सजदा

21 सितम्बर 2019   |  Shashi Gupta   (496 बार पढ़ा जा चुका है)

सजदा


सजदा

*******


न कभी सजदा किया

ना दुआ करते हैं हम

दिल से दिल को मिलाया

बोलो,ये इबादत क्या कम है।


दर्द जो भी मिला

ख़ुदा ! तेरी दुनियाँ से

कोई शिकवा न किया

बोलो,ये बंदगी क्या कम है ।


कांटों के हार को समझ

नियति का उपहार

हर चोट पे मुस्कुराया

बोलो,ये सब्र क्या कम है।


अपनों से मिले ज़ख्म पे

ग़ैरों ने लगाया नमक

बिन मरहम काट लिये वक्त

बोलो,ये सजा क्या कम है ।


बारिश में छुपा अपने "अश्क़ "

मिटा असली-नकली का भेद

सावन में दिल को जलाया

बोलो ,ये तप क्या कम है।

शूल बन चुभते रहे वो बोल

राज यह भी किया दफ़न

फ़क़ीर बन होकर मौन

बोलो, ये वफ़ा क्या कम है।


सजदे का क्यों करते मोल

ये मेरे गुनाहों की माफी है

अल्लाह की तारीफ और

पैग़ाम इंसानियत का है !


रिश्ते में भी होते हैं सजदे

मतलबी इंसानों की बस्ती में

इसे कोई करे न करे क़ुबूल

सुनो,ये तो अपनी क़िस्मत है ।

व्याकुल पथिक

जीवन की पाठशाला


अगला लेख: पथिक ! जो बोया वो पाएगा



कुसुम कोठारी
26 सितम्बर 2019

जीवन की पाठशाला का सबक कड़वा हैं, पर रचना बहुत ही सार्थक और मनको छूने वाली है ।
बहुत गहनता लिए अनुपम अभिव्यक्ति।

Shashi Gupta
27 सितम्बर 2019

आभार दी

अभिलाषा चौहान
23 सितम्बर 2019

बेहतरीन रचना

Shashi Gupta
27 सितम्बर 2019

प्रणाम दी

Shashi Gupta
22 सितम्बर 2019

आभार एवं प्रणाम मीना दी

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
19 सितम्बर 2019
19 सितम्बर 2019
12 सितम्बर 2019
ख़ामोश होने से पहले **************** ख़ामोश होने से पहले हमने देखा है दोस्त, टूटते अरमानों और दिलों को, सर्द निगाहों को सिसकियों भरे कंपकपाते लबों को और फिर उस आखिरी पुकार को रहम के लिये गिड़गिड़ाते जुबां को बदले में मिले उ
12 सितम्बर 2019
01 अक्तूबर 2019
पथिक ! जो बोया वो पाएगा------. अंतराष्ट्रीय वृद्ध दिवस पर********************* बारिश में भींगने के कारण पिछले चार-पांच दिनों से गंभीर रूप से अस्वस्थ हूँ। स्थिति यह है कि बिस्तरे पर से कुर्सी पर बैठन
01 अक्तूबर 2019
03 अक्तूबर 2019
गाँधी तेरा सत्य ही मेरा दर्पण**********************" हम कोई महात्मा गाँधी थोड़े ही हैं कि समाजसेवा की दुकान खोल रखी है। किसी दूसरे विद्यालय में दाखिला करवा लो अपने बच्चे का.." पिता जी के स्वभाव में अचानक
03 अक्तूबर 2019
07 सितम्बर 2019
ऐसे थें मेरे शिक्षक .. *************** विद्वतजनों से भरा सभाकक्ष , मंच पर बैठे शिक्षा विभाग के वरिष्ठ अधिकारी एवं सम्मानित होने वाले वे दर्जन भर शिक्षक जो स्नातकोत्तर महाविद्यालय से लेकर प्राइमरी पाठशालाओं से जुड़े हैं मौजूद थें। सभ
07 सितम्बर 2019
18 सितम्बर 2019
जीवन की रामकहानी कितने ही दिन मास वर्ष युग कल्प थक गए कहते कहते पर जीवन की रामकहानी कहते कहते अभी शेष है || हर क्षण देखो घटता जाता साँसों का यह कोष मनुज का और उधर बढ़ता जाता है वह देखो व्यापार मरण का ||सागर सरिता सूखे जाते, चाँद सितारे टूटे जाते पर पथराई आँखों में कुछ बहता पानी अभी शेष है ||एक ईं
18 सितम्बर 2019
16 सितम्बर 2019
पितृपक्ष चल रहा है | सभी हिन्दू धर्मावलम्बी अपने दिवंगत पूर्वजों के प्रति श्रद्धासुमन समर्पित कर रहे हैं | हमने भी प्रतिपदा को माँ का श्राद्ध किया और अब दशमी कोपिताजी का करेंगे | कुछ पंक्तियाँ इस अवसर पर अनायास ही प्रस्फुटित हो गईं... सुधीपाठकों के लिए समर्पित हैं...भरी भीड़ में मन बेचारा खड़ा हुआ कुछ
16 सितम्बर 2019

शब्दनगरी से जुड़िये आज ही

सम्बंधित
लोकप्रिय
29 सितम्बर 2019
15 सितम्बर 2019
13 सितम्बर 2019
01 अक्तूबर 2019
17 सितम्बर 2019
23 सितम्बर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x