जादू

04 जुलाई 2019   |  शिशिर मधुकर   (22 बार पढ़ा जा चुका है)

वो जादू है मुहब्बत में जवां जो मन को करता है

ना जाने फिर भी क्यों इंसान प्रीति धन को करता है


बोल वो प्यार के तेरे समां जाते हैं नस नस में

लहू सा बन के फिर ये प्रेम शीतल तन को करता है


मुहब्बत की आस पाले नाचते मोर को देखो

मोरनी से मिलन को प्यार वो इस घन को करता है


मुहब्बत के वार से ही उसने दुनिया हरा डाली

मधुकर सर झुका एहतराम उसके फन को करता है


जहां पैदा हुआ महबूब उसका चांद सा प्यारा

नमन वो ऐसी मिट्टी के हर इक कन कन को करता है



अगला लेख: मैं भी देख दीवानी बन गई हूं



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
04 जुलाई 2019
मधुर मिलन की है आस मन में कोशिश जरा तो कर लो मुझको लगाओ सीने से अपने बाहों के बीच भर लो ये जिंदगी है कुछ पल का मेला सोचो ना हद से ज्यादा औरों की सुन के देखो ना हरदम सूनी कोई डगर लो दिल में छुपा के कब तक रखोगे मन जो भी कह रहा है अधरों के बीच तुम भी सनम ए मेरी ही सांस धर लो इंसान हो तो इंसा रहो ना भगव
04 जुलाई 2019
28 जून 2019
मूक बधिर सत्य, स्थिर खड़ा एक कोने में, बड़े ध्यान से देख रहा है, सामने चल रही सभा को, झूठ, अपराध, भ्रष्टाचार इत्यादि, व्यस्त है अपने कर्मो के बखानो में, सब एक से बढ़ कर एक, आंकड़े दर्शा रहे है, सहसा दृष्टि गयी सामने सत्य की, सिर झुकाये सोफे पर बैठा, आत्मसम्मान, सब कुछ देख
28 जून 2019
04 जुलाई 2019
मै
ए हमदम मेरे और दीवाने मेरे मैं भी देख दीवानी बन गई हूं मुहब्बत का तेरी ऐसा असर है हरी बेल सी आज मैं तन गई हूं मेरा मोल समझा ना पहले किसी ने मुझको फकत एक नाचीज समझा तूने मोल मेरा है जब से बताया अब तो मैं अनमोल बन धन गई हूं अकेली थी जब तो हिम्मत नहीं थी चारो तरफ नाग लहरा रहे थे जब से मिला है तेरा साथ
04 जुलाई 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x