झंकार

04 जुलाई 2019   |  शिशिर मधुकर   (176 बार पढ़ा जा चुका है)

अगर प्यार होता नहीं मेरे मन में

तो कैसे मैं इसका इकरार करती

कितना भी चाहे तू मुझको लुभाता

इसका ना हरगिज मैं इजहार करती


औरत के मन में बसे गर ना कोई

उससे वो फिर दूरियां है बनाती

फिर भी अगर कोई पीछा करे तो

ऊंची मैं छिपने को दीवार करती


राहों में तेरी पलके बिछा कर

बैठी हूँ कब से तुझे देखने को

अगर मेरे दिल में हलचल ना होती

बागों को भी मैं फिर खार करती


बातें जो मेरी शहद हो रही हैं

तेरे प्यार का ही इक ये असर है

अगर कोई मुझको सुकूं सा ना मिलता

रूखा मैं तुझसे व्यवहार करती


अगर वक्त मुझको मौक़ा सा देता

मैं तेरी बलाओं को सर अपने लेती

तेरे घर की जीनत मैं बन जाती मधुकर

और फिर पायल की झंकार करती



अगला लेख: मैं भी देख दीवानी बन गई हूं



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 जुलाई 2019
टूटी है वो निस्तब्धता,निर्लिप्त जहाँ, सदियों ये मन था!खामोश शिलाओं की, टूट चुकी है निन्द्रा,डोल उठे हैं वो, कुछ बोल चुके हैं वो,जिस पर्वत पर थे, उसको तोल चुके हैं वो,निःस्तब्ध पड़े थे, वहाँ वो वर्षों खड़े थे, शिखर पर उनकी, मोतियों से जड़े थे, उनमें ही निर्लिप्त, स्वयं में संतृप्त, प्यास जगी थी, या
02 जुलाई 2019
18 जुलाई 2019
जुल्म करके भी तुम मुकर जाते हो,ऐसी फ़ित्रत कहाँ से तुम लाते हो?दर्द का एहसास अब भी होता मुझे,जब मुश्किलात में ख़ुद को पाते हो।मेरा रहगुज़र अब कहीं दिखता नहीं,बूढ़े ज़ख़्म को अब क्यों दिखाते हो?उसकी कैफ़ीयत अब सवाल करती,उस शख़्स को भला क्यों सताते हो?कुछ लोग रस्सी को साँप बनाते यों ही,अपनी बातों में भला क्यो
18 जुलाई 2019
04 जुलाई 2019
मै
ए हमदम मेरे और दीवाने मेरे मैं भी देख दीवानी बन गई हूं मुहब्बत का तेरी ऐसा असर है हरी बेल सी आज मैं तन गई हूं मेरा मोल समझा ना पहले किसी ने मुझको फकत एक नाचीज समझा तूने मोल मेरा है जब से बताया अब तो मैं अनमोल बन धन गई हूं अकेली थी जब तो हिम्मत नहीं थी चारो तरफ नाग लहरा रहे थे जब से मिला है तेरा साथ
04 जुलाई 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x