ,हर श्याम को सूरज सा ढलता रहा मैं।दर्द को खामोशी से कुचलता
17 मार्च 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x