दुर्गा ! तेरे रूप अनेक. .

18 जुलाई 2019   |  प्राणेन्द्र नाथ मिश्रा   (392 बार पढ़ा जा चुका है)

दुर्गा ! तेरे रूप अनेक. .

दुर्गा! तेरे रूप अनेक -


माँ दुर्गा, भिक्षा लेकर के

लौटी माटी के प्रांगण में,

आधे से ज़्यादा शेष हुए

चावल उसके, ऋण-शोधन में…


बाक़ी जो बचे हुए उससे

कैसे पूरा होगा, गणेश !

कार्तिकेय भूख से बिलख रहा

गांजा पीकर बैठे महेश…


इतने अभाव की सीमा में

लक्ष्मी, सरस्वती भी पलती है,

दुर्गा आँसू पी पी कर के

सबका ख़याल तो रखती है…


हे दुर्गा के परिवार जनों !

माँ के आँसू का मोल रखो,

मानव-केन्द्रित हो वैचारिकता

इस धरती का भूगोल रखो…


यह धरती है सजीव प्राणी

इसकी भी अपनी सत्ता है,

इसका अति दोहन करना भी

अगली पीढ़ी की हत्या है….


आओ! पृथ्वी के संग रोओ

अपना अस्तित्व विचार करो,

पग पग प्रणाम कर पृथ्वी को

रोम हर्षित हो, इसे प्यार करो…


पृथ्वी ही अंतिम देवी है

पृथ्वी ममता, पृथ्वी है शक्ति,

संपदा, शक्ति से पूर्ण रहे

हे पुत्रों! इसकी करो युक्ति…


पृथ्वी की मिट्टी से निर्मित

लक्ष्मी गणेश की प्रतिमाएं,

मिट्टी के ही हैं महादेव

काली, दुर्गा की रचनाएं…


इस भूतल पर विचरित करते

थे, कभी कृष्ण और कभी राम,

गौतम, नानक और परमहंस

चलना सीखे, पृथ्वी को थाम…


यह शस्य-श्यामला हरित धरा

कट कट कर लुहूलुहान हुयी,

सब ताल-तलैया सोख सोख

गगन-चुम्बी निर्माण हुयी…


खेतों के, वन के कटने से

पृथ्वी निर्वस्त्रित होती है,

अतिवृष्टि, कंप, भूचाल दिखा

हम सबके सामने रोती है….


पृथ्वी के एका रोने से

प्रतिरोध नहीं कर पाओगे,

नारी बन कर रोओ, हे पुरुष!

तब ही करुणा उपजाओगे…


भ्रूणावस्था में बेबस होकर

कुचली कन्या बन कर रोओ,

अपनों के द्वारा दहन हुयी

नवविवाहिता बन कर रोओ…


विधवा आश्रम बन कर रोओ

रोओ बन कर के त्यक्ता माँ,

रोओ सभीत कन्या बन कर

रोओ पति को कर कर के क्षमा…


रोओ दहेज़ के टुकड़ों पर

रोओ अबोध बिटिया बन कर,

रोओ सरस्वती - पूजा में

एक बेटी, अशिक्षिता बन कर…


या पृथ्वी हो या हो अबला

देती तुमको अंतिम पुकार,

मेरा क्षय, तेरा मृत्यु-दिवस

हे मानव! तेरा ही संहार…


- प्राणेन्द्र नाथ मिश्र

अगला लेख: कारगिल शहीद के माँ कीअंतर्वेदना



अति उत्तम।
क्षेत्रपाल शर्मा

हार्दिक धन्यवाद

मतलब मैं क्या कहूं , इतनी गहरी रचना खुद में बड़ा सन्देश दे रही है . माँ के रूप अनेक

सादर हार्दिक धन्यवाद !

तीसरा पैराग्राफ पढ़कर ख़ुशी का अनुभव हुआ

हार्दिक धन्यवाद

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
04 जुलाई 2019
मधुर मिलन की है आस मन में कोशिश जरा तो कर लो मुझको लगाओ सीने से अपने बाहों के बीच भर लो ये जिंदगी है कुछ पल का मेला सोचो ना हद से ज्यादा औरों की सुन के देखो ना हरदम सूनी कोई डगर लो दिल में छुपा के कब तक रखोगे मन जो भी कह रहा है अधरों के बीच तुम भी सनम ए मेरी ही सांस धर लो इंसान हो तो इंसा रहो ना भगव
04 जुलाई 2019
26 जुलाई 2019
का
कारगिल शहीद के माँ की अंतर्वेदना :-यह कविता एक शहीद के माँ का, टीवी में साक्षात्कार देख कर १९९९ में लिखा था ...२० वर्ष बाद आप के साथ साझा कर रहा हूँ:हुआ होगा धमाका,निकली होंगी चिनगारियाँ बर्फ की चट्टानों पर फिसले होंगे पैर बिंधा होगा शरीर गोलियों की बौछार से ...अभी भ
26 जुलाई 2019
01 अगस्त 2019
समय के प्याले में,जीवन परोसा जा रहा है,अतिथियों का जमघट लगा है,रौशनी झिलमिला रही है,अरे, बुरी किस्मत जी भी आयी है,लगता है, कुछ बिन बुलाये,अतिथि भी आये है,आये नहीं, जिनकी प्रतीक्षा है,स्वयं प्यालो को,विशेष अतिथि के रूप में,कई लोगो का निमंत्रण था,रात के दस बज चुके है,आया नहीं अभी कोई उनमे से,बाकि अतिथ
01 अगस्त 2019
14 जुलाई 2019
बं
बंधे बंधे से साथ चलें ...मैं अक्षर बन चिर युवा रहूं, मन्त्रों का द्वार बना लो तुम,हम बंधे बंधे से साथ चलें, मुझे भागीदार बना लो तुम.जीवन की सारी उपलब्धि, कैसे रखोगे एकाकी? तुमको संभाल कर मैं रखूँ, मेरे मन में जगह बना लो तुम.कोई मुक्त नहीं है दुनिया में, ईश्वर, भोगी या संन्यासी,प्रिय! कैसे मुक्
14 जुलाई 2019
04 जुलाई 2019
मै
ए हमदम मेरे और दीवाने मेरे मैं भी देख दीवानी बन गई हूं मुहब्बत का तेरी ऐसा असर है हरी बेल सी आज मैं तन गई हूं मेरा मोल समझा ना पहले किसी ने मुझको फकत एक नाचीज समझा तूने मोल मेरा है जब से बताया अब तो मैं अनमोल बन धन गई हूं अकेली थी जब तो हिम्मत नहीं थी चारो तरफ नाग लहरा रहे थे जब से मिला है तेरा साथ
04 जुलाई 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x