नियम प्रकृति का

20 जून 2019   |  डॉ पूर्णिमा शर्मा   (42 बार पढ़ा जा चुका है)

नियम प्रकृति का

नियम प्रकृति का

सरल नहीं पकड़ना / पुष्पों के गिर्द इठलाती तितली को |

हर वृक्ष पर पुष्पित हर पुष्प उसका है

तभी तो इतराती फिरती है कभी यहाँ कभी वहाँ / निर्बाध गति से…

बाँध सकोगे मुक्त आकाश में ऊँची उड़ान भरते पक्षियों को ?

समस्त आकाश है क्रीड़ास्थली उनकी

हाथ फैलाओगे कहाँ तक ?

कितने बाँध बना दो कल कल छल छल करती नदिया पर

उन्मुक्त प्रवाह से निकाल ही लेगी राह यहाँ से वहाँ से

पहुँचने को प्रियतम सागर के पास / एकाकार हो जाने को…

स्वच्छन्द बहती मलय पवन की बयार के साथ

बहते चले जाओगे तुम भी किसी अनजानी सी दिशा में…

उन्मुक्त प्रवाहित होती ये मदिराई बयार

उड़ा ले जाएगी दूर कहीं / क्षितिज के भी पार

जहाँ बिखरी होगी आभा इन्द्रधनुष की

इस छोर से उस छोर तक…

और तब होगा अहसास अपने एक होने का

इस समूचे ब्रह्माण्ड के साथ…

क्योंकि ये तितलियाँ, ये कल कल छल छल बहती नदिया,

ये खगचर, मलयानिल / ये बहुरंगी इन्द्रधनुष

मचलते हैं, प्रवाहित होते हैं, खिलते हैं

पूर्ण स्वच्छन्दता से, अपनी शर्तों पर...

नहीं होगी जहाँ कोई शर्त / नहीं कोई बन्धन

अपनी शर्तों पर उतरेंगे जब भवसागर की लहरों में

और बहते चले जाएँगे जब समय की धाराओं के साथ

धाराएँ स्वयं ही हो जाएँगी अनुकूल

और पहुँचा देंगी तट पर बिना किसी प्रयास के…

कठिन अवश्य है / किन्तु असम्भव नहीं

क्योंकि यही है नियम प्रकृति का

शाश्वत… अविचल… निरन्तर…

अगला लेख: साप्ताहिक राशिफल १० जून से १६ जून



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
25 जून 2019
नक्षत्रों के गुण हमने अपने पिछले अध्यायों में नक्षत्रों की नाड़ी, योनि, गण, वश्य औरतत्वों के विषय में बात की | नक्षत्रों का विभाजन तीन गुणों – सत्व, रजस और तमस – केआधार पर भी किया जाता है | इन तीनों ही गुणों की आध्यात्मिक तथा दार्शनिक दृष्टिसे चर्चा तो इतनी विषद हो जाती है कि जिसका कभी अन्त ही सम्भव
25 जून 2019
02 जुलाई 2019
टूटी है वो निस्तब्धता,निर्लिप्त जहाँ, सदियों ये मन था!खामोश शिलाओं की, टूट चुकी है निन्द्रा,डोल उठे हैं वो, कुछ बोल चुके हैं वो,जिस पर्वत पर थे, उसको तोल चुके हैं वो,निःस्तब्ध पड़े थे, वहाँ वो वर्षों खड़े थे, शिखर पर उनकी, मोतियों से जड़े थे, उनमें ही निर्लिप्त, स्वयं में संतृप्त, प्यास जगी थी, या
02 जुलाई 2019
22 जून 2019
मंगल का कर्क में गोचरआज आषाढ़ कृष्ण षष्ठीको रात्रि ग्यारह बजकर बाईस मिनट के लगभग मंगल अपने शत्रु गृह बुध की मिथुन राशिसे निकल कर राशि कर्क में प्रस्थान कर जाएगा – जहाँ कल ही बुध का भी गोचर हुआ है | इसप्रस्थान के समय गर करण और प्रीति योग होगा तथा मंगल इस समय पुनर्वसु नक्षत्र परहोगा | बुध वहाँ पहले ही
22 जून 2019
04 जुलाई 2019
मै
ए हमदम मेरे और दीवाने मेरे मैं भी देख दीवानी बन गई हूं मुहब्बत का तेरी ऐसा असर है हरी बेल सी आज मैं तन गई हूं मेरा मोल समझा ना पहले किसी ने मुझको फकत एक नाचीज समझा तूने मोल मेरा है जब से बताया अब तो मैं अनमोल बन धन गई हूं अकेली थी जब तो हिम्मत नहीं थी चारो तरफ नाग लहरा रहे थे जब से मिला है तेरा साथ
04 जुलाई 2019
04 जुलाई 2019
मधुर मिलन की है आस मन में कोशिश जरा तो कर लो मुझको लगाओ सीने से अपने बाहों के बीच भर लो ये जिंदगी है कुछ पल का मेला सोचो ना हद से ज्यादा औरों की सुन के देखो ना हरदम सूनी कोई डगर लो दिल में छुपा के कब तक रखोगे मन जो भी कह रहा है अधरों के बीच तुम भी सनम ए मेरी ही सांस धर लो इंसान हो तो इंसा रहो ना भगव
04 जुलाई 2019
23 जून 2019
24 से 30 जून 2019 तक का साप्ताहिक राशिफलनीचे दिया राशिफल चन्द्रमा की राशि परआधारित है और आवश्यक नहीं कि हर किसी के लिए सही ही हो – क्योंकि लगभग सवा दो दिनचन्द्रमा एक राशि में रहता है और उस सवा दो दिनों की अवधि में न जाने कितने लोगोंका जन्म होता है | साथ ही ये फलकथन केवलग्रहों के तात्कालिक गोचर पर आध
23 जून 2019
22 जून 2019
बहुत दिन हो गए दुःख को यहाँ आये,जमाना बीत गया यहाँ पैर फैलाये,सोचा आज कर ही लेते है दुःख से साक्षात्कार,पूछ लेते है क्या है इसके आगे के विचार,हमने पूछा दुःख से थोडा घबरा कर,वो भी सहम गया हमे अपने पास पाकर,आजकल काफी पहचाने जा रहे हो,महंगाई ,गरीबी, गैंगरेप आदि विषयो से चर्चा में आ रहे हो...दुःख चोंका,
22 जून 2019
04 जुलाई 2019
झं
अगर प्यार होता नहीं मेरे मन में तो कैसे मैं इसका इकरार करती कितना भी चाहे तू मुझको लुभाता इसका ना हरगिज मैं इजहार करती औरत के मन में बसे गर ना कोई उससे वो फिर दूरियां है बनाती फिर भी अगर कोई पीछा करे तो ऊंची मैं छिपने को दीवार करती राहों में तेरी पलके बिछा कर बैठी हूँ कब से तुझे देखने को अगर मेरे दि
04 जुलाई 2019
24 जून 2019
प्रकृति की, स्तब्धकारी ख़ामोशी की, गहन व्याख्या करते-करते, पुरखा-पुरखिन भी निढाल हो गये, सागर, नदियाँ, झरने, पर्वत-पहाड़, पोखर-ताल, जीवधारी, हरियाली, झाड़-झँखाड़,क्या मानव के मातहत निहाल हो गये?नहीं!... कदापि नहीं!!औद्योगिक क्राँति, पूँजी का ध्रुवीकरण, बेचारा सहमा सकुचाया मा
24 जून 2019
04 जुलाई 2019
जा
वो जादू है मुहब्बत में जवां जो मन को करता है ना जाने फिर भी क्यों इंसान प्रीति धन को करता है बोल वो प्यार के तेरे समां जाते हैं नस नस में लहू सा बन के फिर ये प्रेम शीतल तन को करता है मुहब्बत की आस पाले नाचते मोर को देखो मोरनी से मिलन को प्यार वो इस घन को करता है मुहब्बत के वार से ही उसने दुनिया हरा
04 जुलाई 2019
28 जून 2019
मूक बधिर सत्य, स्थिर खड़ा एक कोने में, बड़े ध्यान से देख रहा है, सामने चल रही सभा को, झूठ, अपराध, भ्रष्टाचार इत्यादि, व्यस्त है अपने कर्मो के बखानो में, सब एक से बढ़ कर एक, आंकड़े दर्शा रहे है, सहसा दृष्टि गयी सामने सत्य की, सिर झुकाये सोफे पर बैठा, आत्मसम्मान, सब कुछ देख
28 जून 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x