विश्व शांति दिवस पर

21 सितम्बर 2019   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (491 बार पढ़ा जा चुका है)

बीत गये दिन शांति पाठ के,

तुमुल युद्ध के बज उठे नगाड़े।

विश्व प्रेम से ओत - प्रोत आज

पश्चिम उत्तर से वीर दहाड़े।।

विश्व बंधुत्व महालक्ष्य हमारा,

नहीं बचे एक भी सर्वहारा।

जातिवादिता और आरक्षण हटाओ।

यह चक्रव्यूह तोड़ मानवता लाओ।।

हर घर तक अन्न पहुचाँ कर हीं,

हे मानववादियों! अन्न खाओ।।

शांति तो श्मशान में हीं होती है।

अशांत मन हीं निस्तारण खोज,

विश्व सरकार की शुभकामना करती है।

क्रांति दूतों, हुंकृति भर मशाल जलाओ।।

मयपन से विलग ब्रहत्व मानव पा जाओ।

घर - घर में मिल जुल क्रांति दीप जलाओ।।

ऋणबोधभावों का समन कर पूर्ण हो जाओ।

ऊँ शांति का प्रथम ऊँ गह अग्नि वाण चलाओ।।


डॉ. कवि कुमार निर्मल

अगला लेख: एषणा और उपलब्धि



"आजाद कबुतर" शांति का प्रतीक है
कैद मानव यहाँ, सख्त बँधी जंजीर है

अनिलकुमार सोनी
22 सितम्बर 2019

अतिसुन्दर

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
03 अक्तूबर 2019
खि
मुझसे आँख मिलाठहर सकते नहीं।आगोश में भर करझिटक सकते नहीं।।जुनून है तो सात समन्दरपार आ गले लग जाओ।वरना झूठी चकाचौंध मेंबस कर मिट जाओ।।डॉ. कवि कुमार निर्मल
03 अक्तूबर 2019
10 सितम्बर 2019
मैं कई गन्जों को कंघे बेचता हूँएक सौदागर हूँ सपने बेचता हूँकाटता हूँ मूछ पर दाड़ी भी रखता और माथे के तिलक तो साथ रखता नाम अल्ला का भी शंकर का हूँ लेताहै मेरा धंधा तमन्चे बेचता हूँएक सौदागर हूँ ...धर्म का व्यापार मुझसे पल रहा हैदौर अफवाहों का मुझसे चल रहा है यूँ नहीं
10 सितम्बर 2019
04 अक्तूबर 2019
🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺*"काव्य सरिता" घर-घर बहती है!**कवि-मन को व्यथित करती है!!**अन्न-जल त्याग "देवी जी" बैठी है!**"दुर्गा" का मानो 'अवतार' हुआ है!!**'क्षत-विक्षत' सारा 'घर-बार' हुआ है!**ठप्प कलह-द्वद्व से व्यापार हुआ है!!**"पाठ-मंचन" से नहीं त्राण मिलना है!**ऋणम् लेवेत-धृतम् पिवेत वरना है!!**कलश स्
04 अक्तूबर 2019
23 सितम्बर 2019
कल मिलुँगा मैं तुझे,किस हाल में (?)कोई कहीं लिखा पढ़-कह नहीं सकता।नसीब के संग जुटा हूँ-ओ' मेरे अहबाब,अहल-ए-तदबीर में मगर,कोताही कर नहीं सकता।।के. के.
23 सितम्बर 2019
19 सितम्बर 2019
19 सितम्बर 2019
15 सितम्बर 2019
"
*गुम हो गए संयुक्त परिवार**एक वो दौर था* जब पति, *अपनी भाभी को आवाज़ लगाकर* घर आने की खबर अपनी पत्नी को देता था । पत्नी की छनकती पायल और खनकते कंगन बड़े उतावलेपन के साथ पति का स्वागत करते थे । बाऊजी की बातों का.. *”हाँ बाऊजी"* *"जी बाऊजी"*' के अलावा दूसरा जवाब नही होता था ।*आज बेटा बाप से बड़ा हो गया
15 सितम्बर 2019
16 सितम्बर 2019
पितृपक्ष चल रहा है | सभी हिन्दू धर्मावलम्बी अपने दिवंगत पूर्वजों के प्रति श्रद्धासुमन समर्पित कर रहे हैं | हमने भी प्रतिपदा को माँ का श्राद्ध किया और अब दशमी कोपिताजी का करेंगे | कुछ पंक्तियाँ इस अवसर पर अनायास ही प्रस्फुटित हो गईं... सुधीपाठकों के लिए समर्पित हैं...भरी भीड़ में मन बेचारा खड़ा हुआ कुछ
16 सितम्बर 2019
01 अक्तूबर 2019
'कलाकृतिश्रष्टाओं' को नमन् है।''प्रतिमा'' का 'विसर्जन गलत है।।सगुण साधना का प्रथम चरण है।ईश्वरत्व हेतु "अंत: यात्रा" तंत्र है।।🙏 डॉ. कवि कुमार निर्मल 🙏
01 अक्तूबर 2019
06 अक्तूबर 2019
★★★★★★★★★★★★★★आजूबाजू में हैं- मोबाइल खेलते हैं!चाँद है पास हमिमून तक भूलते हैं!!★★★★★★★★★★★★★★दिल धड़कता है महसूस गर करते।राह पर चलते, गर नहीं- बहकते।।ठहर जाना हीं काबलियत है।खुशबुओं में बह जाना हीं ज़िंदगी है।।दिल धड़कता है महसूस गर करते।राह पर चलते, गर नहीं बहकते।।★★डॉ. कवि कुमार निर्मल★★
06 अक्तूबर 2019
19 सितम्बर 2019
19 सितम्बर 2019
17 सितम्बर 2019
17 सितम्बर 2019
18 सितम्बर 2019
जीवन की रामकहानी कितने ही दिन मास वर्ष युग कल्प थक गए कहते कहते पर जीवन की रामकहानी कहते कहते अभी शेष है || हर क्षण देखो घटता जाता साँसों का यह कोष मनुज का और उधर बढ़ता जाता है वह देखो व्यापार मरण का ||सागर सरिता सूखे जाते, चाँद सितारे टूटे जाते पर पथराई आँखों में कुछ बहता पानी अभी शेष है ||एक ईं
18 सितम्बर 2019
01 अक्तूबर 2019
'कलाकृतिश्रष्टाओं' को नमन् है।''प्रतिमा'' का 'विसर्जन गलत है।।सगुण साधना का प्रथम चरण है।ईश्वरत्व हेतु "अंत: यात्रा" तंत्र है।।🙏 डॉ. कवि कुमार निर्मल 🙏
01 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
अँ
22 सितम्बर 2019
17 सितम्बर 2019
05 अक्तूबर 2019
23 सितम्बर 2019
17 सितम्बर 2019
21 सितम्बर 2019
03 अक्तूबर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x