मुक्त काव्य

19 जून 2019   |  महातम मिश्रा   (31 बार पढ़ा जा चुका है)

"मुक्त काव्य"


न बैठ के लिखा, न सोच के लिखा

तुझे देखा तो रहा न गया और खत लिखा

जब लिखने लगा तो पढ़ना मुश्किल हो गया

अब पढ़ने लगा हूँ तो लिखना मुश्किल है

अजीब है री तू भी पलपल सरकती जिंदगी

तुझे पाने के लिए अर्थहीन शब्दों में क्या क्या न लिखा।।


कभी रार लिखा तो कभी प्यार लिख बैठा

कभी मन ही मन में तेरा श्रृंगार लिख बैठा

कभी आल्हा की तर्ज आजमाईश की

कभी अतिशयोक्ति की बौछार की

कभी पद को सँवारने लगा कभी दोहे को दूहने लगा

कभी छंद को बाहों में समेटने की कोशिश भी की

कभी गजल गीतिका में हूबहू तेरा किरदार लिख बैठा।।


जब भी सम्मान लिखने बैठा अपमान गले पड़ गए

मंच पर भी गया और तेरा घूँघट उठाया

तालियों के बीच कभी गालियों के बीच वाह मिली

कभी जमीन पर बैठा तो कभी पेड़ पर चढ़ गया

पीले सरसो में तुझे ढूंढा, अमराइयों में ढूंढा

वन बाग पहाड़ नदी नाले तालाब व समंदर में ढूंढा

तू थी जब साथ साथ तो बोझ लगा फीका

हर रात संग बिताया पर दिन को लिख न पाया

सम्हाल कोरा कागज इकरार लिखा जिसमें।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: दोहा



वाह, क्या कहना, बहुत बढ़िया

हार्दिक धन्यवाद आदरणीया, स्वागतम

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
28 जून 2019
मु
शीर्षक -दीवार,भीत,दीवाल"मुक्तक"किधर बनी दीवार है खोद रहे क्यूँ भीत।बहुत पुरानी नीव है, मिली जुली है रीत।छत छप्पर चित एक सा, एक सरीखा सोच-कलह सुलह सर्वत्र सम, घर साधक मनमीत।।नई नई दीवार है, दरक न जाए भीत।कौआ अपने ताव में, गाए कोयल गीत।दोनों की अपनी अदा, रूप रंग कुल एक-एक भुवन नभ एक है, इतर राग क्यों
28 जून 2019
12 जून 2019
मु
"मुक्त काव्य"दिन से दिन की बात हैकिसकी अपनी रात हैबिना मांगे यह कैसी सौगात हैइक दिन वह भी था जब धूप में नहा लिएआज घने छाए में भी बिन चाहत भीगती रात हैउमसते हैं कसकते हैं और बिदकते हैंकाश, वह दिन होता और वैसे ही जज्बातफिर न होता यह धधकता दिनऔर न होती यह सिसकती रातपेड़ पौधे भी करते हैं आपस में बात।।महु
12 जून 2019
11 जून 2019
मु
मुक्तकमेरे ख्याल की मखमली चादर पर आएं तो कभी सुकून प्रेम का गहना है रहबर आजमाएं तो कभी इंतजार पर मौन रहता है दिल आँखें झूठ न बोलेमौसम की हवा में मौसमी लाकर इतराएं तो कभी ।।महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी
11 जून 2019
20 जून 2019
कुछ रास्तों की अपनी जुबां होती है,कोई मोड़ चीखता है,किसी कदम पर आह होती है…पूछे ज़माना कि इतने ज़माने क्या करते रहे?ज़हरीले कुओं को राख से भरते रहे,फर्ज़ी फकीरों के पैरों में पड़ते रहे,गुजारिशों का ब्याज जमा करते रहे,हारे वज़ीरों से लड़ते रहे…और …खुद की ईजाद बीमारियों में खुद ही मरते रहे!रास्तों से अब बैर ह
20 जून 2019
16 जून 2019
हा
पितृ दिवस पर प्रस्तुत है हालकि छंद, आदणीय पिता श्री को सादर प्रणाम एवं सभी मित्रों को हर्षित बधाई, ॐ जय माँ शारदा!हाकलि छंदपिता दिवस पर प्रण करें, पीर पराई मिल हरें।कष्ट न दें निश्चित करें, मातु पिता ममता भरें।बने पिता की लाठी भी, माता सुख संघाती भी।पूत कपूत नहिं हो ह
16 जून 2019
12 जून 2019
मु
"मुक्त काव्य"दिन से दिन की बात हैकिसकी अपनी रात हैबिना मांगे यह कैसी सौगात हैइक दिन वह भी था जब धूप में नहा लिएआज घने छाए में भी बिन चाहत भीगती रात हैउमसते हैं कसकते हैं और बिदकते हैंकाश, वह दिन होता और वैसे ही जज्बातफिर न होता यह धधकता दिनऔर न होती यह सिसकती रातपेड़ पौधे भी करते हैं आपस में बात।।महु
12 जून 2019
18 जून 2019
गी
प्रस्तुत गीतिका, मापनी-2212 122 2212 122, समांत- अना, स्वर, पदांत- कठिन लगा था..... ॐ जय माँ शारदा!"गीतिका"अंजान रास्तों पर चलना कठिन लगा थाथे सब नए मुसाफिर मिलना कठिन लगा थासबके निगाह में थी अपनों की सुध विचरतीघर से बिछड़ के जीवन कितना कठिन लगा था।।आसान कब था रहना परदेश का ठिकानारातें गुजारी गिन दि
18 जून 2019
26 जून 2019
दो
कुछ दोहेदिया हाथ में हाथ है, दिल भी इसके साथ।करना दिल से जतन तुम, मेरे कोमल हाथ।।-1दिल की गागर कोमली, रखना अपने पास।छूट न जाये हाथ से, अति सुन्दर अहसास।।-2कभी छोड़ जाना नहीं, मर्म मुलायम साथ।मिलते हैं दिल खोलकर, मतलब के भी हाथ।।-3कर जाती हैं आँख यह, हाथों के भी काम।दिल की नगरी कब बसी, चाहत राहत आम।
26 जून 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x