बातचीत की खिड़की

07 जुलाई 2019   |  कपिल सिंह   (1646 बार पढ़ा जा चुका है)

बातचीत की खिड़की

एक दिन जी मेल पर…
अवसर मिला लॉग इन करने का.…
सोचा सब दोस्तों से कर लूँगा बातचीत…
जान लूँगा हाल उनके …
और बता दूंगा अपने भी.…
एक दोस्त को क्लिक किया ….
चैटिंग लिस्ट में से ढूंढ कर…
चेट विंडो में उसकी …
लाल बत्ती जल रही थी.…
जो एक चेतावनी दे रही थी.…
दोस्त इज बिजी, यू मे इन्टरुप्टिंग.…
हमे आया गुस्सा …
बोले चेट विंडो से….
अरे रुकावट तो तुम बन रही हो.…
हम दो दोस्तों के बीच.…
लाल बत्ती और धमकी भरी चेतावनी से….
डरा रही हो…
वो कुछ ना बोली …
और ना दोस्त कुछ बोला ….
हम कुछ देर रुके ….
और फिर एक दोस्त पर क्लिक किया ….
इस बार हरी बत्ती थी ….
मन प्रसन्न हुआ ….
इस से जरुर बात होगी …
हमने पूछा प्रेम से....
कैसे हो?
कुछ देर तक जवाब ना आया ….
और हरी दिखने वाली बत्ती …
कब नारंगी हो गयी ….
पता ना चला …
हम थोड़े मायूस हुए…
लेकिन एक बार फिर सहस्त्र आशाओ के बल पर…
फिर एक दोस्त को क्लिक किया….
सहसा आशाओ का बल अदृश्य हुआ ….
एक विचार आया.…
और हमने स्वतः ही वो .…
बातचीत की खिड़की बंद कर दी ….
और अनिश्चित काल के लिए …
लॉगआउट हो गए । ।


अगला लेख: फिर भी आश्वस्त था



नमस्कार कपिल जी, आपका लेख ' वृद्धों की समस्या का तुलनात्मक पहलु' शब्दनगरी के फेसबुक पेज पर प्रकाशित हुआ है ... फेसबुक पर शब्दनगरी सर्च कर आप देख सकते है -https://www.facebook.com/shabdanagari/

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
04 जुलाई 2019
मधुर मिलन की है आस मन में कोशिश जरा तो कर लो मुझको लगाओ सीने से अपने बाहों के बीच भर लो ये जिंदगी है कुछ पल का मेला सोचो ना हद से ज्यादा औरों की सुन के देखो ना हरदम सूनी कोई डगर लो दिल में छुपा के कब तक रखोगे मन जो भी कह रहा है अधरों के बीच तुम भी सनम ए मेरी ही सांस धर लो इंसान हो तो इंसा रहो ना भगव
04 जुलाई 2019
18 जुलाई 2019
ना मीठा खाने के पहले सोचा करते थेना मीठा खाने के बाद....वो बचपन भी क्या बचपन थाना डायबिटिक की चिंता ना कॉलेस्ट्रॉल था...दो समोसे के बाद भीएक प्याज़ की कचोरी खा लेते थे..अब आधे समोसे में भी तेल ज्यादा लगता है...मिठाई भी ऐसी लेते है जिसमे मीठा कम होऔर कम नमक वाली नमकीन ढूंढते रहते है...खूब दौड़ते भागते
18 जुलाई 2019
04 जुलाई 2019
झं
अगर प्यार होता नहीं मेरे मन में तो कैसे मैं इसका इकरार करती कितना भी चाहे तू मुझको लुभाता इसका ना हरगिज मैं इजहार करती औरत के मन में बसे गर ना कोई उससे वो फिर दूरियां है बनाती फिर भी अगर कोई पीछा करे तो ऊंची मैं छिपने को दीवार करती राहों में तेरी पलके बिछा कर बैठी हूँ कब से तुझे देखने को अगर मेरे दि
04 जुलाई 2019
28 जून 2019
मूक बधिर सत्य, स्थिर खड़ा एक कोने में, बड़े ध्यान से देख रहा है, सामने चल रही सभा को, झूठ, अपराध, भ्रष्टाचार इत्यादि, व्यस्त है अपने कर्मो के बखानो में, सब एक से बढ़ कर एक, आंकड़े दर्शा रहे है, सहसा दृष्टि गयी सामने सत्य की, सिर झुकाये सोफे पर बैठा, आत्मसम्मान, सब कुछ देख
28 जून 2019
02 जुलाई 2019
टूटी है वो निस्तब्धता,निर्लिप्त जहाँ, सदियों ये मन था!खामोश शिलाओं की, टूट चुकी है निन्द्रा,डोल उठे हैं वो, कुछ बोल चुके हैं वो,जिस पर्वत पर थे, उसको तोल चुके हैं वो,निःस्तब्ध पड़े थे, वहाँ वो वर्षों खड़े थे, शिखर पर उनकी, मोतियों से जड़े थे, उनमें ही निर्लिप्त, स्वयं में संतृप्त, प्यास जगी थी, या
02 जुलाई 2019
04 जुलाई 2019
कई दशको पहले, यदि भारत में कुछ ऐसा घट जाता,जिस से ये देश धन सम्पन्न और विकसित बन जाता, चहुँमुखी विकास के साथ साथ,अन्तराष्ट्रीय व्यापर भी शशक्त हो जाता, और शशक्त हो जाती हिंदी भाषा, भारत में तो चारो और हिंदी बोली जाती ही ,और विदेशी भी हिंदी बोलते हुए आता,लड़खड़ाती हुई हिंदी बोलते हुए जब विदेशी आता,तो म
04 जुलाई 2019
19 जुलाई 2019
आज अनायस ही रसोईघर में रखे मसाले के डब्बे पर दृष्टी चली गयीजिसे देख मन में जीवन और मसालों के बीच तुलनात्मक विवेचना स्वतः ही आरम्भ हो गयी.... सर्वप्रथम हल्दी के पीत वर्ण रंग देख मन प्रफुल्लित हुआ जिस तरह एक चुटकी भर हल्दी अपने रंग में रंग देती है उसी समान अपने प्यार और सोहार्द्य से दुसरो को अपने रंग
19 जुलाई 2019
19 जुलाई 2019
आज अनायस ही रसोईघर में रखे मसाले के डब्बे पर दृष्टी चली गयीजिसे देख मन में जीवन और मसालों के बीच तुलनात्मक विवेचना स्वतः ही आरम्भ हो गयी.... सर्वप्रथम हल्दी के पीत वर्ण रंग देख मन प्रफुल्लित हुआ जिस तरह एक चुटकी भर हल्दी अपने रंग में रंग देती है उसी समान अपने प्यार और सोहार्द्य से दुसरो को अपने रंग
19 जुलाई 2019
09 जुलाई 2019
भगवान के साथ संवाद एक दिन रास्ते में मुझे एक वृद्ध महिला ने सहायता के लिए पुकारा। मैंने उनकी सड़क पार करने में सहायता की और साथ ही उन्हें खाने के लिए कुछ पैसे दिए। उन वृद्ध महिला के ढेरो आशीर्वाद लेकर मैं मुड़ा ही था कि मेरे इष्टदेव मेर
09 जुलाई 2019
22 जुलाई 2019
मैं अतिउत्साहित गंतव्य से कुछ ही दूर था, वहां पहुचने की ख़ुशी और जीत की कल्पना में मग्न था, सहस्त्र योजनाए और अनगिनत इच्छाओ की एक लम्बी सूची का निर्माण कर चुका था, सीमित गति और असीमित आकांक्षाओं के साथ निरंतर चल रहा था, इतने में समय आया किन्तु उसने गलत समय बताया, बंद हो गया अचानक सब कुछ जो कुछ समय पह
22 जुलाई 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
04 जुलाई 2019
18 जुलाई 2019
21 जुलाई 2019
21 जुलाई 2019
18 जुलाई 2019
जा
04 जुलाई 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x