कारगिल शहीद के माँ कीअंतर्वेदना

26 जुलाई 2019   |  प्राणेन्द्र नाथ मिश्रा   (47 बार पढ़ा जा चुका है)

कारगिल शहीद के माँ की अंतर्वेदना :-

यह कविता एक शहीद के माँ का, टीवी में साक्षात्कार देख कर १९९९ में लिखा था ...
२० वर्ष बाद आप के साथ साझा कर रहा हूँ:


हुआ होगा धमाका,

निकली होंगी चिनगारियाँ

बर्फ की चट्टानों पर

फिसले होंगे पैर

बिंधा होगा शरीर

गोलियों की बौछार से ...


अभी भी

कुछ रक्त बिंदु

जमे होंगे बर्फ के अन्दर

बह रहे होंगे आँसू

शांत और मौन

कारगिल की चोटियों से ...


अभी भी

सुनायी देती होगी

युद्ध की प्रतिध्वनि

घायल सैनिकों का गर्जन,

कहीं धूम, कहीं कराह

कहीं मृत्यु, कहीं तर्जन...


मेरे देशवासियों!

वह मेरा बेटा था

जिसे खोया मैंने

एक पल में,
हुयी थी असह्य पीड़ा

मेरे कोख, मेरे आँचल में...

तब,

जब सामने मेरे

शहीद बेटे की लाश

जल रही थी,

और

उसी नदी के किनारे

एक और माँ

आलीशान होटल में

अपने बेटे की

सगाई कर रही थी...


--प्राणेन्द्र नाथ मिश्र

नमन शहीदों की माओं को 🙏🙏🙏

अगला लेख: शहादत की रूह



शहीदों की शहादत को नमन

शहीदों की शहादत को नमन

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 जुलाई 2019
मैं अतिउत्साहित गंतव्य से कुछ ही दूर था, वहां पहुचने की ख़ुशी और जीत की कल्पना में मग्न था, सहस्त्र योजनाए और अनगिनत इच्छाओ की एक लम्बी सूची का निर्माण कर चुका था, सीमित गति और असीमित आकांक्षाओं के साथ निरंतर चल रहा था, इतने में समय आया किन्तु उसने गलत समय बताया, बंद हो गया अचानक सब कुछ जो कुछ समय पह
22 जुलाई 2019
25 जुलाई 2019
काव्य रचनाओं में निपुण महान रचनाकार श्री महादेवी वर्मा जी |Mahadevi Verma:-काव्यों रचनाओं में निपुण महान श्री महादेवी वर्मा जी का जन्म सन् 26 मार्च 1907 को उत्तरप्रदेश के फ़र्रुख़ाबाद नामक क्षेत्र में हुआ था। वर्मा जी के जन्म के संबंध में सबसे विशेष बात यह थी कि
25 जुलाई 2019
30 जुलाई 2019
तु
तुम्हारी आँखें-- (यदि दान करो तो !)किसी ने देखा माधुर्य तुम्हारी आँखों में, कोई बोला झरनों का स्रोत तुम्हारी आँखों में..कोई अपलक निहारता रहा अनंत आकाशतुम्हारी आँखों में,कोई खोजता रहा सम्पूर्ण प्रकाश तुम्हारी आँखों में...कोई बिसरा गया तुम्हारी आँखों में कोई भरमा गया तुम्हारी आँखों में...किसी के लिए
30 जुलाई 2019
09 अगस्त 2019
सुनो मेघदूत!सुनो मेघदूत!अब तुम्हें संदेश कैसे सौंप दूँ, अल्ट्रा मॉडर्न तकनीकी से, गूँथा गया गगन, ग़ैरत का गुनाहगार है अब, राज़-ए-मोहब्बत हैक हो रहे हैं!हिज्र की दिलदारियाँ, ख़ामोशी के शोख़ नग़्मे, अश्क में भीगा गुल-ए-तमन्ना, फ़स्ल-ए-बहार में, धड़कते दिल की आरज़ू, नभ की नीरस निर्मम नीरवता-से अरमान, मुरादों
09 अगस्त 2019
09 अगस्त 2019
रि
यूं रिश्तों में समझौते का पेवंद लगा कर उसे कब तक जोड़ा जाए क्यों ना ज़बरदस्ती वाले रिश्तों की गांठों को आज़ाद किया जाए घुटन में रहने से तो बेहतर है आज़ाद फ़िज़ा में सांस ली जाए क़समों , वादों में उलझी हुई दुनिया से अब क्यों ना चलो किनारा किया जाए अश्मीरा 8/8/19 11:30 am
09 अगस्त 2019
17 जुलाई 2019
बह गए बाढ़ में जो. . कुछ दिन तो ठहरो प्रियतम! मत आना मेरे सपनों में, मैं ढूँढ़ रहा हूँ तुमको ही, 'दरभंगा' के डूबे अपनों में.. '' कोसी' में डूबे कुछ अपने, कुछ 'ब्रह्मपुत्र' की भंवरों में,कुछ 'बागमती' से दरकिनार, कुछ 'घाघरा' की लहरों में..मैं यह कह कर के आया था, लौटूं
17 जुलाई 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x