पूरक एक दूसरे के

28 जून 2019   |  कपिल सिंह   (36 बार पढ़ा जा चुका है)

पूरक एक दूसरे के

मूक बधिर सत्य,
स्थिर खड़ा एक कोने में,
बड़े ध्यान से देख रहा है,
सामने चल रही सभा को,
झूठ, अपराध, भ्रष्टाचार इत्यादि,
व्यस्त है अपने कर्मो के बखानो में,
सब एक से बढ़ कर एक,
आंकड़े दर्शा रहे है,
सहसा दृष्टि गयी सामने सत्य की,
सिर झुकाये सोफे पर बैठा,
आत्मसम्मान,
सब कुछ देख सुन कर भी,
मौन है,
सहस्त्र प्रयासों के पश्चात भी,
अहसास ना करा पाया सत्य,
स्वयं की उपस्तिथि का,
देख कर भी अनदेखा कर दिया,
आत्मसम्मान ने,
हुआ करते थे ये कभी,
पूरक एक दूसरे के l

मूक बधिर सत्य,
स्थिर खड़ा एक कोने में,
बड़े ध्यान से देख रहा है,
सामने चल रही सभा को,
झूठ, अपराध, भ्रष्टाचार इत्यादि,
व्यस्त है अपने कर्मो के बखानो में,
सब एक से बढ़ कर एक,
आंकड़े दर्शा रहे है,
सहसा दृष्टि गयी सामने सत्य की,
सिर झुकाये सोफे पर बैठा,
आत्मसम्मान,
सब कुछ देख सुन कर भी,
मौन है,
सहस्त्र प्रयासों के पश्चात भी,
अहसास ना करा पाया सत्य,
स्वयं की उपस्तिथि का,
देख कर भी अनदेखा कर दिया,
आत्मसम्मान ने,
हुआ करते थे ये कभी,
पूरक एक दूसरे के l

Poetry-Bucket: पूरक एक दूसरे के

अगला लेख: वृद्धों की समस्या का तुलनात्मक पहलु अवश्य पढ़ें ...



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x