शहादत की रूह

05 अगस्त 2019   |  प्राणेन्द्र नाथ मिश्रा   (419 बार पढ़ा जा चुका है)

सुबह की ग़ज़ल --शाम के नाम

आज़ाद होने के बाद से भारत के शहीदों की शहादत सबसे अधिक कश्मीर से जुड़े इलाकों में हुयी है.

उन शहीदों की रूहें आज तक घूम घूम कर पूरे भारत के लोगों से गुहार कर रही हैं कि तिरंगे का केसरिया रंग कश्मीर के केसर से मिलाओ.

शहीदों की यादें सब को छू कर गुज़रती हैं...


बड़ी सुनसान राहें हैं, बड़ी खामोश नगरी है,

किसी की याद है शायद, सभी को छू के गुज़री है..


किनारे भी नदी के, आके उसका ढूँढ़ते हैं दर

न जाने आह थी किसकी, लहर पर जा के ठहरी है..


दरख्तों ने हवा को नम, बना कर रात भर रोया,

कई तो गिर गए सडकों पे, लगता चोट गहरी है..


हमें भी दर्द उभरा है, नहीं मालूम जाने क्यों?

खड़े हैं जिसके दर पर, यही क्या उसकी डेहरी है?


शहादत की कई रूहें, अभी भी घाटियों में हैं,

उन्हें आज़ाद कर डाला, सियासत अब न बहरी है?


मुबारक हो ! ये सावन का, बड़ा ही पाक सोमवार है,

तिरंगे की हवा बेख़ौफ़, पहल्गामों में लहरी है..


'शफ़क़' रोओ खुशी से तुम, उडाओ आज मंसूबे,

केसरिया रंग जो था बेबस, खिली फिर से दुपहरी है..


--प्राणेन्द्र नाथ मिश्र

अगला लेख: निगाहें ढूँढ़ लेती हैं



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
24 जुलाई 2019
एक ग़ज़ल: बेवफाई मैंने भी इक गुनाह, यहाँ आज कर लिया,बाहों में भर के उनको, तुम्हे याद कर लिया..फिर से हुयी है दस्तक, कहीं पर ख़याल की,जाकर के दिल ने दूर से, फिर दर्द भर लिया..माजी की खाहिशें हैं, ये भूलती नहीं,गुज़रा हुआ था वक़्त, गले फिर से मिल लिया...शायद खड़े थे तुम वहां
24 जुलाई 2019
09 अगस्त 2019
रि
यूं रिश्तों में समझौते का पेवंद लगा कर उसे कब तक जोड़ा जाए क्यों ना ज़बरदस्ती वाले रिश्तों की गांठों को आज़ाद किया जाए घुटन में रहने से तो बेहतर है आज़ाद फ़िज़ा में सांस ली जाए क़समों , वादों में उलझी हुई दुनिया से अब क्यों ना चलो किनारा किया जाए अश्मीरा 8/8/19 11:30 am
09 अगस्त 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x