छंदमुक्त काव्य

11 अप्रैल 2019   |  महातम मिश्रा   (21 बार पढ़ा जा चुका है)


"छंद मुक्त काव्य"


अनवरत जलती है

समय बेसमय जलती है

आँधी व तूफान से लड़ती

घनघोर अंधेरों से भिड़ती है

दिन दोपहर आते जाते है

प्रतिदिन शाम घिर आती है

झिलमिलाती है टिमटिमाती है

बैठ जाती है दरवाजे पर एक दीया लेकर

प्रकाश को जगाने के लिए

परंपरा को निभाने के लिए।।


जलते जलते काली हो गई है

मानो झुर्रियाँ लटक गई है

बाती और तेल अभी शेष हैं

कभी खूँटी पर तो कभी जमीन पर

लटक, पसर जाती है अपने अंधेरों के साथ

प्रकाश के लिए शुभ को बुलाती है

कुछ फतिंगे भी कुर्बान हो जाते हैं

शायद गिनती है कितने दीए जले होंगे

एकसाथ सबकी दीपावली जो आ गई

मिठाईयाँ पटाखे शोर गुल खुशी

इतरा रही है डी. जे. बजा बज रहा है

और एक कोने में वह भी जल रही है

एक दीया और तीन सौ पैंसठ दिन

राह को दिखाने के लिए

परंपरा को निभाने के लिए।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी


अगला लेख: कुंडलिया



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 अप्रैल 2019
कु
"कुछ शेर"बहुत गुमराह करती हैं फिजाएँ जानकर जानमआसान मंजिल थी हम थे अजनवी की तरह।।तिरे आने से हवावों का रुख भी बदला शायदलोग तो कहते थे कि तुम हुए मजहबी की तरह।।समय बदला चलन बदली और तुम भी बदलेबदली क्या आँखें जो हैं ही शबनबी की तरह।।लगाए आस बैठी है इंतजार लिए नजरों मेंतुम आए तो पर जलाए किसी हबी की तरह
07 अप्रैल 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x