आर्यावर्त

28 सितम्बर 2019   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (436 बार पढ़ा जा चुका है)

👁️👁️👁️👁️👁️👁️👁️👁️

शरहद की ओर तकने वालों के

संग 'खून की होली' वीर खेलते।

शरहद की ओर तकते वालों के

संग खून की होली बाँकुणे खेलते।।


कौन धृष्ट कहता "एल. ओ. सी."

की तरफ न भारतीयों तुम देखो!

शरहद पार कर हमने खदेड़ा

पुलवामा को जा जरा देखो!!


'सोने की चिड़िया' को अरे

बहुतो ने सदियों था नोचा।

संभल गये अब हम- बहुत,

इस पार आने की न सोंचो।।


पसीना बहा बहुत हमने

अपने वतन को सींचा है।

सूखी रोटी मिलती दो जून,

न कहना स्वाद फिका हैं।।


बुलंद हमारा भारत है अब

फिर आर्यावर्त बन सँवरेगा।

हर घर में लक्ष्मी कुबेर को

आह्लादित उदार देखेगा।।


ऋषियों को सत् - सत् नमन् हमारा

आज भी 'पितृ यज्ञ' है हमने किया।

आशिर्वाद है संग उन "पुरखों" का

भरपूर हमने झोऐ भर भर लिया।।


रणबांकुणे हमारे युद्धभूमि में

मर कर भी अमरत्व हैं पाते।

शरहद की ओर तकने वालों के

संग 'खून की होली' वीर खेलते।।


डॉ. कवि कुमार निर्मल ©®

🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️

अगला लेख: विश्व शांति दिवस पर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 सितम्बर 2019
जय हो- अमर सृजन होदग्ध मानवता- रक्षित होअष्टपाश- सट् ऋपु मुर्छित हों''नवचक्र'' आह्वाहन जागृत होंकीर्तित्व उजागर - बर्धित होंशंखनाद् प्रचण्ड, कुण्डल शोभित होंकवि का हृदयांचल अजर - अमर होजय हो! 'वीणा वादनी' की जय हो!! 🙏 डॉ. कवि कुमार निर्मल 🙏
17 सितम्बर 2019
23 सितम्बर 2019
कल मिलुँगा मैं तुझे,किस हाल में (?)कोई कहीं लिखा पढ़-कह नहीं सकता।नसीब के संग जुटा हूँ-ओ' मेरे अहबाब,अहल-ए-तदबीर में मगर,कोताही कर नहीं सकता।।के. के.
23 सितम्बर 2019
06 अक्तूबर 2019
★★★★★★★★★★★★★★आजूबाजू में हैं- मोबाइल खेलते हैं!चाँद है पास हमिमून तक भूलते हैं!!★★★★★★★★★★★★★★दिल धड़कता है महसूस गर करते।राह पर चलते, गर नहीं- बहकते।।ठहर जाना हीं काबलियत है।खुशबुओं में बह जाना हीं ज़िंदगी है।।दिल धड़कता है महसूस गर करते।राह पर चलते, गर नहीं बहकते।।★★डॉ. कवि कुमार निर्मल★★
06 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺मनुष्य के अंदर सब कुछ जाननेवाला जो बैठा है वही है भगवान्।ओत-प्रोत योग से वे हर क्षण हमारे साथ हैं।याने, हम अकेले कदापि नहीं।जब अनंत शक्तिशाली हमारे साथ हैंतो हम असहाय कैसे हो सकते हैं?डर की भावना कभी नहीं रहनी चाहिए--जैसे एक परमाणु है जिसमें एकनाभि है तथा एलेक्ट्रोन्स अपनीधूरि पर
09 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
स्
संपादन का विकल्प नहीं मिल रहा, हठात लिखी रचना वा डाली छवि में संशोधनार्थ?
09 अक्तूबर 2019
15 सितम्बर 2019
"
*गुम हो गए संयुक्त परिवार**एक वो दौर था* जब पति, *अपनी भाभी को आवाज़ लगाकर* घर आने की खबर अपनी पत्नी को देता था । पत्नी की छनकती पायल और खनकते कंगन बड़े उतावलेपन के साथ पति का स्वागत करते थे । बाऊजी की बातों का.. *”हाँ बाऊजी"* *"जी बाऊजी"*' के अलावा दूसरा जवाब नही होता था ।*आज बेटा बाप से बड़ा हो गया
15 सितम्बर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
19 सितम्बर 2019
30 सितम्बर 2019
17 सितम्बर 2019
01 अक्तूबर 2019
खि
03 अक्तूबर 2019
17 सितम्बर 2019
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x