मुक्त काव्य

12 जून 2019   |  महातम मिश्रा   (36 बार पढ़ा जा चुका है)

"मुक्त काव्य"


दिन से दिन की बात है

किसकी अपनी रात है

बिना मांगे यह कैसी सौगात है

इक दिन वह भी था जब धूप में नहा लिए

आज घने छाए में भी बिन चाहत भीगती रात है

उमसते हैं कसकते हैं और बिदकते हैं

काश, वह दिन होता और वैसे ही जज्बात

फिर न होता यह धधकता दिन

और न होती यह सिसकती रात

पेड़ पौधे भी करते हैं आपस में बात।।


महुआ आम से कहा करती

हर नदी अपने उफान में बहा करती

कौआ, कोयल का कंठ कैसे पाता

काँव काँव करता और उड़ जाता

पेड़ो पर टंगे हैं न जाने कितने दुपट्टे

आखिर कहाँ से आ जाते हैं हट्ठे कट्ठे

बागे वन में कैसी है बिरानियाँ

क्योंकर टूट रहीं हैं बैसाखियाँ

बेहयाई में हो जाती है जीवन की रात

पेड़ पौधे भी आपस मे करते हैं बात।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: गीतिका



रचना को विशिष्ट सम्मान प्रदान करने हेतु मंच का आभारी हूँ

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 जून 2019
हा
पितृ दिवस पर प्रस्तुत है हालकि छंद, आदणीय पिता श्री को सादर प्रणाम एवं सभी मित्रों को हर्षित बधाई, ॐ जय माँ शारदा!हाकलि छंदपिता दिवस पर प्रण करें, पीर पराई मिल हरें।कष्ट न दें निश्चित करें, मातु पिता ममता भरें।बने पिता की लाठी भी, माता सुख संघाती भी।पूत कपूत नहिं हो ह
16 जून 2019
09 जून 2019
कु
'"कुंडलिया"बालक नन्हा धूल में, जीने को मजबूरलाचारी से जूझता, इसका कहाँ कसूरइसका कहाँ कसूर, हुजूर वस्र नहिं दानामाता-पिता गरीब, रहा नहिं काना नानाकह गौतम कविराय, प्रभो तुम सबके पालकबचपन वृद्ध समान, सभी हैं तेरे बालक।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
09 जून 2019
04 जून 2019
कु
"कुंडलिया"बालू पर पदचिन्ह के, पड़ते सहज निशान।आते- जाते राह भी, घिस देती पहचान।।घिस देती पहचान, मान मन, मन का कहना।स्वारथ में सब लोग, भूलते भाई बहना।।कह गौतम कविराय, नाचता है जब भालू।गिरते काले बाल, सरकते देखा बालू।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
04 जून 2019
20 जून 2019
कुछ रास्तों की अपनी जुबां होती है,कोई मोड़ चीखता है,किसी कदम पर आह होती है…पूछे ज़माना कि इतने ज़माने क्या करते रहे?ज़हरीले कुओं को राख से भरते रहे,फर्ज़ी फकीरों के पैरों में पड़ते रहे,गुजारिशों का ब्याज जमा करते रहे,हारे वज़ीरों से लड़ते रहे…और …खुद की ईजाद बीमारियों में खुद ही मरते रहे!रास्तों से अब बैर ह
20 जून 2019
03 जून 2019
"चतुष्पदी"वही नाव गाड़ी चढ़ी, जो करती नद पार।पानी का सब खेल है, सूख गई जलधार।किया समय से आप ने, वर्षों वर्ष करार-चढ़ते गए सवार बन, भूले क्यों करतार।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
03 जून 2019
27 जून 2019
गी
मंच को प्रस्तुत गीतिका, मापनी- 2222 2222 2222, समान्त- अन, पदांत- में...... ॐ जय माँ शारदा!"गीतिका"बरसोगे घनश्याम कभी तुम मेरे वन मेंदिल दे बैठी श्याम सखा अब तेरे घन मेंबोले कोयल रोज तड़फती है क्यूँ राधाकह दो मेरे कान्ह जतन करते हो मन में।।उमड़ घुमड़ कर रोज बरसता है जब सावनमुरली की धुन चहक बजाते तुम मध
27 जून 2019
18 जून 2019
गी
प्रस्तुत गीतिका, मापनी-2212 122 2212 122, समांत- अना, स्वर, पदांत- कठिन लगा था..... ॐ जय माँ शारदा!"गीतिका"अंजान रास्तों पर चलना कठिन लगा थाथे सब नए मुसाफिर मिलना कठिन लगा थासबके निगाह में थी अपनों की सुध विचरतीघर से बिछड़ के जीवन कितना कठिन लगा था।।आसान कब था रहना परदेश का ठिकानारातें गुजारी गिन दि
18 जून 2019
19 जून 2019
मु
"मुक्त काव्य"न बैठ के लिखा, न सोच के लिखातुझे देखा तो रहा न गया और खत लिखाजब लिखने लगा तो पढ़ना मुश्किल हो गयाअब पढ़ने लगा हूँ तो लिखना मुश्किल हैअजीब है री तू भी पलपल सरकती जिंदगीतुझे पाने के लिए अर्थहीन शब्दों में क्या क्या न लिखा।।कभी रार लिखा तो कभी प्यार लिख बैठाकभी मन ही मन में तेरा श्रृंगार लिख
19 जून 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x