इंद्रधनुष / धनक

30 जुलाई 2019   |  अश्मीरा अंसारी   (5256 बार पढ़ा जा चुका है)

इंद्रधनुष / धनक

एक रोज़ चले आए थे तुम

चुपके से ख़्वाब में मेरे

मेरे हाथों को थामे हुए

दूर फ़लक पर सजे

उस धनक के शामियाने तक
हमसफ़र बनाया था मुझे
सुनो
अपनी ज़िन्दगी के सियाह रंग
छोड़ आई थी मैं
उसी धनक के आख़िरी सिरे पर
जो ज़मीन में जज़्ब होने को थे
उसी धनक के रंगों से ख़ूबसूरत रंग
मेरे दामन में जो तुमने भर दिए थे
वो रंगों में लिपटा दामन
मेरी ज़िंदगी को रंगीन किए हुए है
एक चमक सी आ गई
ख़यालों में मेरे
उस सफ़र की वापसी के बाद
साथ रहते है अब मेरे
तुम्हारे वो मख़मली अहसास
सुनो
कभी फ़ुरसत से फिर एक बार आ जाना
चलेंगे साथ फिर हम
उसी धनक की ख़ूबसूरत सैर के लिए
भीगेंगे बारिश की फुहारों में
और चुरा लेंगें अंजुरी भर
इंद्रधनुषी धुप
अश्मीरा 29/7/19 01:30 pm

अगला लेख: रिश्ते



बेहतरीन रचना

शुक्रिया जी आपका

अलोक सिन्हा
31 जुलाई 2019

बहुत अच्छी रचना है |

शुक्रिया आपका बेहद

बहुत सुन्दर अश्मीरा !

प्रियंका जी बेहद शुक्रिया

anubhav
31 जुलाई 2019

बहुत ही बढ़ियां कविता लिखी है अश्मीरा जी आपने

बहुत बहुत शुक्रिया आपका

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 अगस्त 2019
रि
यूं रिश्तों में समझौते का पेवंद लगा कर उसे कब तक जोड़ा जाए क्यों ना ज़बरदस्ती वाले रिश्तों की गांठों को आज़ाद किया जाए घुटन में रहने से तो बेहतर है आज़ाद फ़िज़ा में सांस ली जाए क़समों , वादों में उलझी हुई दुनिया से अब क्यों ना चलो किनारा किया जाए अश्मीरा 8/8/19 11:30 am
09 अगस्त 2019
09 अगस्त 2019
रि
यूं रिश्तों में समझौते का पेवंद लगा कर उसे कब तक जोड़ा जाए क्यों ना ज़बरदस्ती वाले रिश्तों की गांठों को आज़ाद किया जाए घुटन में रहने से तो बेहतर है आज़ाद फ़िज़ा में सांस ली जाए क़समों , वादों में उलझी हुई दुनिया से अब क्यों ना चलो किनारा किया जाए अश्मीरा 8/8/19 11:30 am
09 अगस्त 2019
09 अगस्त 2019
सुनो मेघदूत!सुनो मेघदूत!अब तुम्हें संदेश कैसे सौंप दूँ, अल्ट्रा मॉडर्न तकनीकी से, गूँथा गया गगन, ग़ैरत का गुनाहगार है अब, राज़-ए-मोहब्बत हैक हो रहे हैं!हिज्र की दिलदारियाँ, ख़ामोशी के शोख़ नग़्मे, अश्क में भीगा गुल-ए-तमन्ना, फ़स्ल-ए-बहार में, धड़कते दिल की आरज़ू, नभ की नीरस निर्मम नीरवता-से अरमान, मुरादों
09 अगस्त 2019
13 अगस्त 2019
नि
--निगाहें ढूँढ़ लेती हैं हमारे दिल की बदनीयत , निगाहें ढूढ़ लेती हैं,जो ढूँढों रूह को मन से, निगाहें ढूढ़ लेती हैं.भरी महफ़िल हो कितनी भी, हों कितने भी हँसी चेहरेमगर बेबाक शम्मां को , निगाहें ढूँढ़ लेती हैं. ..कोई भी उम्र ढक सकती नहीं, माजी की तस्वीरेंतहों में झुर्रियों के भी, निगाहें ढूँढ़ लेती हैं
13 अगस्त 2019
19 जुलाई 2019
नीरजा और उसकी फॅमिली को आज पुरे आठ दिन हुआ था इस फ्लैट में आये, तक़रीबन सभी पड़ोसियों से बातचीत होने लगी थी।बस अब तक सामने वाले ग्राउंड एरिया के दामोदर जी और उनकी पत्नी से परिचय नहीं हुआ था,उनके घर अब तक किसी पड़ोसी को ना आते-जाते देखा ना बात करते बस हर रोज़ खिड़की से कभी
19 जुलाई 2019
20 जुलाई 2019
बा
बाज़ार ए इश्क़ की सैर कर आए वफ़ा ओ बेवफ़ाओं से मिल आए बहुत हुजूम ए साहूकार था वहाँ हर एक इंसां ख़रीदार था वहाँ दिलों के ढ़ेर चंद रुपियों में सरे आम बिक रहे थे ख़ुशी ओ मायूसी का मुज़ाहरा हो रहा था वहाँ कोई अपना दिल ख़ुशी से फ़रोख़्त करता कोई मायूस हो के बेचता कोई कच्ची उम्र वाला कोई अधेड़ उम्र वाला कही नक़द सौदा
20 जुलाई 2019
29 जुलाई 2019
मोहन के घर से हर शाम उसकी बीवी की बहुत ज़ोर ज़ोर रोने बिलखने की आवाज़ आया करती थी । मोहन रोज़ शराब पि कर आता और घर में ख़ूब तमाशा करता। उसे बस बहाना चाहिए अपनी बीवी पर हाथ उठाने का,आज भी वो नशे में धुत घर में दाखिल होते ही अपनी बीवी पर बरस पड़ा " उमा , उमा कहा हो ज़रा मेरे लिए पानी ले आना, और लड़खड़ाते हुए ह
29 जुलाई 2019
05 अगस्त 2019
सुबह की ग़ज़ल --शाम के नाम आज़ाद होने के बाद से भारत के शहीदों की शहादत सबसे अधिक कश्मीर से जुड़े इलाकों में हुयी है. उन शहीदों की रूहें आज तक घूम घूम कर पूरे भारत के लोगों से गुहार कर रही हैं कि तिरंगे का केसरिया रंग कश्मीर के केसर से मिलाओ. शहीदों की यादें सब को छू कर गुज़रती हैं...बड़ी सुनसान राहें हैं
05 अगस्त 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x