कश्मीर अपना सा लगने लगा|

15 सितम्बर 2019   |  जानू नागर   (6945 बार पढ़ा जा चुका है)

कश्मीर अपना सा लगने लगा|

था देश कभी एक, भारत को टुकड़ो में बाटा गया|

करके टुकड़ो में हमें, एक बार नहीं, कई बार लूटा गया|

ब्यापार जब से शुरू हुआ, हम लूटते ही रहे...|

अकबर धान,पान, केला, लाया, अयोध्या में मस्जिद बनवाया|

कर अमीरों से सौदा, ईस्ट इण्डिया कम्पनी भारत में बन गई|

कर किसानो का दोहन, किसानो से नील की खेती कराई गई|

मौत के सिरफिरे हम, उनकी नजरो में बनाए गए|

बिना बात के सिरफिरों को, फांसी का फंदा पहनाया गया|

चली चाल फिर से तीमारदारो ने, पढी थी पढाई जो विदेशों में|

कर के आन्दोलन, किसान, गरीब जनता को बरगलाया गया|

भेज अंग्रेजो को उनके देश, जीत हमने हासिल किए|

भारत को फिर से टुकड़ो में बाटा गया, कह विरोधी मुसलमानों को|

कर भारत का खंडन, पाकिस्तना, बांग्लादेश बनाया गया|

एक तरफ बनते रहे एन आर आई, दूसरी तरफ आतंकवाद पलता रहा|

करके तवाह बार्डर के बंकरो को, देश में घुसपैठ करता रहा पाकिस्तान|

भारतीय वीर जवानों की लाशे बिछाता हुआ|

भाई चारे के नाम पर, पान सेब की पेटियाँ भेजता रहा|

थी खामोश कांग्रेस की जुबा, यह सब चुप शांत सहता रहा|

कई साल पुरानी बातों को सहते हुए, सब्र का बांध टूटने लगा|

जागा जब जूनून भारत देश का, अब कश्मीर अपना सा लगने लगा|

अगला लेख: युवा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
22 सितम्बर 2019
कब बड़े हो गए?वह दिन कितने सुन्दर, जिन्हें साथ गुजारा कभी|मिलने की चाहत हैं, मिलेंगे कही यादों भरी राहमें|बहते देखता हैं नदी की, उठती-गिरती तरंगो में |पूछता हूँ पता उन तरंगो से, जो आती हैं कही से|मिलने के अरमान सजते हैं, दिल के किसे कोने में|रखी हैं तस्वीर उनकी, बिछौने के सिरहाने में|देखकर आह भरता हू
22 सितम्बर 2019
17 सितम्बर 2019
अटल पेंशन योजना (या एपीवाई, जिसे पहले स्वावलंबन योजना के रूप में जाना जाता था) भारत सरकार समर्थित एक पेंशन योजना है, जो मुख्य रूप से असंगठित क्षेत्र में काम कर रहे लोगों को ध्यान में रख कर निर्धारित किया गया है। जिसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने 9 मई को कोलकाता में लॉन्च
17 सितम्बर 2019
19 सितम्बर 2019
नै
नैनों से दिल में उतर गई|दिल में थी सुबह, शाम कर गई |बहे नीर रातों में उसके लिए|गीला बिस्तर वह कर गई|बदलते रहे करवटे रात भर |न उसका कोई न अपना कोई| नैनों से दिल में उतर गई|दिल में थी सुबह, शाम कर गई |बड़ी मुद्दतो से बसाई तस्वीर उसकी अपने आँसूओमें|पूछ न सके उसका पता, दिल पर कई
19 सितम्बर 2019
20 सितम्बर 2019
यु
युवा नौकरी का टैग पाने के लिए घर परिवार से दूरहोकर डिप्रेशन में हैं युवा|कर एम.फिल. पीएचडी शर्मसार है युवा, कर पढाईलिखाई बेरोजगार हैं युवा|गुजर रही आधी उम्र पढाई में, बाकी की उम्र में बीमारहैं युवा |निकलती हैं नौकरी आठवी पास की, उसमे भी साईकिलचलाने को तैयार है युवा|शादी -विवाह की बात छोडो, खुद का पे
20 सितम्बर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x