कुंडलिया

04 जून 2019   |  महातम मिश्रा   (17 बार पढ़ा जा चुका है)

"कुंडलिया"


बालू पर पदचिन्ह के, पड़ते सहज निशान।

आते- जाते राह भी, घिस देती पहचान।।

घिस देती पहचान, मान मन, मन का कहना।

स्वारथ में सब लोग, भूलते भाई बहना।।

कह गौतम कविराय, नाचता है जब भालू।

गिरते काले बाल, सरकते देखा बालू।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: गीतिका



स्वागतम सर, धन्यवाद

बहुत बढ़िया सर, बहुत गहरा लिखते हैं आप

हार्दिक धन्यवाद सर, स्वागत है आप का, काले बाल जवानी में गिरने लगे और बालू तो मुट्ठी से गिर ही जाता है कितना भी कस कर पकड़ें, बालों का गिरना स्वास्थ्य की कमजोरी को दर्शाता है और बालू को भट्ठी में बंद करने वाले क्या यह नही जानते कि इसे पकड़ना नामुमकिन है, सादर

नमस्ते सर , कई दिन बाद आया तो आपको देखा यहाँ . थोड़ा समझाइये इस पंक्ति का मतलब - गिरते काले बाल, सरकते देखा बालू।।

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
12 जून 2019
मु
"मुक्त काव्य"दिन से दिन की बात हैकिसकी अपनी रात हैबिना मांगे यह कैसी सौगात हैइक दिन वह भी था जब धूप में नहा लिएआज घने छाए में भी बिन चाहत भीगती रात हैउमसते हैं कसकते हैं और बिदकते हैंकाश, वह दिन होता और वैसे ही जज्बातफिर न होता यह धधकता दिनऔर न होती यह सिसकती रातपेड़ पौधे भी करते हैं आपस में बात।।महु
12 जून 2019
22 मई 2019
कु
कुंडलियाधू धू कर के जल रहे, गेंहूँ डंठल बालधरा झुलसलती हो विकल, नोच रहे हम खालनोच रहे हम खाल, हाल बेहाल मवालीसमझाए भी कौन, मौन मुँह जली परालीकह गौतम कविराय, चाय सब पीते फू फूयह है नई दुकान, तपेली जलती धू धू।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
22 मई 2019
09 जून 2019
कु
'"कुंडलिया"बालक नन्हा धूल में, जीने को मजबूरलाचारी से जूझता, इसका कहाँ कसूरइसका कहाँ कसूर, हुजूर वस्र नहिं दानामाता-पिता गरीब, रहा नहिं काना नानाकह गौतम कविराय, प्रभो तुम सबके पालकबचपन वृद्ध समान, सभी हैं तेरे बालक।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
09 जून 2019
22 मई 2019
कु
कुंडलियाधू धू कर के जल रहे, गेंहूँ डंठल बालधरा झुलसलती हो विकल, नोच रहे हम खालनोच रहे हम खाल, हाल बेहाल मवालीसमझाए भी कौन, मौन मुँह जली परालीकह गौतम कविराय, चाय सब पीते फू फूयह है नई दुकान, तपेली जलती धू धू।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
22 मई 2019
16 जून 2019
हा
पितृ दिवस पर प्रस्तुत है हालकि छंद, आदणीय पिता श्री को सादर प्रणाम एवं सभी मित्रों को हर्षित बधाई, ॐ जय माँ शारदा!हाकलि छंदपिता दिवस पर प्रण करें, पीर पराई मिल हरें।कष्ट न दें निश्चित करें, मातु पिता ममता भरें।बने पिता की लाठी भी, माता सुख संघाती भी।पूत कपूत नहिं हो ह
16 जून 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x