चतुष्पदी

03 जून 2019   |  महातम मिश्रा   (34 बार पढ़ा जा चुका है)

"चतुष्पदी"


वही नाव गाड़ी चढ़ी, जो करती नद पार।

पानी का सब खेल है, सूख गई जलधार।

किया समय से आप ने, वर्षों वर्ष करार-

चढ़ते गए सवार बन, भूले क्यों करतार।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: गीतिका



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
07 जून 2019
छं
"छंदमुक्त काव्य"गुबार मन का ढ़हने लगा हैनदी में द्वंद मल बहने लगा हैमाँझी की पतवारया पतवार का माँझीघर-घर जलने लगा चूल्हा साँझीदिखने लगी सड़कें बल्ब की रोशनी मेंपारा चढ़ने लगा है लू की धौकनी मेंनहीं रहा जाति-पाति का कोई बंधनजबसे अस्तित्व के लिए बना महा गठबंधनचोर ने लूट लिया मधुरी वाहवाहीचौकीदार की गेट प
07 जून 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x