आत्मा

13 जून 2019   |  कात्यायनी डॉ पूर्णिमा शर्मा   (130 बार पढ़ा जा चुका है)

आत्मा

मंज़िल का भान हो न हो / पथ का भी ज्ञान हो न हो

आत्मा – हमारी अपनी चेतना / नित नवीन पंख लगाए

सदा उड़ती ही जाती है / सतत / निरन्तर / अविरत...

क्योंकि मैं “वही” हूँ / मेरे अतिरिक्त और कुछ भी नहीं

“अहम् ब्रह्मास्मि” या कह लीजिये “सोSहमस्मि”

तभी तो, कभी इस तन, कभी उस तन

कभी तेरे तन तो कभी मेरे तन |

न इसके पंख जलते हैं भयंकर ताप से

न ये गलते हैं अनवरत बरखा के पानी से

और न ही ये सिकुड़ते हैं तेज़ सर्द हवाओं से |

इन डैनों को फैलाए आत्मा – हमारी अपनी चेतना

उड़ती जाती है विशाल ब्रह्माण्ड में / सतत / निरन्तर / अविरत...

कितनी दूर अभी जाना है / कहाँ रुकना है

नहीं ज्ञान इसे / बस ज्ञान है तो इतना

कि फैलेँगे पंख जितने विशाल / ऊँची होगी उतनी उड़ान |

प्रत्यक्ष की इस जीवन यात्रा में

आत्मा – हमारी अपनी चेतना

बस उड़ती ही रहती है / सतत / निरन्तर / अविरत...

थकते नहीं कभी / कमज़ोर पड़ते नहीं कभी पंख इसके

हाँ, ठहर ज़रूर जाते हैं कुछ पलों के लिए

क्योंकि आ जाते हैं व्यवधान राहों में |

कभी मार्ग रोकता है क्रोध

लेकिन साथ ही प्रेम दिखा देता है नया मार्ग |

कभी मार्ग रोकते हैं भय और कष्ट

तो साथ ही पुरुषार्थ खोल देता है नई राहें |

कभी उन फैले पंखों से पहुँचता है कष्ट किसी को

तो क्षमादान प्रशस्त करता है एक नया मार्ग |

कभी होता है अभिमान एक पंख को अपने विस्तार का

तो दूसरा पंख एक ओर झुककर / प्रशस्त करता है मार्ग विनम्रता का |

एक पंख के साथ होता है रुदन

तो दूसरा हँसकर उसे पहुँचाता है सुख |

कभी दोनों ही पंख होते हैं उपेक्षित

तो कभी दोनों को मिलता है सम्मान अपार |

यही क्रम है सृष्टि का – संसार चक्र का

आत्मा – हमारी अपनी चेतना

अनेक प्रकार के पंख लगाए

बस उड़ती जाती है अपने ही विशाल विस्तार में

सतत / निरन्तर / अविरत........

तो आइये आज दे दें अपनी आत्मा को पंख उन्मुक्त प्रेम के

भर दें इन पंखों में माधुर्य क्षमा का

पुरुषार्थ से कर दें इन पंखों को बलिष्ठ

हवा भर दें इन पंखों में विनम्रता की

ताकि उड़ती रहे आत्मा – हमारी अपनी चेतना

अपने ही विशाल विस्तार में / सतत / निरन्तर / अविरत / अनवरत......

अगला लेख: निस्वार्थ प्रेम ही है ध्यान



कृपा शंकर
03 जुलाई 2019

बहुत सुन्दर रचना ! धन्यवाद !

धन्यवाद कृपाशंकर जी उत्साह वर्धन के लिए. ..

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 जून 2019
विश्व पर्यावरण दिवसमनुष्य ही नहीं समस्तप्राणीमात्र – सृष्टि के समस्त जीव - इस स्वयंभू शाश्वत और विहंगम प्रकृति का अंगहै | इसी से समस्त जीवों की उत्पत्ति हुई है | प्रकृति के विकास के साथ ही हम सबकाभी विकास होता है यानी विकास यात्रा में हम प्रकृति के सहचर हैं – सहगामी हैं |प्रदूषित पर्यावरण के द्वारा
05 जून 2019
20 जून 2019
नियम प्रकृति का सरल नहीं पकड़ना / पुष्पों के गिर्द इठलाती तितलीको |हर वृक्ष पर पुष्पित हर पुष्प उसका है तभी तो इतराती फिरती है कभी यहाँ कभी वहाँ /निर्बाध गति से…बाँध सकोगे मुक्त आकाश में ऊँची उड़ान भरतेपक्षियों को ?समस्त आकाश है क्रीड़ास्थली उनकी हाथ फैलाओगे कहाँ तक ?कितने बाँध बना दो कल कल छल छल करती
20 जून 2019
23 जून 2019
24 से 30 जून 2019 तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर आध
23 जून 2019
06 जून 2019
नक्षत्रों के तत्व विवाह के लिए कुण्डली मिलान करते समय पारम्परिक रूप से अष्टकूट गुणों कामिलान करने की प्रक्रिया में नाड़ी, योनि और गणों के साथ ही नक्षत्रों के वश्य कामिलान भी किया जाता है | पाँच वश्यों के अतिरिक्त समस्त 27 नक्षत्र चार तत्वों मेंभी विभाजित होते हैं | जिनमें से पाँचों वश्य तथा वायु तत्व
06 जून 2019
25 जून 2019
नक्षत्रों के गुण हमने अपने पिछले अध्यायों में नक्षत्रों की नाड़ी, योनि, गण, वश्य औरतत्वों के विषय में बात की | नक्षत्रों का विभाजन तीन गुणों – सत्व, रजस और तमस – केआधार पर भी किया जाता है | इन तीनों ही गुणों की आध्यात्मिक तथा दार्शनिक दृष्टिसे चर्चा तो इतनी विषद हो जाती है कि जिसका कभी अन्त ही सम्भव
25 जून 2019
24 जून 2019
कं
कंदराओं में पनपती सभ्यताओं✒️हैं सुखी संपन्न जग में जीवगण, फिर काव्य की संवेदनाएँ कौन हैं?कंदराओं में पनपती सभ्यताओं, क्या तुम्हारी भावनायें मौन हैं?आयु पूरी हो चुकी है आदमी की,साँस, या अब भी ज़रा बाकी रही है?मर चुकी इंसानियत का ढेर है यह,या दलीलें बाँचनी बाकी रही हैं?हैं मगन इस सृष्टि के वासी सभी गर,
24 जून 2019
25 जून 2019
क्या लिखा होता है मेरी डायरी में यही कुछ नज्में कुछ शायरी कुछ गजलें और कुछ आधी अधूरी सी कविताएँ और इन्ही कविताओं में कुछ रोता बिलखता ,कुछ टुटा फूटा कुछ ख्यालों में खोया ,और कुछ खुद में ही बातें करता हुआ शब्द कुछ पन्नों पर स्याही पि
25 जून 2019
18 जून 2019
मै बिना टिकट के सफर करता रहा स्टेशन पर टीटी मेरा इन्तज़ार करता रहा आसमान से गिरा हू तो ख़जूर में क्यू अटकू मै गिरा आम के बगीचे में , ख़जूर मेरा इन्तज़ार करता रहा दिले इश्क़ का मरीज़ हू तो आऊँगा जरूर , ये सो
18 जून 2019
04 जून 2019
निस्वार्थप्रेम ही है ध्यानसंसार के समस्त वैभव होते हुए भीकँगाल है मनुष्य, रीते हैं हाथ उसके यदि नहीं है प्रेम का धन उसके पास...किया जा सकता है प्रेम समस्त चराचर से क्योंकि नहीं होता कोई कँगाल दान करने से प्रेमकाजितना देते हैं / बढ़ता है उतना ही...नहीं है कोई परिभाषा इसकी / न ही कोई नाम / न रूपबस है
04 जून 2019
22 जून 2019
बहुत दिन हो गए दुःख को यहाँ आये,जमाना बीत गया यहाँ पैर फैलाये,सोचा आज कर ही लेते है दुःख से साक्षात्कार,पूछ लेते है क्या है इसके आगे के विचार,हमने पूछा दुःख से थोडा घबरा कर,वो भी सहम गया हमे अपने पास पाकर,आजकल काफी पहचाने जा रहे हो,महंगाई ,गरीबी, गैंगरेप आदि विषयो से चर्चा में आ रहे हो...दुःख चोंका,
22 जून 2019
15 जून 2019
सूर्य का मिथुन में गोचर आज सायं पाँच बजकर उन्तालीस मिनट केलगभग भगवान भास्कर अपने शत्रु गृह शुक्र की वृषभ राशि से निकल कर बुध की मिथुनराशि में प्रविष्ट हो जाएँगे, जहाँ उनके लिए विचित्र परिस्थिति बनी हुई है | एक ओरउनका मित्र ग्रह मंगल वहाँ गोचर कर रहा है तो वहीं दूसरी ओर एक शत्रु ग्रह राहु कागोचर भी व
15 जून 2019
24 जून 2019
प्रकृति की, स्तब्धकारी ख़ामोशी की, गहन व्याख्या करते-करते, पुरखा-पुरखिन भी निढाल हो गये, सागर, नदियाँ, झरने, पर्वत-पहाड़, पोखर-ताल, जीवधारी, हरियाली, झाड़-झँखाड़,क्या मानव के मातहत निहाल हो गये?नहीं!... कदापि नहीं!!औद्योगिक क्राँति, पूँजी का ध्रुवीकरण, बेचारा सहमा सकुचाया मा
24 जून 2019
20 जून 2019
बुध का कर्क में गोचर कल यानी शुक्रवार, 21जून, आषाढ़ कृष्ण चतुर्थी को बव करण और वैधृति योग में 26:27(अर्द्धरात्र्योत्तर दो बजकर सत्ताईस मिनट) के लगभग बुध अपनी स्वयं की राशि मिथुनको छोड़कर चन्द्रमा की कर्क राशि में प्रस्थान कर जाएँगे | इस प्रस्थान के समय बुध पुनर्वसुनक्षत्र पर होगा तथा गुरु की दृष्टि भी
20 जून 2019
21 जून 2019
एक तस्वीर है मेरी आँखों में , मैं नहीं जानती यह तस्वीर किसका है ,शायद ये किसी जनम का एक ख्याली सच है ,जो हमेशा मेरी तस्वुर में बहता है ,मैं खुद में रहूँ या न रहूँ ,मगर यह तस्वीर मुझमें हमेशा रहता है ,यह तस्वीर भी बेरंग है ,बिलकुल म
21 जून 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x