लहरों को बाँधे आँचल में तुम....!

25 सितम्बर 2019   |  कुंवर सर्वेंद्र विक्रम सिंह   (3647 बार पढ़ा जा चुका है)

लहरों को बाँधे आँचल में तुम....!

लहरों को बाँधे आँचल में तुम....!

_______________________________


लहरों को बाँधे आँचल में तुम

सागर उमड़ने को है अकुलाया

प्यासा भटकेगा युग-युग सावन

बूँदों को तूने ना लौटाया


लहरों को बाँधे आँचल में तुम

सागर उमड़ने को है अकुलाया


गजरे को बाँधे बालों में तुम

गुलशन सँवरने को है बौराया

यूँ हीं तड़पेंगे काँटे बेचारे

फूलों को तूने ना लौटाया


लहरों को बाँधे आँचल में तुम

सागर उमड़ने को है अकुलाया


किरणों को बाँधे नैनों में तुम

सूरज बिखरने को है कसमसाया

कैसे चमकेंगे अम्बर में तारे

चंदा को तूने ना लौटाया


लहरों को बाँधे आँचल में तुम

सागर उमड़ने को है अकुलाया



—कुँवर सर्वेंद्र विक्रम सिंह


*यह मेरी स्वरचित रचना है |


अगला लेख: थम जाये पहिया समय का....!



अभिलाषा चौहान
27 सितम्बर 2019

बेहतरीन रचना

जी, हृदयतल से आपका बहुत-बहुत आभार....! 🌹🙏🌹

शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x