सफलता

06 अगस्त 2019   |  कपिल सिंह   (490 बार पढ़ा जा चुका है)

सफलता

बस कुछ ही दूर थी सफलता,
दिखाई दे रही थी स्पष्ट,
मेरा प्रिय मित्र मन,
प्रफुल्लित था,
तेज़ प्रकाश में,
दृश्य मनोरम था,
श्वास अपनी गति से चल रहा था,

क्षणिक कुछ हलचल हुई,
पैर डगमगाया,
सामने अँधेरा छा गया,
सँभलने की कोशिश की,
किन्तु गिरने से ना रोक पाया अपने आप को,
ना जाने कौन था,
जो धकेल कर आगे चला गया,
कुछ ही क्षणों में वो ओझल हो गया,
और मैं वही बैठा रह गया,

मेरा एक और मित्र प्रयास आया,
उसने मुझे उठाने का प्रयत्न किया,
किन्तु मैं वही बैठा रहा,
समस्या, जिससे मेरा दूर का नाता था,
उसने भी मेरा भरपूर साथ निभाया,
कुछ पश्चात् थक हार कर,
प्रयास चला गया,

और प्रकट हुई असफलता,
काले चेहरे वाली, डरावनी सी,
आगे हाथ बढ़ाती हुई,
मेरे सामने आयी,
मैं डरा और सहमा बैठा रहा,
मेरे बाकी साथी हिम्मत और विश्वास भी,
कही दिखायी नहीं दे रहे थे,

ना जाने मेरे गिरते ही,
कहाँ चले गए थे,
मैंने ढूंढा भी नहीं,
और भयभीत होता रहा,
फिर कुछ देर मन से बात की,
हिम्मत, मेरा मित्र लौट आया,
उसने मुझे ढांढस बंधाया,
और मैंने उठने के लिए,
असफलता का हाथ थामा,
इस बार मैं उसके काले चेहरे से,
बिलकुल नहीं डरा,
और हिम्मत के साथ उठा,
मेरे उठते ही मेरा एक और मित्र,
विश्वास, लौट आया,

एक बार फिर मैं इन सब मित्रो के साथ,
निकल पड़ा, तलाशने,
चाहे कितनी ही दूर चली जाए,
कभी तो हाथ आएगी,
सफलता।

अगला लेख: मेरा दोस्त



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
26 जुलाई 2019
रात के बाद फिर रात हुई... ना बादल गरजे न बरसात हुई.. बंजर भूमि फिर हताश हुई.. शिकायत करती हुई आसमान को.. संवेग के साथ फिर निराश हुई.. कितनी रात बीत गयी.. पर सुबह ना हुई.. कितनी आस टूट गयी.. पर सुबह ना हुई.. ना जला चूल्हा, ना रोटी बनी.. प्यास भी थक कर चुपचाप हुई.. निराशा के धरातल पर ही थी आशा.. की एक
26 जुलाई 2019
05 अगस्त 2019
अत्यंत दुर्बल परिस्तिथि में..एक साहसीय भीषण गर्जना,चारो ओर सन्नाटा..आपस में तांकते महा विभोर, दुःख.. कठिनाई.. तनाव.. समस्या..सब खड़े मौन,विस्मित मन से सोच रहे,अब हो गया इनका विरोध,कैसे करेंगे परेशान अब,सुन कर उसकी गर्जना,पीछे खड़ा.. सहमा हुआ डर..डर रहा था आगे आने को,सोच
05 अगस्त 2019
09 अगस्त 2019
रि
यूं रिश्तों में समझौते का पेवंद लगा कर उसे कब तक जोड़ा जाए क्यों ना ज़बरदस्ती वाले रिश्तों की गांठों को आज़ाद किया जाए घुटन में रहने से तो बेहतर है आज़ाद फ़िज़ा में सांस ली जाए क़समों , वादों में उलझी हुई दुनिया से अब क्यों ना चलो किनारा किया जाए अश्मीरा 8/8/19 11:30 am
09 अगस्त 2019
01 अगस्त 2019
समय के प्याले में,जीवन परोसा जा रहा है,अतिथियों का जमघट लगा है,रौशनी झिलमिला रही है,अरे, बुरी किस्मत जी भी आयी है,लगता है, कुछ बिन बुलाये,अतिथि भी आये है,आये नहीं, जिनकी प्रतीक्षा है,स्वयं प्यालो को,विशेष अतिथि के रूप में,कई लोगो का निमंत्रण था,रात के दस बज चुके है,आया नहीं अभी कोई उनमे से,बाकि अतिथ
01 अगस्त 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x