ज़िंदगी तूने क्या किया

06 सितम्बर 2019   |  Shashi Gupta   (540 बार पढ़ा जा चुका है)

ज़िंदगी तूने क्या किया

ज़िदगी तूने क्या किया

*****************

( जीवन की पाठशाला से )


जीने की बात न कर

लोग यहाँ दग़ा देते हैं।


जब सपने टूटते हैं

तब वो हँसा करते हैं।


कोई शिकवा नहीं,मालिक !

क्या दिया क्या नहीं तूने।


कली फूल बन के

अब यूँ ही झड़ने को है।


तेरी बगिया में हम

ऐसे क्यों तड़पा करते हैं ?


ऐ माली ! जरा देख

अब हम चलने को हैं ।


ज़िदगी तुझको तलाशा

हमने उन बाज़ारों में ।


जहाँ बनके फ़रिश्ते

वो क़त्ल किया करते हैं ।


इस दुनियाँ को नज़रों से

मेरी , हटा लो तुम भी।


नहीं जीने की तमन्ना

हाँ, अब हम चलते हैं।


जिन्हें अपना समझा

वे दर्द नया देते गये ।


ज़िंदगी तुझको संवारा

था, कभी अपने कर्मों से ।


पहचान अपनी भी थी

और लोग जला करते थें।


वह क़लम अपनी थी

वो ईमान अपना ही तो था ।


चंद बातों ने किये फिर

क्यों ये सितम हम पर ?


दाग दामन पर लगा

और धुल न सके उसको।


माँ, तेरे स्नेह में लुटा

क्या-क्या न गंवाया हमने ।


बना गुनाहों का देवता

ज़िन्दगी, तूने क्या किया ?


पर,ख़बरदार !सुन ले तू

यूँ मिट सकते नहीं हम भी।


जो तपा है कुंदन - सा

चमक जाती नहीं उसकी ।


- व्याकुल पथिक

अगला लेख: सत्य का अनुसरणःएक यक्ष प्रश्न



आपकी लिखी रचना "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" आज रविवार 08 सितंबर 2019 को साझा की गई है......... "सांध्य दैनिक मुखरित मौन में" पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

Shashi Gupta
08 सितम्बर 2019

धन्यवाद दी

Shashi Gupta
08 सितम्बर 2019

जी प्रणाम दी

कुसुम कोठारी
06 सितम्बर 2019

वाह निराशा से आशा को मूड़ता मन, नकारात्मक ऊर्जा को परे धकेल सकारात्मकता को बढ़ता ।
सार्थक सृजन भाई।

Shashi Gupta
06 सितम्बर 2019

जी आभार दी, प्रणाम

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
02 सितम्बर 2019
ज़ख्म दिल के************(जीवन की पाठशाला)कांटों पे खिलने की चाहत थी तुझमें,राह जैसी भी रही हो चला करते थे ।न मिली मंज़िल ,हर मोड़ पर फिरभी अपनी पहचान तुम बनाया करते थे।है विकल क्यों ये हृदय अब बोल तेरादर्द ऐसा नहीं कोई जिसे तुमने न सहा।ज़ख्म जो भी मिले इस जग से तुझेसमझ,ये पाठशाला है तेरे जीवन की।शुक्रिय
02 सितम्बर 2019
02 सितम्बर 2019
ज़ख्म दिल के************(जीवन की पाठशाला)कांटों पे खिलने की चाहत थी तुझमें,राह जैसी भी रही हो चला करते थे ।न मिली मंज़िल ,हर मोड़ पर फिरभी अपनी पहचान तुम बनाया करते थे।है विकल क्यों ये हृदय अब बोल तेरादर्द ऐसा नहीं कोई जिसे तुमने न सहा।ज़ख्म जो भी मिले इस जग से तुझेसमझ,ये पाठशाला है तेरे जीवन की।शुक्रिय
02 सितम्बर 2019
26 अगस्त 2019
"भारतीय शौर्य गाथा" - कश्मीर - युद्ध की पृष्ठ्भूमि पर आधारित प्रबंध-काव्यरचयिता - स्व. श्री दया शंकर द्विवेदी सम्पादक - श्रीमति आशा त्रिपाठी "क्षमा"
26 अगस्त 2019
25 अगस्त 2019
माँ की छाया ढ़ूंढने में सर्वस्व लुटाने वाले एक बंजारे का दर्द --( जीवन की पाठशाला )--------------------------------------हम न संत बन सके***************शब्द शूल से चुभे , हृदय चीर निकल गये दर्द जो न सह स
25 अगस्त 2019
07 सितम्बर 2019
ऐसे थें मेरे शिक्षक .. *************** विद्वतजनों से भरा सभाकक्ष , मंच पर बैठे शिक्षा विभाग के वरिष्ठ अधिकारी एवं सम्मानित होने वाले वे दर्जन भर शिक्षक जो स्नातकोत्तर महाविद्यालय से लेकर प्राइमरी पाठशालाओं से जुड़े हैं मौजूद थें। सभ
07 सितम्बर 2019

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x