गीतिका

18 जून 2019   |  महातम मिश्रा   (9 बार पढ़ा जा चुका है)

प्रस्तुत गीतिका, मापनी-2212 122 2212 122, समांत- अना, स्वर, पदांत- कठिन लगा था..... ॐ जय माँ शारदा!


"गीतिका"


अंजान रास्तों पर चलना कठिन लगा था

थे सब नए मुसाफिर मिलना कठिन लगा था

सबके निगाह में थी अपनों की सुध विचरती

घर से बिछड़ के जीवन कितना कठिन लगा था।।


आसान कब था रहना परदेश का ठिकाना

रातें गुजारी गिन दिन गिनना कठिन लगा था।।


कुछ दिन खले थे मौसम पानी अजीब पाकर

था दर्द का समय वह कटना कठिन लगा था।।


जब याद आती घर की तो गाते थे दिलासा

माँ से भी झूठ बोला सच कहना कठिन लगा था।।


जब लौट घर को आया वापस न प्यार पाया

बदली थी सूरतें मन मिलना कठिन लगा था।।


गौतम बिला वजह के परेशान हो गया मन

खुद के मीनार पर जब चढ़ना कठिन लगा था।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: गीतिका



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
05 जून 2019
दो
"दोहा"व्यंग बुझौनी बतकही, कर देती लाचारसमझ गए तो जीत है, बरना दिल बेजार।।हँस के मत विसराइये, कड़वी होती बात।व्यंग वाण बिन तीर के, भर देता आघात।।सहज भाव मृदुभासिनी, करती है जब व्यंग।घायल हो जाता चमन, लेकर सातों रंग।।व्यंग बिना बहती नहीं, महफ़िल में रसधार।इक दूजे को नोचकर, देते हैं उपहार।।बड़े-बड़े घंटाल
05 जून 2019
09 जून 2019
कु
'"कुंडलिया"बालक नन्हा धूल में, जीने को मजबूरलाचारी से जूझता, इसका कहाँ कसूरइसका कहाँ कसूर, हुजूर वस्र नहिं दानामाता-पिता गरीब, रहा नहिं काना नानाकह गौतम कविराय, प्रभो तुम सबके पालकबचपन वृद्ध समान, सभी हैं तेरे बालक।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
09 जून 2019
26 जून 2019
दो
कुछ दोहेदिया हाथ में हाथ है, दिल भी इसके साथ।करना दिल से जतन तुम, मेरे कोमल हाथ।।-1दिल की गागर कोमली, रखना अपने पास।छूट न जाये हाथ से, अति सुन्दर अहसास।।-2कभी छोड़ जाना नहीं, मर्म मुलायम साथ।मिलते हैं दिल खोलकर, मतलब के भी हाथ।।-3कर जाती हैं आँख यह, हाथों के भी काम।दिल की नगरी कब बसी, चाहत राहत आम।
26 जून 2019
17 जून 2019
हा
--हाकलि छंद - हाकलि छंद में प्रत्येक चरण में तीन चौकल अंत में एक गुरु के संयोग से १४ मात्राएँ होती है l चरणान्त में s, ss ,।। एवं सगण l ls आदि हो सकते हैं l कतिपय विद्वानों छन्दानुरागियों का मत है चौदह मात्रा में यदि प्रत्येक चरण में तीन चौकल एवं एक दीर्घ [गुरु ] न होने पर उस छंद को हमें मानव छंद क
17 जून 2019
04 जून 2019
कु
"कुंडलिया"बालू पर पदचिन्ह के, पड़ते सहज निशान।आते- जाते राह भी, घिस देती पहचान।।घिस देती पहचान, मान मन, मन का कहना।स्वारथ में सब लोग, भूलते भाई बहना।।कह गौतम कविराय, नाचता है जब भालू।गिरते काले बाल, सरकते देखा बालू।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
04 जून 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x