तुम मिले कोहिनूर से

05 मई 2019   |  रेणु   (33 बार पढ़ा जा चुका है)

तुम मिले कोहिनूर से  - शब्द (shabd.in)

भीगे एकांत में बरबस -

पुकार लेती हूँ तुम्हे

सौंप अपनी वेदना -

सब भार दे देती हूँ तुम्हे !


जब -तब हो जाती हूँ विचलित

कहीं खो ना दूँ तुम्हे

क्या रहेगा जिन्दगी में

जो हार देती हूँ तुम्हे !

सब से छुपा कर

मन में बसाया है तुम्हे

जब भी जी चाहे तब

निहार लेती हूँ तुम्हे


बिखर ना जाए कहीं

रखना इसे संभाल के

सुहानी हसरतों का

हसीं संसार देती हूँ तुम्हे !


तुम डुबो दो या

ले चलो साहिल पर इसे

प्यार की कश्ती की

पतवार देती हूँ तुम्हे !


कांच सी दुनिया ये

तुम मिले कोहिनूर से

क्या दूं बदले में ?

बस प्यार देती हूँ तुम्हे !!!


स्वरचित -- रेणु

चित्र -- गूगल से साभार -

इस रचना को मेरे ब्लॉग पर भी पढिये --

https://renuskshitij.blogspot.com/2019/04/blog-post_9.html

अगला लेख: Kranti Ki Mashal Kavy sangrah by kavi Hansraj Bhartiya क्रान्ति की मशाल साझा कविता संग्रह की पुस्तक समीक्षा



लाजबाब रचना सखी

हर रचना के साथ और निखार है आपकी लेखनी में

बहुत ही सुंदर और मधुर रचना |

रेणु जी ! बहुत अच्छी रचना है | बहुत सरस ह्रदय और भावुकता में आकंठ डूबे मन से लिखी हुई | बहुत बहुत बधाई , शुभ कामनाएं |

लाजवाब रेणु जी! :)

basant singh
05 मई 2019

बहुत अच्छा

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
अंग्रेजी  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x