गीतिका

18 जून 2019   |  महातम मिश्रा   (19 बार पढ़ा जा चुका है)

प्रस्तुत गीतिका, मापनी-2212 122 2212 122, समांत- अना, स्वर, पदांत- कठिन लगा था..... ॐ जय माँ शारदा!


"गीतिका"


अंजान रास्तों पर चलना कठिन लगा था

थे सब नए मुसाफिर मिलना कठिन लगा था

सबके निगाह में थी अपनों की सुध विचरती

घर से बिछड़ के जीवन कितना कठिन लगा था।।


आसान कब था रहना परदेश का ठिकाना

रातें गुजारी गिन दिन गिनना कठिन लगा था।।


कुछ दिन खले थे मौसम पानी अजीब पाकर

था दर्द का समय वह कटना कठिन लगा था।।


जब याद आती घर की तो गाते थे दिलासा

माँ से भी झूठ बोला सच कहना कठिन लगा था।।


जब लौट घर को आया वापस न प्यार पाया

बदली थी सूरतें मन मिलना कठिन लगा था।।


गौतम बिला वजह के परेशान हो गया मन

खुद के मीनार पर जब चढ़ना कठिन लगा था।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: दोहा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
27 जून 2019
गी
मंच को प्रस्तुत गीतिका, मापनी- 2222 2222 2222, समान्त- अन, पदांत- में...... ॐ जय माँ शारदा!"गीतिका"बरसोगे घनश्याम कभी तुम मेरे वन मेंदिल दे बैठी श्याम सखा अब तेरे घन मेंबोले कोयल रोज तड़फती है क्यूँ राधाकह दो मेरे कान्ह जतन करते हो मन में।।उमड़ घुमड़ कर रोज बरसता है जब सावनमुरली की धुन चहक बजाते तुम मध
27 जून 2019
09 जून 2019
कु
'"कुंडलिया"बालक नन्हा धूल में, जीने को मजबूरलाचारी से जूझता, इसका कहाँ कसूरइसका कहाँ कसूर, हुजूर वस्र नहिं दानामाता-पिता गरीब, रहा नहिं काना नानाकह गौतम कविराय, प्रभो तुम सबके पालकबचपन वृद्ध समान, सभी हैं तेरे बालक।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
09 जून 2019
17 जून 2019
हा
--हाकलि छंद - हाकलि छंद में प्रत्येक चरण में तीन चौकल अंत में एक गुरु के संयोग से १४ मात्राएँ होती है l चरणान्त में s, ss ,।। एवं सगण l ls आदि हो सकते हैं l कतिपय विद्वानों छन्दानुरागियों का मत है चौदह मात्रा में यदि प्रत्येक चरण में तीन चौकल एवं एक दीर्घ [गुरु ] न होने पर उस छंद को हमें मानव छंद क
17 जून 2019
08 जून 2019
गी
"दोहा गीतिका"बहुत दिनों के बाद अब, हुई कलम से प्रीतिमाँ शारद अनुनय करूँ, भर दे गागर गीतस्वस्थ रहें सुर शब्द सब, स्वस्थ ताल त्यौहारमातु भावना हो मधुर, पनपे मन मह नीति।।कर्म फलित होता सदा, दे माते आशीषकर्म धर्म से लिप्त हो, निकले नव संगीत।।सुख-दुख दोनों हैं सगे, दोनों की गति एककष्ट न दे दुख अति गहन, स
08 जून 2019
28 जून 2019
मु
शीर्षक -दीवार,भीत,दीवाल"मुक्तक"किधर बनी दीवार है खोद रहे क्यूँ भीत।बहुत पुरानी नीव है, मिली जुली है रीत।छत छप्पर चित एक सा, एक सरीखा सोच-कलह सुलह सर्वत्र सम, घर साधक मनमीत।।नई नई दीवार है, दरक न जाए भीत।कौआ अपने ताव में, गाए कोयल गीत।दोनों की अपनी अदा, रूप रंग कुल एक-एक भुवन नभ एक है, इतर राग क्यों
28 जून 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x