कुंडलिया

11 अप्रैल 2019   |  महातम मिश्रा   (20 बार पढ़ा जा चुका है)

कुंडलिया - शब्द (shabd.in)


"कुंडलिया"


चैत्री नव रात्रि परम, परम मातु नवरूप।

एक्कम से नवमी सुदी, दर्शन दिव्य अनूप।।

दर्शन दिव्य अनूप, आरती संध्या पावन।

स्वागत पुष्प शृंगार, धार सर्वत्र सुहावन।।

कह गौतम कविराय, धर्म से कर नर मैत्री।

नव ऋतु का आगाज़, वर्ष नूतन शुभ चैत्री।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: छंदमुक्त काव्य



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
31 मार्च 2019
मु
"मुक्तक" चढ़ा धनुष पर बाण धनुर्धर, धरा धन्य हरियाली है।इंच इंच पर उगे धुरंधर, करती माँ रखवाली है।मुंड लिए माँ काली दौड़ी, शिव की महिमा है न्यारी नित्य प्रचंड विक्षिप्त समंदर, गुफा गुफा विकराली है।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
31 मार्च 2019
23 मार्च 2019
अरविंद सवैया[ सगण ११२ x ८ +लघु ] सरल मापनी --- 112/112/112/112/112/112/112/112/1"अरविंद सवैया"ऋतुराज मिला मधुमास खिला मिल ले सजनी सजना फगुहार।प्रति डाल झुकी कलियाँ कुमली प्रिय फूल फुले महके कचनार।रसना मधुरी मधुपान करे नयना उरझे हरषे दिलदार।अँकवार लिए नवधा ललिता अँग
23 मार्च 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
कु
31 मार्च 2019
28 मार्च 2019
ता
28 मार्च 2019
कु
07 अप्रैल 2019
गी
07 अप्रैल 2019
मु
23 मार्च 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x