मसाले का डब्बा

19 जुलाई 2019   |  कपिल सिंह   (253 बार पढ़ा जा चुका है)

मसाले का डब्बा

आज अनायस ही रसोईघर में रखे मसाले के डब्बे पर दृष्टी चली गयी
जिसे देख मन में जीवन और मसालों के बीच तुलनात्मक विवेचना स्वतः ही आरम्भ हो गयी....


सर्वप्रथम हल्दी के पीत वर्ण रंग देख मन प्रफुल्लित हुआ
जिस तरह एक चुटकी भर हल्दी अपने रंग में रंग देती है
उसी समान अपने प्यार और सोहार्द्य से दुसरो को अपने रंग में रंगने की प्रेरणा
वही अकस्मात मिली...


श्वेत रंग नमक से सरलता और सादगी का पाठ सीखा
और सीखा उनकी बराबर मात्रा की उपयोगिता
ना तो कम ना ही ज्यादा
और सीखा कभी कभी स्वादानुसार मात्रा का फायदा...


हरे रंग के धनिये ने भी अपनी उपस्तिथि चरित्रार्थ की
हर स्तिथि में प्रसन्न रहने की कला प्रदान की...
और भी मसाले थे वहां
जिनसे कुछ ना कुछ विशिष्टता ग्रहण की..

सहसा मिर्च को देख थोड़ा सकपकाया
द्धेष....ईर्ष्या…घृणा…क्रोध इत्यादि का त्याग तुरंत मष्तिष्क में आया...
अंत में पास में रखे चीनी के डब्बे से
जीवन में मिठास घोलने की प्रेरणा लेकर
रसोईघर से बाहर आया ...
धन्यवाद उस मसाले के डब्बे का
जिसने मौन रह कर भी बहुमूल्य पाठ पढ़ाया।

अगला लेख: फिर भी आश्वस्त था



बहुत बढ़िया

कपिल सिंह
31 जुलाई 2019

धन्यवाद् मैम

बहुत ही सुंदर कविता। बधाई।

कपिल सिंह
31 जुलाई 2019

धन्यवाद सर

कपिल सिंह
20 जुलाई 2019

धन्यवाद

हिना
20 जुलाई 2019

वाह

हिना
20 जुलाई 2019

वाह bahut

कपिल सिंह
21 जुलाई 2019

धन्यवाद मैम

आप तो बड़े शुक्रगुज़ार हुए मसाले के डब्बे के

कपिल सिंह
20 जुलाई 2019

धन्यवाद

कपिल सिंह
20 जुलाई 2019

जी बिल्कुल

ये तुलनात्मक विवेचन बहुत अच्छा है।

कपिल सिंह
20 जुलाई 2019

धन्यवाद

बहुत सटीक विवेचना ।

कपिल सिंह
20 जुलाई 2019

धन्यवाद् मेम

वाह , क्या बात है , बहुत ही गजब ,

कपिल सिंह
20 जुलाई 2019

धन्यवाद

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
21 जुलाई 2019
मैं भी छूना चाहता हूँ उस नीले आकाश को.… जो मुझे ऊपर से देख रहा है, अपनी और आकर्षित कर रहा है, मानों मुझे चिढ़ा रहा हो, और मैं यहाँ खड़ा होकर… उसके हर रंग निहार रहा हूँ, ईर्ष्या भाव से नज़रें टिका कर, उसके सारे रंग देख रहा हूँ, अनेक द्वंद मेरे मन में..... कैसे पहुँचु मैं उसके पास एक बार, वो भी इठला कर,
21 जुलाई 2019
21 जुलाई 2019
मैं भी छूना चाहता हूँ उस नीले आकाश को.… जो मुझे ऊपर से देख रहा है, अपनी और आकर्षित कर रहा है, मानों मुझे चिढ़ा रहा हो, और मैं यहाँ खड़ा होकर… उसके हर रंग निहार रहा हूँ, ईर्ष्या भाव से नज़रें टिका कर, उसके सारे रंग देख रहा हूँ, अनेक द्वंद मेरे मन में..... कैसे पहुँचु मैं उसके पास एक बार, वो भी इठला कर,
21 जुलाई 2019
26 जुलाई 2019
का
कारगिल शहीद के माँ की अंतर्वेदना :-यह कविता एक शहीद के माँ का, टीवी में साक्षात्कार देख कर १९९९ में लिखा था ...२० वर्ष बाद आप के साथ साझा कर रहा हूँ:हुआ होगा धमाका,निकली होंगी चिनगारियाँ बर्फ की चट्टानों पर फिसले होंगे पैर बिंधा होगा शरीर गोलियों की बौछार से ...अभी भ
26 जुलाई 2019
26 जुलाई 2019
रात के बाद फिर रात हुई... ना बादल गरजे न बरसात हुई.. बंजर भूमि फिर हताश हुई.. शिकायत करती हुई आसमान को.. संवेग के साथ फिर निराश हुई.. कितनी रात बीत गयी.. पर सुबह ना हुई.. कितनी आस टूट गयी.. पर सुबह ना हुई.. ना जला चूल्हा, ना रोटी बनी.. प्यास भी थक कर चुपचाप हुई.. निराशा के धरातल पर ही थी आशा.. की एक
26 जुलाई 2019
07 जुलाई 2019
एक दिन जी मेल पर…अवसर मिला लॉग इन करने का.…सोचा सब दोस्तों से कर लूँगा बातचीत…जान लूँगा हाल उनके …और बता दूंगा अपने भी.…एक दोस्त को क्लिक किया …. चैटिंग लिस्ट में से ढूंढ कर…चेट विंडो में उसकी … लाल बत्ती जल रही थी.…जो एक चेतावनी दे रही थी.…दोस्त इज बिजी, यू मे इन्टरुप्टिंग.…हमे आया गुस्सा … बोले चे
07 जुलाई 2019
31 जुलाई 2019
अभी कल की ही बात है, मैं गाड़ी पार्क करके निकला ही था बाहर कि एक महिला तुरंत मेरे पास आयी और अंग्रेजी में कुछ फुसफुसाई। मैं सकपका गया, शुरू के 5 -7 क्षण तो मैं समझ ही नहीं पाया कि इन्हे समस्या क्या है। फिर पता चला कि वो यहाँ मुझसे पहले गाड़ी खड़ी करने वाली थी और मैंने उसकी जगह अपनी गाड़ी लगा दी। अंग्रेज
31 जुलाई 2019
09 जुलाई 2019
भगवान के साथ संवाद एक दिन रास्ते में मुझे एक वृद्ध महिला ने सहायता के लिए पुकारा। मैंने उनकी सड़क पार करने में सहायता की और साथ ही उन्हें खाने के लिए कुछ पैसे दिए। उन वृद्ध महिला के ढेरो आशीर्वाद लेकर मैं मुड़ा ही था कि मेरे इष्टदेव मेर
09 जुलाई 2019
01 अगस्त 2019
समय के प्याले में,जीवन परोसा जा रहा है,अतिथियों का जमघट लगा है,रौशनी झिलमिला रही है,अरे, बुरी किस्मत जी भी आयी है,लगता है, कुछ बिन बुलाये,अतिथि भी आये है,आये नहीं, जिनकी प्रतीक्षा है,स्वयं प्यालो को,विशेष अतिथि के रूप में,कई लोगो का निमंत्रण था,रात के दस बज चुके है,आया नहीं अभी कोई उनमे से,बाकि अतिथ
01 अगस्त 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x