भीषण गर्जना

05 अगस्त 2019   |  कपिल सिंह   (466 बार पढ़ा जा चुका है)

भीषण गर्जना

अत्यंत दुर्बल परिस्तिथि में..
एक साहसीय भीषण गर्जना,
चारो ओर सन्नाटा..
आपस में तांकते महा विभोर,
दुःख.. कठिनाई.. तनाव.. समस्या..
सब खड़े मौन,

विस्मित मन से सोच रहे,
अब हो गया इनका विरोध,
कैसे करेंगे परेशान अब,
सुन कर उसकी गर्जना,
पीछे खड़ा.. सहमा हुआ डर..
डर रहा था आगे आने को,

सोच रहा था मन ही मन,
फिर किया आव्हान किसी ने,
अब पराजय निश्चित है,
गर्जना भर से ही सब विचलित है,
साथ में थोडा विस्मित है,

युक्तिया बना रहे है,
बचने की अब..
राह देख रहे है,
पलायन की अब..
जायेंगे वहा,
जहाँ ना सुनाई देगी,
इन्हें ललकारने की,
इतनी भीषण गर्जना...

अगला लेख: फिर भी आश्वस्त था



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
01 अगस्त 2019
समय के प्याले में,जीवन परोसा जा रहा है,अतिथियों का जमघट लगा है,रौशनी झिलमिला रही है,अरे, बुरी किस्मत जी भी आयी है,लगता है, कुछ बिन बुलाये,अतिथि भी आये है,आये नहीं, जिनकी प्रतीक्षा है,स्वयं प्यालो को,विशेष अतिथि के रूप में,कई लोगो का निमंत्रण था,रात के दस बज चुके है,आया नहीं अभी कोई उनमे से,बाकि अतिथ
01 अगस्त 2019
05 अगस्त 2019
सुबह की ग़ज़ल --शाम के नाम आज़ाद होने के बाद से भारत के शहीदों की शहादत सबसे अधिक कश्मीर से जुड़े इलाकों में हुयी है. उन शहीदों की रूहें आज तक घूम घूम कर पूरे भारत के लोगों से गुहार कर रही हैं कि तिरंगे का केसरिया रंग कश्मीर के केसर से मिलाओ. शहीदों की यादें सब को छू कर गुज़रती हैं...बड़ी सुनसान राहें हैं
05 अगस्त 2019
22 जुलाई 2019
मैं अतिउत्साहित गंतव्य से कुछ ही दूर था, वहां पहुचने की ख़ुशी और जीत की कल्पना में मग्न था, सहस्त्र योजनाए और अनगिनत इच्छाओ की एक लम्बी सूची का निर्माण कर चुका था, सीमित गति और असीमित आकांक्षाओं के साथ निरंतर चल रहा था, इतने में समय आया किन्तु उसने गलत समय बताया, बंद हो गया अचानक सब कुछ जो कुछ समय पह
22 जुलाई 2019
01 अगस्त 2019
समय के प्याले में,जीवन परोसा जा रहा है,अतिथियों का जमघट लगा है,रौशनी झिलमिला रही है,अरे, बुरी किस्मत जी भी आयी है,लगता है, कुछ बिन बुलाये,अतिथि भी आये है,आये नहीं, जिनकी प्रतीक्षा है,स्वयं प्यालो को,विशेष अतिथि के रूप में,कई लोगो का निमंत्रण था,रात के दस बज चुके है,आया नहीं अभी कोई उनमे से,बाकि अतिथ
01 अगस्त 2019
06 अगस्त 2019
बस कुछ ही दूर थी सफलता, दिखाई दे रही थी स्पष्ट, मेरा प्रिय मित्र मन, प्रफुल्लित था, तेज़ प्रकाश में, दृश्य मनोरम था, श्वास अपनी गति से चल रहा था, क्षणिक कुछ हलचल हुई, पैर डगमगाया, सामने अँधेरा छा गया, सँभलने की कोशिश की, किन्तु गिरने से ना रोक पाया अपने आप को, ना जाने कौन था, जो धकेल कर आगे चला गया,
06 अगस्त 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x