हास्य व्यंग्य आधारित सृजन

08 जुलाई 2019   |  महातम मिश्रा   (1183 बार पढ़ा जा चुका है)


"चमचा भाई"


काहो चमचा भाई कैसे कटी रात हरजाई

भोरे मुर्गा बोले कूँ कूँह ठंडी की ऋतु आई

हाथ पाँव में ठारी मोरे साजन की बीमारी

सूरज ओस हवाई घिरि बदरी दाँत पिराई।।


आज का चमचा,


चमचों की के बात कर, हरदम रहते चुस्त

चखें मसाला रस पियें, छौंक लगे तो सुस्त।।

बड़े मतलबी यार हैं, हिलते सुबहो शाम

कंधे पर आसन धरें, चमची सह आराम।।

भंडारी के हाथ से, झूले झूला मेल

चढ़ी कड़ाही देख के, गरम हो गया तेल।।

पकती पूरी लालिमा, उलट पलट पट फेर

चखे स्वाद चमचा तुरत, बिना छंद का शेर।।


महातम मिश्र, गौतम गोरखपुरी

अगला लेख: गीतिका



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x