सुनो मेघदूत!

09 अगस्त 2019   |  रवीन्द्र सिंह यादव   (446 बार पढ़ा जा चुका है)

सुनो मेघदूत!



सुनो मेघदूत!


अब तुम्हें संदेश कैसे सौंप दूँ,


अल्ट्रा मॉडर्न तकनीकी से,


गूँथा गया गगन,

ग़ैरत का गुनाहगार है अब,


राज़-ए-मोहब्बत हैक हो रहे हैं!


हिज्र की दिलदारियाँ,


ख़ामोशी के शोख़ नग़्मे,


अश्क में भीगा गुल-ए-तमन्ना,


फ़स्ल-ए-बहार में,


धड़कते दिल की आरज़ू,


नभ की नीरस निर्मम नीरवता-से अरमान,

मुरादों और मुलाक़ात का यक़ीं,


चातक की पावन हसरत,


अब तुम्हारे हवाले करने से डरता हूँ,


अपने किरदार से कुछ कहने,


अब इंद्रधनुष में रंग भरता हूँ।


© रवीन्द्र सिंह यादव

अगला लेख: नशेमन



रेणु
21 अगस्त 2019

बहुत बड़ा रिस्क है आज मेघों को दूत बनाने के पीछे | कहीं कासिद के रूप में कोई रकीब मन की बात को बाजार ना बना दे क्या पता ? सुंदर शब्द शिल्प में ढली सार्थक रचना आदरणीय रवीन्द्र जी | सादर शुभकामनायें इस भावपूर्ण रचना के लिए |

भई वह कितना contrast है कहाँ खालिस उर्दू-हिज्र की दिलदारियाँ,
ख़ामोशी के शोख़ नग़्मे, और कहाँ शुद्ध हिंदी-नभ की नीरस निर्मम नीरवता-से.
बहुत खूब.
आगे बढ़ते रहें.
वीरेन्द्र

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
06 अगस्त 2019
रि
09 अगस्त 2019
03 अगस्त 2019
19 अगस्त 2019
इं
05 अगस्त 2019
06 अगस्त 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x