कश्मीर अपना सा लगने लगा|

15 सितम्बर 2019   |  जानू नागर   (6918 बार पढ़ा जा चुका है)

कश्मीर अपना सा लगने लगा|

था देश कभी एक, भारत को टुकड़ो में बाटा गया|

करके टुकड़ो में हमें, एक बार नहीं, कई बार लूटा गया|

ब्यापार जब से शुरू हुआ, हम लूटते ही रहे...|

अकबर धान,पान, केला, लाया, अयोध्या में मस्जिद बनवाया|

कर अमीरों से सौदा, ईस्ट इण्डिया कम्पनी भारत में बन गई|

कर किसानो का दोहन, किसानो से नील की खेती कराई गई|

मौत के सिरफिरे हम, उनकी नजरो में बनाए गए|

बिना बात के सिरफिरों को, फांसी का फंदा पहनाया गया|

चली चाल फिर से तीमारदारो ने, पढी थी पढाई जो विदेशों में|

कर के आन्दोलन, किसान, गरीब जनता को बरगलाया गया|

भेज अंग्रेजो को उनके देश, जीत हमने हासिल किए|

भारत को फिर से टुकड़ो में बाटा गया, कह विरोधी मुसलमानों को|

कर भारत का खंडन, पाकिस्तना, बांग्लादेश बनाया गया|

एक तरफ बनते रहे एन आर आई, दूसरी तरफ आतंकवाद पलता रहा|

करके तवाह बार्डर के बंकरो को, देश में घुसपैठ करता रहा पाकिस्तान|

भारतीय वीर जवानों की लाशे बिछाता हुआ|

भाई चारे के नाम पर, पान सेब की पेटियाँ भेजता रहा|

थी खामोश कांग्रेस की जुबा, यह सब चुप शांत सहता रहा|

कई साल पुरानी बातों को सहते हुए, सब्र का बांध टूटने लगा|

जागा जब जूनून भारत देश का, अब कश्मीर अपना सा लगने लगा|

अगला लेख: युवा



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
16 सितम्बर 2019
Mahatma Gandhi Biography- भारत के राष्ट्रपिता के रूप में पहचाने जाने वाले महात्मा गांधी का दर्जा आज भी बहुत ऊंचा है। भारतीय मुद्रा हो या फिर कोई सड़क का नाम हर जगह महात्मा गांधी को आज भी सम्मान दिया जाता है। उनकी तस्वीरें सरकारी भवनों में नजर आती हैं और इसके अलावा 15
16 सितम्बर 2019
24 सितम्बर 2019
200 साल गुलामी झेलने के बाद जब भारत ने आजादी हासिल की थी। ये पूरे देश के लिए बहुत खुशी का पल था और उन आत्मा को शांति भी प्राप्ति हुई होगी जिन्होंने अपने जन्म से हर सांस आजादी के लिए लगा दी। बहुत से क्रांतिकारियों ने अपने प्राण गवां दिये क्योंकि भारत को आजाद करना था। फ
24 सितम्बर 2019
05 सितम्बर 2019
दो
दोआब का पागलमै पागल हूँ दोआब का, कभी इधर गिरा, कभी उधर गिरा।एक तरफ भृगु मुनि का घाट, दूसरी तरफ मौरंग के घाट।एक तरफ मानव की भीड़, दूसरी तरफ ट्रको भीड़।मै हूँ पागल दोआब का।एक तरफ पार हुआ सटासट, दूजी तरफ पीपा पुल यमुना में डोल रहा।एक तरफ कर स्नान पुजारी, पूजा मन्दिर में करता है।दूसरी तरफ हो सवार नाव में
05 सितम्बर 2019
18 सितम्बर 2019
एक शाम के लिए|हसती मुस्कराती दिन को गुजारती|कर काम घर पर, बिस्तर सवांरती|दिन भर की आवाजे तंग करती उसे|दिन में तरह-तरह के ब्यंग भरती वह|लौटती दोपहरी, जीवन के नएपन में|हसता खिलखिलाता बचपन लौट आता|बदल कपडे, दे कटोरा, दूधभात भरा हाथ में|चौखट की माथे पर बैठ, मै कई निवाले खाती|माँ अक्सर बैठ आँगन में, पूस
18 सितम्बर 2019
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x