" मैं कवि हूँ सरयू तट का"

13 अगस्त 2019   |  सुखमंगल सिंह   (437 बार पढ़ा जा चुका है)

" मैं कवि हूँ सरयू तट का"

---------------------------


मैं कवि हूँ सरयू तट का
समय चक्र के उलट पलट का
मानव मर्यादा की खातिर
सिर्फ अयोध्या खडी हुई ।
चक्र -कुचक्र चला कुछ ऐसा
विश्व की ऑखें गडी हुई।
जबकि सच है मेरी अयोध्या
जाने हाल ;हर घट पनघट का।।


पला- बढ़ा श्रीराम चरण मैं

प्रतिपल मैं भी राहता रण में

भीतर – बाहर किसके क्या है

जान लेता हूँ क्षण मेँ

झटका खा लेता हूँ लेकिन

किसी को नहीं देता झटका

समय चक्र के उलट पलट का

मैं कवि हूँ सरयू तट का ||


संत ऋषियों की हत्या ने

अंत लिख दिया था रावण का

समझा के शिव, उस पर कुपित हुए

जग गया भाग्य, विभीषण का

उसी की जीत सदा होती है

जो है धैर्य और जीवट का

समय चक्र के उलट पलट का

मैं कवि हूँ सरयू तट का ||


राम : लक्ष्मण – भरत-शत्रुघ्न

सदा से पूजित रहे हमारे

इन्हीं के यश से चमक रहे हैं

गृह – नक्षत्र औ नभ के तारे

श्र्द्धा और समर्पण मेँ बस

करता नमन मैं केवट का

समय चक्र के उलट पलट का

मैं कवि हूँ सरयू तट का ||

रावण, राज्य विभीषण चला
श्रीराम जी, चरण गहा
राम राज कैकेई रहकर
वह निज स्वभाव में पली
खल कर राजा दसरथ से
श्रीराम को जंगल मढी।

समय चक्र के उलट पलट का

मैं कवि हूँ सरयू तट का ||


माना सच हर घट-घट का
शंका में खुला अट-पट था
खोट आ पडी रिस्ते में
दावानल दहका निज का।
चक्र चला चर्चा परिचर्चा
जल - जंगल कुचक्र बढा
संतों का नव सत्र चला
रावण का था अंत लिखा

समय चक्र के उलट पलट का

मैं कवि हूँ सरयू तट का |

सुखमंगल सिंह ,वाराणसी

अगला लेख: फिर भी आश्वस्त था



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x