आर्यावर्त

28 सितम्बर 2019   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (435 बार पढ़ा जा चुका है)

👁️👁️👁️👁️👁️👁️👁️👁️

शरहद की ओर तकने वालों के

संग 'खून की होली' वीर खेलते।

शरहद की ओर तकते वालों के

संग खून की होली बाँकुणे खेलते।।


कौन धृष्ट कहता "एल. ओ. सी."

की तरफ न भारतीयों तुम देखो!

शरहद पार कर हमने खदेड़ा

पुलवामा को जा जरा देखो!!


'सोने की चिड़िया' को अरे

बहुतो ने सदियों था नोचा।

संभल गये अब हम- बहुत,

इस पार आने की न सोंचो।।


पसीना बहा बहुत हमने

अपने वतन को सींचा है।

सूखी रोटी मिलती दो जून,

न कहना स्वाद फिका हैं।।


बुलंद हमारा भारत है अब

फिर आर्यावर्त बन सँवरेगा।

हर घर में लक्ष्मी कुबेर को

आह्लादित उदार देखेगा।।


ऋषियों को सत् - सत् नमन् हमारा

आज भी 'पितृ यज्ञ' है हमने किया।

आशिर्वाद है संग उन "पुरखों" का

भरपूर हमने झोऐ भर भर लिया।।


रणबांकुणे हमारे युद्धभूमि में

मर कर भी अमरत्व हैं पाते।

शरहद की ओर तकने वालों के

संग 'खून की होली' वीर खेलते।।


डॉ. कवि कुमार निर्मल ©®

🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️

अगला लेख: विश्व शांति दिवस पर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
09 अक्तूबर 2019
🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺मनुष्य के अंदर सब कुछ जाननेवाला जो बैठा है वही है भगवान्।ओत-प्रोत योग से वे हर क्षण हमारे साथ हैं।याने, हम अकेले कदापि नहीं।जब अनंत शक्तिशाली हमारे साथ हैंतो हम असहाय कैसे हो सकते हैं?डर की भावना कभी नहीं रहनी चाहिए--जैसे एक परमाणु है जिसमें एकनाभि है तथा एलेक्ट्रोन्स अपनीधूरि पर
09 अक्तूबर 2019
06 अक्तूबर 2019
★★★★★★★★★★★★★★आजूबाजू में हैं- मोबाइल खेलते हैं!चाँद है पास हमिमून तक भूलते हैं!!★★★★★★★★★★★★★★दिल धड़कता है महसूस गर करते।राह पर चलते, गर नहीं- बहकते।।ठहर जाना हीं काबलियत है।खुशबुओं में बह जाना हीं ज़िंदगी है।।दिल धड़कता है महसूस गर करते।राह पर चलते, गर नहीं बहकते।।★★डॉ. कवि कुमार निर्मल★★
06 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
स्
संपादन का विकल्प नहीं मिल रहा, हठात लिखी रचना वा डाली छवि में संशोधनार्थ?
09 अक्तूबर 2019
30 सितम्बर 2019
युग संधि का शंखनाद् गुँजायमान् गुँजायमान्अष्ट पाश पर आरुड़ शक्तिमान्🔯 श्रीमद्भागवद्गीता 🔯 🌹🌹🌹🌹🌹 *प्रथम अध्याय * ************* देख अचंभित धृतराष्ट्र हुआ , कहे दिव्यद्रष्टा संजय
30 सितम्बर 2019
17 सितम्बर 2019
17 सितम्बर 2019
03 अक्तूबर 2019
श्
आनंद*: 🕉 श्रीमद्भगद्गीता 🕉 ************ * अध्याय 1* """"""""मेरा भला नहीं है संभव , संबंधियों को यहाँ मारकर ।चाहूँ नहीं मैं राज्य वैभव , मौत के घाट सब उतारकर।।31।। 💥हे कृष्ण अब ऐसे राज्य की , सुख की मुझे चाहत नहीं है ।न राजभोगी कामना बची दुख ही म
03 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x