याद

21 जुलाई 2019   |  अश्मीरा अंसारी   (249 बार पढ़ा जा चुका है)

आज चांदनी दरीचे से छनती हुई

हलकी सी मेरे चेहरे पर पड़ने लगी

मैं अपने कमरे में बैठी

दूर से दालान में झाँकने लगी

जहाँ मैं तुम्हारे इंतज़ार में

चाय की दो कप लिए बैठा करती थी

आज हवाओं में

बिलकुल वही आहट थी

जैसे तुम अक्सर शाम में

चुपके से आ कर

मेरी आँखों को अपने हाथों से

बंद कर दिया करते थे

और मैं तुम्हारे एहसास से

हर दम पहचान लिया करती थी तुम्हें

शायद ये आहट नहीं

तुम ही थे .............................

हर दिन तुम्हें याद कर

तुम्हें पुकारती रही

शायद मेरी सदा तुम तक पहुंची हो

और तुम फिर लौट आए हो

दालान में रखी उस कुर्सी पर बैठे

मुझे दूर से ही देख रहे हो

जहाँ मुझे बैठे हुए

एक अरसा बीत गया

अशीमिरा 31/3/19 01: 30 PM

अगला लेख: इंद्रधनुष / धनक



रेणु
24 जुलाई 2019

वाह !!!!! अश्मीरा , बढ़िया लिखा आपने | |प्रेम से विकल मन का शीतल उच्छ्वास है आपकी रचना | मेरे हार्दिक शुभकानाएं आपके लिए

रेणु जी दिल से आभारी हूँ आपकी

हार्दिक आभार जी आपका

अलोक सिन्हा
22 जुलाई 2019

बहुत अच्छी रचना है | सरसता ,प्रवाह सब कुछ है इसमें | बस ऐसे ही लिखती रहिये |

दिल से शुक्रिया आपका

एहसास एक बड़ी संवेदना है. ....

आभार आपका

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 जुलाई 2019
बा
बाज़ार ए इश्क़ की सैर कर आए वफ़ा ओ बेवफ़ाओं से मिल आए बहुत हुजूम ए साहूकार था वहाँ हर एक इंसां ख़रीदार था वहाँ दिलों के ढ़ेर चंद रुपियों में सरे आम बिक रहे थे ख़ुशी ओ मायूसी का मुज़ाहरा हो रहा था वहाँ कोई अपना दिल ख़ुशी से फ़रोख़्त करता कोई मायूस हो के बेचता कोई कच्ची उम्र वाला कोई अधेड़ उम्र वाला कही नक़द सौदा
20 जुलाई 2019
29 जुलाई 2019
मोहन के घर से हर शाम उसकी बीवी की बहुत ज़ोर ज़ोर रोने बिलखने की आवाज़ आया करती थी । मोहन रोज़ शराब पि कर आता और घर में ख़ूब तमाशा करता। उसे बस बहाना चाहिए अपनी बीवी पर हाथ उठाने का,आज भी वो नशे में धुत घर में दाखिल होते ही अपनी बीवी पर बरस पड़ा " उमा , उमा कहा हो ज़रा मेरे लिए पानी ले आना, और लड़खड़ाते हुए ह
29 जुलाई 2019
30 जुलाई 2019
एक रोज़ चले आए थे तुम चुपके से ख़्वाब में मेरे मेरे हाथों को थामे हुए दूर फ़लक पर सजे उस धनक के शामियाने तक हमसफ़र बनाया था मुझे सुनोअपनी ज़िन्दगी के सियाह रंग छोड़ आई थी मैं उसी धनक के आख़िरी सिरे पर जो ज़मीन में जज़्ब होने को थे उसी धनक के रंगों से ख़ूबसूरत रंग मेरे दामन में जो तुमने भर दिए थे वो रंगों में
30 जुलाई 2019
02 अगस्त 2019
नानी के यहाँ से जब लौटा था तो नाना जी ने 50/-नानी जी ने 50/-मामा जी और मासी ने 100/- -100/- रुपये दिए थे स्कूल की छुट्टी लगे हुए भी लग भग २० दिन से अधिक हो रहे है वो पैसे भी गुल्लक में रोज़ डालता हूँ और आज पापा ने 50/- रुपये और दे दिए राजू गुल्लक में पैसे डालते हुए अपने गुल्लक से बत्या रहा था। अब इन
02 अगस्त 2019
18 जुलाई 2019
जुल्म करके भी तुम मुकर जाते हो,ऐसी फ़ित्रत कहाँ से तुम लाते हो?दर्द का एहसास अब भी होता मुझे,जब मुश्किलात में ख़ुद को पाते हो।मेरा रहगुज़र अब कहीं दिखता नहीं,बूढ़े ज़ख़्म को अब क्यों दिखाते हो?उसकी कैफ़ीयत अब सवाल करती,उस शख़्स को भला क्यों सताते हो?कुछ लोग रस्सी को साँप बनाते यों ही,अपनी बातों में भला क्यो
18 जुलाई 2019
26 जुलाई 2019
का
कारगिल शहीद के माँ की अंतर्वेदना :-यह कविता एक शहीद के माँ का, टीवी में साक्षात्कार देख कर १९९९ में लिखा था ...२० वर्ष बाद आप के साथ साझा कर रहा हूँ:हुआ होगा धमाका,निकली होंगी चिनगारियाँ बर्फ की चट्टानों पर फिसले होंगे पैर बिंधा होगा शरीर गोलियों की बौछार से ...अभी भ
26 जुलाई 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x