तुम्हारी आँखें--

30 जुलाई 2019   |  प्राणेन्द्र नाथ मिश्रा   (427 बार पढ़ा जा चुका है)

तुम्हारी आँखें-- (यदि दान करो तो !)


किसी ने देखा माधुर्य

तुम्हारी आँखों में,

कोई बोला झरनों का स्रोत

तुम्हारी आँखों में..

कोई अपलक निहारता रहा

अनंत आकाश

तुम्हारी आँखों में,

कोई खोजता रहा

सम्पूर्ण प्रकाश

तुम्हारी आँखों में...

कोई बिसरा गया

तुम्हारी आँखों में

कोई भरमा गया

तुम्हारी आँखों में...


किसी के लिए कन्या का

स्पर्श हैं--तुम्हारी आँखें,

किसी को वसंत का

स्पंदन हैं--तुम्हारी आँखें..


बंद पलकों में

अथाह सागर हैं--तुम्हारी आँखें,

सुहाग रात में

दुल्हन का सिगार हैं-- तुम्हारी आँखें..


धान की बालियों का

कोर हैं--तुम्हारी आँखें,

खेतों का अनंत

छोर हैं--तुम्हारी आँखें..

घायल सैनिकों का

विश्राम हैं-- तुम्हारी आँखें,

नेत्र -हीनों को

अमर दान हैं--तुम्हारी आँखें..


हों अमर

दान देकर सृष्टि समा लें,

तुम्हारी आँखें,

तुम जन्म लो

और तुम्हे ही देखें

तुम्हारी आँखें...


--प्राणेन्द्र नाथ मिश्र

अगला लेख: ॐ का अर्थ



वाह , कमाल

सादर धन्यवाद

anubhav
31 जुलाई 2019

सर.......आपकी कविताओं का मैं फैन हूं।

उत्तर यही दे रहा हूँ कि आप ने तारीफ़ करके मुझे निरुत्तर कर दिया. .. सादर आभार आप का.

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 जुलाई 2019
बह गए बाढ़ में जो. . कुछ दिन तो ठहरो प्रियतम! मत आना मेरे सपनों में, मैं ढूँढ़ रहा हूँ तुमको ही, 'दरभंगा' के डूबे अपनों में.. '' कोसी' में डूबे कुछ अपने, कुछ 'ब्रह्मपुत्र' की भंवरों में,कुछ 'बागमती' से दरकिनार, कुछ 'घाघरा' की लहरों में..मैं यह कह कर के आया था, लौटूं
17 जुलाई 2019
13 अगस्त 2019
नि
--निगाहें ढूँढ़ लेती हैं हमारे दिल की बदनीयत , निगाहें ढूढ़ लेती हैं,जो ढूँढों रूह को मन से, निगाहें ढूढ़ लेती हैं.भरी महफ़िल हो कितनी भी, हों कितने भी हँसी चेहरेमगर बेबाक शम्मां को , निगाहें ढूँढ़ लेती हैं. ..कोई भी उम्र ढक सकती नहीं, माजी की तस्वीरेंतहों में झुर्रियों के भी, निगाहें ढूँढ़ लेती हैं
13 अगस्त 2019
03 अगस्त 2019
सितारों, आज कहां छुपे हो?गुंफित से फिर नहीं दिखे होचमक दिखी न दिखा वो नूरकैसे भैया चकनाचूर?~~~~~नहीं दिखेंगे अब से तुमकोक्या मिलेगा हमसे सबकोतिमिर गया न गया वो अंधेरासूरज से ही होत सवेरा !~~~~~~करो न अपने दिल को छोटाछोटे से बढ बनते मोटासूरज भी इक तारा हैतुमसे नहीं वो न्यार
03 अगस्त 2019
26 जुलाई 2019
का
कारगिल शहीद के माँ की अंतर्वेदना :-यह कविता एक शहीद के माँ का, टीवी में साक्षात्कार देख कर १९९९ में लिखा था ...२० वर्ष बाद आप के साथ साझा कर रहा हूँ:हुआ होगा धमाका,निकली होंगी चिनगारियाँ बर्फ की चट्टानों पर फिसले होंगे पैर बिंधा होगा शरीर गोलियों की बौछार से ...अभी भ
26 जुलाई 2019
06 अगस्त 2019
एक दो तीन चार पाँच छे सात,गिनती ये मेरी प्रभु सुनो जग्गनाथ।आठ नौ दस ग्यारह बारह तेरह,तेरा हो हाथ छूटे जन्मों का घेरा।चौदह पंद्रह सोलह सत्रह अठारह उन्नीस,हार भी ना मेरा प्रभु ना हीं मेरी जीत।बीस इक्कीस बाइस तेईस चौबीस पच्चीस,हरो दुख सारे प्रभु तू हीं मन मीत।छब्बीस सताईस अ
06 अगस्त 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x