कारगिल शहीद के माँ कीअंतर्वेदना

26 जुलाई 2019   |  प्राणेन्द्र नाथ मिश्रा   (33 बार पढ़ा जा चुका है)

कारगिल शहीद के माँ की अंतर्वेदना :-

यह कविता एक शहीद के माँ का, टीवी में साक्षात्कार देख कर १९९९ में लिखा था ...
२० वर्ष बाद आप के साथ साझा कर रहा हूँ:


हुआ होगा धमाका,

निकली होंगी चिनगारियाँ

बर्फ की चट्टानों पर

फिसले होंगे पैर

बिंधा होगा शरीर

गोलियों की बौछार से ...


अभी भी

कुछ रक्त बिंदु

जमे होंगे बर्फ के अन्दर

बह रहे होंगे आँसू

शांत और मौन

कारगिल की चोटियों से ...


अभी भी

सुनायी देती होगी

युद्ध की प्रतिध्वनि

घायल सैनिकों का गर्जन,

कहीं धूम, कहीं कराह

कहीं मृत्यु, कहीं तर्जन...


मेरे देशवासियों!

वह मेरा बेटा था

जिसे खोया मैंने

एक पल में,
हुयी थी असह्य पीड़ा

मेरे कोख, मेरे आँचल में...

तब,

जब सामने मेरे

शहीद बेटे की लाश

जल रही थी,

और

उसी नदी के किनारे

एक और माँ

आलीशान होटल में

अपने बेटे की

सगाई कर रही थी...


--प्राणेन्द्र नाथ मिश्र

नमन शहीदों की माओं को 🙏🙏🙏

अगला लेख: शहादत की रूह



शहीदों की शहादत को नमन

शहीदों की शहादत को नमन

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 अगस्त 2019
सुनो मेघदूत!सुनो मेघदूत!अब तुम्हें संदेश कैसे सौंप दूँ, अल्ट्रा मॉडर्न तकनीकी से, गूँथा गया गगन, ग़ैरत का गुनाहगार है अब, राज़-ए-मोहब्बत हैक हो रहे हैं!हिज्र की दिलदारियाँ, ख़ामोशी के शोख़ नग़्मे, अश्क में भीगा गुल-ए-तमन्ना, फ़स्ल-ए-बहार में, धड़कते दिल की आरज़ू, नभ की नीरस निर्मम नीरवता-से अरमान, मुरादों
09 अगस्त 2019
03 अगस्त 2019
सितारों, आज कहां छुपे हो?गुंफित से फिर नहीं दिखे होचमक दिखी न दिखा वो नूरकैसे भैया चकनाचूर?~~~~~नहीं दिखेंगे अब से तुमकोक्या मिलेगा हमसे सबकोतिमिर गया न गया वो अंधेरासूरज से ही होत सवेरा !~~~~~~करो न अपने दिल को छोटाछोटे से बढ बनते मोटासूरज भी इक तारा हैतुमसे नहीं वो न्यार
03 अगस्त 2019
30 जुलाई 2019
तु
तुम्हारी आँखें-- (यदि दान करो तो !)किसी ने देखा माधुर्य तुम्हारी आँखों में, कोई बोला झरनों का स्रोत तुम्हारी आँखों में..कोई अपलक निहारता रहा अनंत आकाशतुम्हारी आँखों में,कोई खोजता रहा सम्पूर्ण प्रकाश तुम्हारी आँखों में...कोई बिसरा गया तुम्हारी आँखों में कोई भरमा गया तुम्हारी आँखों में...किसी के लिए
30 जुलाई 2019
14 जुलाई 2019
पिता पर लिखी अपनी एक बहुत पुरानी रचना याद आ गयी..कुछ अंश प्रस्तुत कर रहा हूँ.."तुमसे हे पिता !"कितनी मन्नत कितनी पूजा,कितनी कामना किया होगा,पुत्रों का पथ हो निष्कंटक पल पल आशीष दिया होगा...मेरे लिए कभी तुमने रूखी सूखी रोटी खायी ,दरदर भटके मेरी खातिर संचित की पाई-पाई .
14 जुलाई 2019
05 अगस्त 2019
(कश्मीर से धारा 370 हटाने का संकल्प संसद में पेश होने के बाद उम्मीद जगी है कि अलगाववादी ताकतें खत्म होंगी। कश्मीर में अन्य भारतीय भी बस सकेंगे।) कश्मीर हमारा था, अब तो कश्मीर हमारा है।जिसमें हो विजयीभाव भला, वो कब क्यूँ हारा है।।बहुत दिनों तक बंदी था, यह स्वर्ग हुआ आजाद।नये दौर के इस भारत को लोग क
05 अगस्त 2019
09 अगस्त 2019
रि
यूं रिश्तों में समझौते का पेवंद लगा कर उसे कब तक जोड़ा जाए क्यों ना ज़बरदस्ती वाले रिश्तों की गांठों को आज़ाद किया जाए घुटन में रहने से तो बेहतर है आज़ाद फ़िज़ा में सांस ली जाए क़समों , वादों में उलझी हुई दुनिया से अब क्यों ना चलो किनारा किया जाए अश्मीरा 8/8/19 11:30 am
09 अगस्त 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x