तू कविता हैं मुझ बंजारे की

12 जुलाई 2019   |  आकाश गुप्ता   (256 बार पढ़ा जा चुका है)

तू कविता हैं मुझ बंजारे की,

सुबह की लाली, शाम के अँधियारे की,

वक्त के कोल्हू पे रखी, ईख के गठियारे की,

हर पल में बनी स्थिर, नदियों के किनारे की,

सूरज की, धरती की, टमटमाते चाँद सितारे की,

हान तू कविता है मुझ बंजारे की।


तू कविता हैं मुझ बंजारे की,

रुके हुए साज पर, चुप्पी के इशारे की,

इस रंगीन समा में, खुशनुमा नजारे की,

भटके हुए मुसाफिर को सराय के सहारे की,

ईश्वर की, अल्लहा की, हर दीन-दुखियारे की,

हान तू कविता है मुझ बंजारे की।


तू कविता हैं मुझ बंजारे की,

विष्टा पात्र में दबे, मेहतरानी के जीवन सारे की,

रूढ़ि सोच में मरती, इंसानियत मतिमारे की,

बदले वक्त के बदले मनो पर एक आखरी उजियारे की,

है ये तेरी, ये मेरी, है यह सब बोझ ढोह रहे कहारे कि,

हान तू कविता है मुझ बंजारे की।

हान तू कविता है मुझ बंजारे की।

अगला लेख: मेरे घुमक्कड़पन की कहानी



रवि कुमार
14 जुलाई 2019

बहुत बढ़िया भाई

आकाश गुप्ता
15 जुलाई 2019

धन्यवाद रवि भाई जी।

वाह आकाश जी , स्वागत है आपकी इस सुन्दर कविता का .

आकाश गुप्ता
15 जुलाई 2019

धन्यवाद प्रियंका जी, आपकी सरहाना मेरे लिए प्रेरणा है।

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x