थोड़ा स्वार्थी होना चाहता हूँ मैं

09 सितम्बर 2019   |  अर्चना वर्मा   (448 बार पढ़ा जा चुका है)

कल्पनाओं में बहुत जी चूका मैं

अब इस पल में जीना चाहता हूँ मैं


हो असर जहाँ न कुछ पाने का न खोने का

उस दौर में जीना चाहता हूँ मैं


वो ख्वाब जो कभी पूरा हो न सका

उनसे नज़र चुराना चाहता हूँ मैं


तमाम उम्र देखी जिनकी राह हमने

उन रास्तों से वापस लौटना चाहता हूँ मैं


औरों की फिक्र में जी लिया बहुत

अब अपने अरमान पूरे करना चाहता हूँ मैं


गुज़रा वख्त तो वापस ला नहीं सकता

इसलिए अपने आज को सुधारना चाहता हूँ मैं


चिंताओं में पड़ के अपने आज को खोता रहा मैं

अब उन्मुक्त हो के जीना चाहता हूँ मैं


प्रेम को निस्वार्थ समझ कर, अपनी भावना लुटाता रहा मैं

अब थोड़ा स्वार्थी होना चाहता हूँ मैं


अपने जीवन में एक और दिन नहीं

बल्कि दिन में जीवन जोड़ना चाहता हूँ मैं





कल्पनाओं में बहुत जी चूका मैं

अब इस पल में जीना चाहता हूँ मैं

हो असर जहाँ न कुछ पाने का न खोने का

उस दौर में जीना चाहता हूँ मैं

वो ख्वाब जो कभी पूरा हो न सका

उनसे नज़र चुराना चाहता हूँ मैं

तमाम उम्र देखी जिनकी राह हमने

उन रास्तों से वापस लौटना चाहता हूँ मैं

औरों की फिक्र में जी लिया बहुत

अब अपने अरमान पूरे करना चाहता हूँ मैं

गुज़रा वख्त तो वापस ला नहीं सकता

इसलिए अपने आज को सुधारना चाहता हूँ मैं

चिंताओं में पड़ के अपने आज को खोता रहा मैं

अब उन्मुक्त हो के जीना चाहता हूँ मैं

प्रेम को निस्वार्थ समझ कर, अपनी भावना लुटाता रहा मैं

अब थोड़ा स्वार्थी होना चाहता हूँ मैं

अपने जीवन में एक और दिन नहीं

बल्कि दिन में जीवन जोड़ना चाहता हूँ मैं

Archana Ki Rachna: Preview "थोड़ा स्वार्थी होना चाहता हूँ मैं "

अगला लेख: प्रकृति मानव की



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
11 सितम्बर 2019
कोई शाम ऐसी भी तो हो जब तुम लौट आओ घर को और कोई बहाना बाकी न होमुदत्तों भागते रहे खुद सेजो चाहा तुमने न कहा खुद सेतुम्हारी हर फर्माइश पूरी कर लेने कोकोई शाम ऐसी भी तो होजब
11 सितम्बर 2019
02 सितम्बर 2019
मे
मैनें पूछा के फिर कब आओगे, उसने कहा मालूम नहींएक डर हमेशा रहता है , जब वो कहता है मालूम नहींचंद घडियॉ ही साथ जिए हम , उसके आगे मालूम नहींवो इस धरती का पहरेदार है, जिसे और कोई रिश्ता मालूम नहींउसके रग रग में बसा ये देश मेरा, और मेरा जीव
02 सितम्बर 2019
11 सितम्बर 2019
कोई शाम ऐसी भी तो हो जब तुम लौट आओ घर को और कोई बहाना बाकी न होमुदत्तों भागते रहे खुद सेजो चाहा तुमने न कहा खुद सेतुम्हारी हर फर्माइश पूरी कर लेने कोकोई शाम ऐसी भी तो होजब
11 सितम्बर 2019
02 सितम्बर 2019
मे
मैनें पूछा के फिर कब आओगे, उसने कहा मालूम नहींएक डर हमेशा रहता है , जब वो कहता है मालूम नहींचंद घडियॉ ही साथ जिए हम , उसके आगे मालूम नहींवो इस धरती का पहरेदार है, जिसे और कोई रिश्ता मालूम नहींउसके रग रग में बसा ये देश मेरा, और मेरा जीव
02 सितम्बर 2019
27 अगस्त 2019
मेरी छाँव मे जो भी पथिक आयाथोडी देर ठहरा और सुस्तायामेरा मन पुलकित हुआ हर्षायामैं उसकी आवभगत में झूम झूम
27 अगस्त 2019
14 सितम्बर 2019
आओ दिखाऊं तुम्हें अपनी चमचमाती कारजिस के लिए ले रखा है मैंने उधार दिखावे और प्रतिस्पर्धा में घिर चूका हूँ ऐसे समझ में नहीं आता कब कहा और कैसे किसी के पास कुछ देख के लेने की ज़िद्द करता हूँ एक बच्चे के जैसे और फिर पूरा करता हूँ उधार के पैसे कटवा के अपना वेतन हर बार आओ
14 सितम्बर 2019
27 अगस्त 2019
मेरी छाँव मे जो भी पथिक आयाथोडी देर ठहरा और सुस्तायामेरा मन पुलकित हुआ हर्षायामैं उसकी आवभगत में झूम झूम
27 अगस्त 2019
13 सितम्बर 2019
आज कल ओझल हो गयी है हिंदी एसेमहिलाओं के माथे से बिंदी जैसेकभी जो थोड़ा बहुत कह सुन लेते थे लोगअब उनकी शान में दाग हो हिंदी जैसेलगा है चसका जब से लोगों अंगरेजियत अपनाने काअपने संस्कारों को दे दी हो तिलांजलि जैसेअब तो हाय बाय के पीछे हिंदी मुँह छिपाती हैमात्र भाषा हो
13 सितम्बर 2019
11 सितम्बर 2019
कोई शाम ऐसी भी तो हो जब तुम लौट आओ घर को और कोई बहाना बाकी न होमुदत्तों भागते रहे खुद सेजो चाहा तुमने न कहा खुद सेतुम्हारी हर फर्माइश पूरी कर लेने कोकोई शाम ऐसी भी तो होजब
11 सितम्बर 2019
10 सितम्बर 2019
ना
नारी होना अच्छा है पर उतना आसान नहींमेरी ना मानो तो इतिहास गवाह है किस किस ने दिया यहाँ बलिदान नहीं जब लाज बचाने को द्रौपदी की खुद मुरलीधर को आना पड़ा सभा में बैठे दिग्गजों को
10 सितम्बर 2019
02 सितम्बर 2019
मे
मैनें पूछा के फिर कब आओगे, उसने कहा मालूम नहींएक डर हमेशा रहता है , जब वो कहता है मालूम नहींचंद घडियॉ ही साथ जिए हम , उसके आगे मालूम नहींवो इस धरती का पहरेदार है, जिसे और कोई रिश्ता मालूम नहींउसके रग रग में बसा ये देश मेरा, और मेरा जीव
02 सितम्बर 2019
08 सितम्बर 2019
सि
जब तुम आँखों से आस बन के बहते होउस वख्त तम्हारी और हो जाती हूँ मैंलड़खड़ाती गिरती और संभलती हुईसिर्फ तुम्हारी धुन में नज़र आती हूँ मैंलोगो की नज़रो में अपनी बेफिक्री में मशगूल सीऔर भीतर तुम में मसरूफ खूद को पाती हूँ मैंवो दूरियां
08 सितम्बर 2019
08 सितम्बर 2019
सि
जब तुम आँखों से आस बन के बहते होउस वख्त तम्हारी और हो जाती हूँ मैंलड़खड़ाती गिरती और संभलती हुईसिर्फ तुम्हारी धुन में नज़र आती हूँ मैंलोगो की नज़रो में अपनी बेफिक्री में मशगूल सीऔर भीतर तुम में मसरूफ खूद को पाती हूँ मैंवो दूरियां
08 सितम्बर 2019
11 सितम्बर 2019
कोई शाम ऐसी भी तो हो जब तुम लौट आओ घर को और कोई बहाना बाकी न होमुदत्तों भागते रहे खुद सेजो चाहा तुमने न कहा खुद सेतुम्हारी हर फर्माइश पूरी कर लेने कोकोई शाम ऐसी भी तो होजब
11 सितम्बर 2019
27 अगस्त 2019
मेरी छाँव मे जो भी पथिक आयाथोडी देर ठहरा और सुस्तायामेरा मन पुलकित हुआ हर्षायामैं उसकी आवभगत में झूम झूम
27 अगस्त 2019
02 सितम्बर 2019
मे
मैनें पूछा के फिर कब आओगे, उसने कहा मालूम नहींएक डर हमेशा रहता है , जब वो कहता है मालूम नहींचंद घडियॉ ही साथ जिए हम , उसके आगे मालूम नहींवो इस धरती का पहरेदार है, जिसे और कोई रिश्ता मालूम नहींउसके रग रग में बसा ये देश मेरा, और मेरा जीव
02 सितम्बर 2019
26 अगस्त 2019
ज़ि
ज़िन्दगी मिली जुली धूप छाँव में घुली कभी नमक ज़्यादा तो चीनी कमपर शाही टुकड़े सी लगी दुख ने सुख को पहचाना इन दोनो का मेल पुराना क्या राजा क्या रंक केजिसकी झोली में ये जोड़ी ना मिलीज़िन्दगी मिली जुली धूप
26 अगस्त 2019
12 सितम्बर 2019
हाँ ये सच है, कई बार हुआ है प्यार मुझेहर बार उसी शिद्दत से हर बार टूटा और सम्भ्ला उतनी ही दिक्कत से हर बार नया पन लिये आया सावन हर बार उमंगें नयी, उमीदें नयी पर मेरा समर्पण वहीं हर बार वही शिद्दत हर बार वही दिक्कत हाँ ये सच है, कई बार हुआ है प्यार मुझेहर बार सकारात्मक
12 सितम्बर 2019
10 सितम्बर 2019
ना
नारी होना अच्छा है पर उतना आसान नहींमेरी ना मानो तो इतिहास गवाह है किस किस ने दिया यहाँ बलिदान नहीं जब लाज बचाने को द्रौपदी की खुद मुरलीधर को आना पड़ा सभा में बैठे दिग्गजों को
10 सितम्बर 2019
27 अगस्त 2019
मेरी छाँव मे जो भी पथिक आयाथोडी देर ठहरा और सुस्तायामेरा मन पुलकित हुआ हर्षायामैं उसकी आवभगत में झूम झूम
27 अगस्त 2019
08 सितम्बर 2019
सि
जब तुम आँखों से आस बन के बहते होउस वख्त तम्हारी और हो जाती हूँ मैंलड़खड़ाती गिरती और संभलती हुईसिर्फ तुम्हारी धुन में नज़र आती हूँ मैंलोगो की नज़रो में अपनी बेफिक्री में मशगूल सीऔर भीतर तुम में मसरूफ खूद को पाती हूँ मैंवो दूरियां
08 सितम्बर 2019
02 सितम्बर 2019
मे
मैनें पूछा के फिर कब आओगे, उसने कहा मालूम नहींएक डर हमेशा रहता है , जब वो कहता है मालूम नहींचंद घडियॉ ही साथ जिए हम , उसके आगे मालूम नहींवो इस धरती का पहरेदार है, जिसे और कोई रिश्ता मालूम नहींउसके रग रग में बसा ये देश मेरा, और मेरा जीव
02 सितम्बर 2019
27 अगस्त 2019
मेरी छाँव मे जो भी पथिक आयाथोडी देर ठहरा और सुस्तायामेरा मन पुलकित हुआ हर्षायामैं उसकी आवभगत में झूम झूम
27 अगस्त 2019
11 सितम्बर 2019
कोई शाम ऐसी भी तो हो जब तुम लौट आओ घर को और कोई बहाना बाकी न होमुदत्तों भागते रहे खुद सेजो चाहा तुमने न कहा खुद सेतुम्हारी हर फर्माइश पूरी कर लेने कोकोई शाम ऐसी भी तो होजब
11 सितम्बर 2019
27 अगस्त 2019
मेरी छाँव मे जो भी पथिक आयाथोडी देर ठहरा और सुस्तायामेरा मन पुलकित हुआ हर्षायामैं उसकी आवभगत में झूम झूम
27 अगस्त 2019
02 सितम्बर 2019
मे
मैनें पूछा के फिर कब आओगे, उसने कहा मालूम नहींएक डर हमेशा रहता है , जब वो कहता है मालूम नहींचंद घडियॉ ही साथ जिए हम , उसके आगे मालूम नहींवो इस धरती का पहरेदार है, जिसे और कोई रिश्ता मालूम नहींउसके रग रग में बसा ये देश मेरा, और मेरा जीव
02 सितम्बर 2019
08 सितम्बर 2019
सि
जब तुम आँखों से आस बन के बहते होउस वख्त तम्हारी और हो जाती हूँ मैंलड़खड़ाती गिरती और संभलती हुईसिर्फ तुम्हारी धुन में नज़र आती हूँ मैंलोगो की नज़रो में अपनी बेफिक्री में मशगूल सीऔर भीतर तुम में मसरूफ खूद को पाती हूँ मैंवो दूरियां
08 सितम्बर 2019
10 सितम्बर 2019
ना
नारी होना अच्छा है पर उतना आसान नहींमेरी ना मानो तो इतिहास गवाह है किस किस ने दिया यहाँ बलिदान नहीं जब लाज बचाने को द्रौपदी की खुद मुरलीधर को आना पड़ा सभा में बैठे दिग्गजों को
10 सितम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x