"साधु और साधुता"

05 अक्तूबर 2019   |  डॉ कवि कुमार निर्मल   (490 बार पढ़ा जा चुका है)

"साधु और साधुता"

भगुआ वस्त्र धारण कर साधु नहीं बन कोई सकता।

जीव को प्रिय है प्राण, हंता नहीं साधु बन सकता

अहिंसा का पाठ तामसिक वस्त्रधारी पढ़ा नहीं सकता।

सात्विक बन कर हीं कोई सच्चा साधु बन भगुआ धारण कर सकता।।

डॉ. कवि कुमार निर्मल

अगला लेख: विश्व शांति दिवस पर



शब्दनगरी पर हो रही अन्य चर्चायें
17 अक्तूबर 2019
सृ
साहित्य श्रिंखलाअद्भुत हैअभिव्यक्ति कीस्वतंत्रता हैसृजन में संस्कृति कीनैसर्गिक माला पिरोयेंमानववादियों को अतिशिध्रएक मंच पर लायेंडॉ. कवि कुमार निर्मल
17 अक्तूबर 2019
09 अक्तूबर 2019
🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺मनुष्य के अंदर सब कुछ जाननेवाला जो बैठा है वही है भगवान्।ओत-प्रोत योग से वे हर क्षण हमारे साथ हैं।याने, हम अकेले कदापि नहीं।जब अनंत शक्तिशाली हमारे साथ हैंतो हम असहाय कैसे हो सकते हैं?डर की भावना कभी नहीं रहनी चाहिए--जैसे एक परमाणु है जिसमें एकनाभि है तथा एलेक्ट्रोन्स अपनीधूरि पर
09 अक्तूबर 2019
01 अक्तूबर 2019
'कलाकृतिश्रष्टाओं' को नमन् है।''प्रतिमा'' का 'विसर्जन गलत है।।सगुण साधना का प्रथम चरण है।ईश्वरत्व हेतु "अंत: यात्रा" तंत्र है।।🙏 डॉ. कवि कुमार निर्मल 🙏
01 अक्तूबर 2019
04 अक्तूबर 2019
🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺*"काव्य सरिता" घर-घर बहती है!**कवि-मन को व्यथित करती है!!**अन्न-जल त्याग "देवी जी" बैठी है!**"दुर्गा" का मानो 'अवतार' हुआ है!!**'क्षत-विक्षत' सारा 'घर-बार' हुआ है!**ठप्प कलह-द्वद्व से व्यापार हुआ है!!**"पाठ-मंचन" से नहीं त्राण मिलना है!**ऋणम् लेवेत-धृतम् पिवेत वरना है!!**कलश स्
04 अक्तूबर 2019
सम्बंधित
लोकप्रिय
आज के प्रमुख लेख
आसान हिन्दी  [?]
तीव्र हिंदी  [?]
ऑनस्क्रीन कीबोर्ड  [?]
हिन्दी टाइपिंग  [?]
डिफ़ॉल्ट कीबोर्ड  [?]

(फोन के लिए विकल्प)
X
1 2 3 र्4 ज्ञ5 त्र6 क्ष7 श्र8 (9 )0 --   =
q w e r t y u i o p [   ]
a s d िfि g h  j k l ; '  \
  z x c  v  b n m ,, .. ?/ एंटर
शिफ्ट                                                         शिफ्ट बैकस्पेस
x