रिश्ते

09 अगस्त 2019   |  अश्मीरा अंसारी   (455 बार पढ़ा जा चुका है)

यूं रिश्तों में समझौते का पेवंद लगा कर उसे

कब तक जोड़ा जाए

क्यों ना ज़बरदस्ती वाले रिश्तों की

गांठों को आज़ाद किया जाए

घुटन में रहने से तो बेहतर है
आज़ाद फ़िज़ा में सांस ली जाए
क़समों , वादों में उलझी हुई दुनिया से
अब क्यों ना चलो किनारा किया जाए
अश्मीरा 8/8/19 11:30 am

अगला लेख: रस्म ए उल्फ़त



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
20 अगस्त 2019
चलो यूं निभाते हैं रस्म ए उल्फ़त हम दोनोंमैं हर दुआ में तुम्हारा नाम लूँहर बार तुम आमीन कह देनामेरा हर सजदा हो आगे तुम्हारेतुम हर बार मेरा काबा बन जानामेरी उँगलियों पे तुम तस्बीह की तरहइश्क़ की आयत लिख जानादोहराती रहूँ बार बार तुम्हें हीमेरे लबों का तुम कलमा बन जानाअश्मीरा 19/8/19 05:10 PM
20 अगस्त 2019
05 अगस्त 2019
अत्यंत दुर्बल परिस्तिथि में..एक साहसीय भीषण गर्जना,चारो ओर सन्नाटा..आपस में तांकते महा विभोर, दुःख.. कठिनाई.. तनाव.. समस्या..सब खड़े मौन,विस्मित मन से सोच रहे,अब हो गया इनका विरोध,कैसे करेंगे परेशान अब,सुन कर उसकी गर्जना,पीछे खड़ा.. सहमा हुआ डर..डर रहा था आगे आने को,सोच
05 अगस्त 2019
03 अगस्त 2019
सितारों, आज कहां छुपे हो?गुंफित से फिर नहीं दिखे होचमक दिखी न दिखा वो नूरकैसे भैया चकनाचूर?~~~~~नहीं दिखेंगे अब से तुमकोक्या मिलेगा हमसे सबकोतिमिर गया न गया वो अंधेरासूरज से ही होत सवेरा !~~~~~~करो न अपने दिल को छोटाछोटे से बढ बनते मोटासूरज भी इक तारा हैतुमसे नहीं वो न्यार
03 अगस्त 2019
29 जुलाई 2019
मोहन के घर से हर शाम उसकी बीवी की बहुत ज़ोर ज़ोर रोने बिलखने की आवाज़ आया करती थी । मोहन रोज़ शराब पि कर आता और घर में ख़ूब तमाशा करता। उसे बस बहाना चाहिए अपनी बीवी पर हाथ उठाने का,आज भी वो नशे में धुत घर में दाखिल होते ही अपनी बीवी पर बरस पड़ा " उमा , उमा कहा हो ज़रा मेरे लिए पानी ले आना, और लड़खड़ाते हुए ह
29 जुलाई 2019
06 अगस्त 2019
बस कुछ ही दूर थी सफलता, दिखाई दे रही थी स्पष्ट, मेरा प्रिय मित्र मन, प्रफुल्लित था, तेज़ प्रकाश में, दृश्य मनोरम था, श्वास अपनी गति से चल रहा था, क्षणिक कुछ हलचल हुई, पैर डगमगाया, सामने अँधेरा छा गया, सँभलने की कोशिश की, किन्तु गिरने से ना रोक पाया अपने आप को, ना जाने कौन था, जो धकेल कर आगे चला गया,
06 अगस्त 2019
02 अगस्त 2019
नानी के यहाँ से जब लौटा था तो नाना जी ने 50/-नानी जी ने 50/-मामा जी और मासी ने 100/- -100/- रुपये दिए थे स्कूल की छुट्टी लगे हुए भी लग भग २० दिन से अधिक हो रहे है वो पैसे भी गुल्लक में रोज़ डालता हूँ और आज पापा ने 50/- रुपये और दे दिए राजू गुल्लक में पैसे डालते हुए अपने गुल्लक से बत्या रहा था। अब इन
02 अगस्त 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x