जादू

04 जुलाई 2019   |  शिशिर मधुकर   (15 बार पढ़ा जा चुका है)

वो जादू है मुहब्बत में जवां जो मन को करता है

ना जाने फिर भी क्यों इंसान प्रीति धन को करता है


बोल वो प्यार के तेरे समां जाते हैं नस नस में

लहू सा बन के फिर ये प्रेम शीतल तन को करता है


मुहब्बत की आस पाले नाचते मोर को देखो

मोरनी से मिलन को प्यार वो इस घन को करता है


मुहब्बत के वार से ही उसने दुनिया हरा डाली

मधुकर सर झुका एहतराम उसके फन को करता है


जहां पैदा हुआ महबूब उसका चांद सा प्यारा

नमन वो ऐसी मिट्टी के हर इक कन कन को करता है



अगला लेख: मैं भी देख दीवानी बन गई हूं



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
18 जुलाई 2019
दुर्गा! तेरे रूप अनेक - माँ दुर्गा, भिक्षा लेकर केलौटी माटी के प्रांगण में,आधे से ज़्यादा शेष हुएचावल उसके, ऋण-शोधन में…बाक़ी जो बचे हुए उससेकैसे पूरा होगा, गणेश !कार्तिकेय भूख से बिलख रहागांजा पीकर बैठे महेश…इतने अभाव की सीमा मेंलक्ष्मी, सरस्वती भी पलती है,दुर्गा आँसू
18 जुलाई 2019
04 जुलाई 2019
मै
ए हमदम मेरे और दीवाने मेरे मैं भी देख दीवानी बन गई हूं मुहब्बत का तेरी ऐसा असर है हरी बेल सी आज मैं तन गई हूं मेरा मोल समझा ना पहले किसी ने मुझको फकत एक नाचीज समझा तूने मोल मेरा है जब से बताया अब तो मैं अनमोल बन धन गई हूं अकेली थी जब तो हिम्मत नहीं थी चारो तरफ नाग लहरा रहे थे जब से मिला है तेरा साथ
04 जुलाई 2019
04 जुलाई 2019
झं
अगर प्यार होता नहीं मेरे मन में तो कैसे मैं इसका इकरार करती कितना भी चाहे तू मुझको लुभाता इसका ना हरगिज मैं इजहार करती औरत के मन में बसे गर ना कोई उससे वो फिर दूरियां है बनाती फिर भी अगर कोई पीछा करे तो ऊंची मैं छिपने को दीवार करती राहों में तेरी पलके बिछा कर बैठी हूँ कब से तुझे देखने को अगर मेरे दि
04 जुलाई 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x